alwar political news हरियाणा विधानसभा चुनाव: रोटी-बेटी के रिश्ते का वास्ता देकर मांग रहे वोट

alwar political news हरियाणा विधानसभा चुनाव: रोटी-बेटी के रिश्ते का वास्ता देकर मांग रहे वोट
alwar political news हरियाणा विधानसभा चुनाव: रोटी-बेटी के रिश्ते का वास्ता देकर मांग रहे वोट

Prem Pathak | Updated: 13 Oct 2019, 06:00:00 AM (IST) Alwar, Alwar, Rajasthan, India

alwar political news हरियाणा में 21 अक्टूबर को होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर सरगर्मी तेज होने के साथ ही रोटी-बेटी के रिश्ते के साथ जुड़े सीमावर्ती राजस्थान के पार्टी नेताओं की मांग भी हरियाणा में बढ़ गई है।

alwar political news हरियाणा में 21 अक्टूबर को होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर सरगर्मी तेज होने के साथ ही रोटी-बेटी के रिश्ते के साथ जुड़े सीमावर्ती राजस्थान के पार्टी नेताओं की मांग भी हरियाणा में बढ़ गई है। जिसके चलते बहरोड़ क्षेत्र के नेता अपने समर्थकों के साथ सुबह जल्दी प्रचार में निकलते हैं और रिश्तेदारी का हवाला देते हुए अपनी- अपनी पार्टी के प्रत्याशियों के लिए वोट मांगने का काम कर रहे हैंं। क्षेत्र के सीमावर्ती हरियाणा के अटेली, महेन्द्रगढ, नारनौल, नांगल चौधरी, बावल, रेवाड़ी सहित आसपास जुड़े विधानसभा चुनावों में कांगे्रस व भाजपा पार्टी के प्रत्याशियों के लिए जनसम्पर्क में स्थानीय नेताओं की मांग हरियाणा में बढी है तो कुछ नेता अपने चुनाव में की गई मदद का अहसान उतारने के लिए हरियाणा जाकर वोट मांग रहे हंै। ऐसे नेताओं का उनकी जाति बाहुल्य व रिश्तेदारी बाहुल्य इलाके में जनसम्पर्क के लिए रूट मैप तैयार किया जा रहा है। वहीं यह नेता दिन में एक दो बार अपनी हाजरी दिखाने के लिए प्रत्याशी के जनसम्पर्क कार्यक्रम में जाकर भी सम्बोधन देते है जिससे हाजरी पक्की हो जाए।

alwar political news एक दजर्न से अधिक नेता जुटे हैं


हरियाणा चुनाव में बहरोड़ क्षेत्र के एक दर्जन से अधिक नेता और उनके सैकड़ों सहयोगी हरियाणा चुनाव में अपना समय दे रहे हैं। जिसमें कांग्रेस व भाजपा के वर्तमान व पूर्व सांसद, विधायक, मंत्री सहित अन्य प्रमुख रूप नेता शामिल हैं। ये नेता अपनी अपनी पार्टी के प्रत्याशियों के लिए हरियाणा में अलग- अलग विधानसभा क्षेत्रों में दौरे कर रहे हैं।

रोटी बेटी का दे रहे हैं वास्ता


हरियाणा और राजस्थान सीमावर्ती और बहुत सी समानताएं होने से यहां के लोगों में बड़ी संख्या में रिश्तेदारी है। एक- एक गांव में ही कई दर्जन सीधी रिश्तेदारी हैं। जिसके चलते रिश्तेदारों को उनके स्वागत के प्रबंध के साथ चौपाल पर भीड़ एकत्र करने और वोट देने का आश्वासन दिलवाने की जिम्मेदारी निभानी पड़ रही है। स्थानीय नेता भी गांवों में जाने से पहले अपने जनसम्पर्क दौरे की पूर्व सूचना देते हैं। जहां पर नुक्कड़ सभा के दौरान स्थानीय नेता रिश्तेदारों से रोटी बेटी के रिश्ते का वास्ता देकर वोट देने की अपील कर रहे हैं।

रिश्तेदार भी संभाल रहे अभियान


राजस्थान के रिश्तेदारी वाले लोग हरियाणा में चुनाव लड़ रहे हैं, जिनकी मदद के लिए उनके राजस्थान के रिश्तेदार अपने अपने लोगों को लेकर चुनाव अभियान में जुटे हैं और वहां का प्रबंधन संभाल रहे है। जिससे कि प्रबंधन में किसी तरह की कमी होने पर कोई रिश्तेदार उनसे नाराज नहीं हो पाए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned