पुत्र को पिता का नाम दिलाने की हसरत थी लेकिन मिली दर्दनाक मौत

भरतपुर. उसका दोष सिर्फ इतना ही था कि वह अपने छह वर्षीय पुत्र को पिता का नाम देना चाहती थी, लेकिन जिसका नाम देना चाहती थी, उसके परिवार ने उसे पुत्र समेत मौत के घाट उतार दिया।

Subhash Raj

November, 1106:00 AM

Alwar, Alwar, Rajasthan, India

शहर में आगरा रोड स्थित सूर्यासिटी में दीपा गुर्जर व उसके पुत्र शौर्य की हत्या की पुलिस जांच में सामने आया है कि हत्या की मुख्य वजह मृतका दीपा अपने पुत्र शौर्य को डॉ.संदीप का नाम पिता के तौर पर दिलवाने की जिद थी जिससे डॉक्टर इनकार कर रहा था। वह उसे कुछ समय इंतजार करने की बात कह लगातार बहला रहा था। इसको लेकर दोनों में झगड़ा भी हो चुका था।
पुलिस को आरोपी चिकित्सक के हत्याकाण्ड के षड्यंत्र में शामिल होने का अंदेशा है। जांच भी फिलहाल इसी दिशा में चल रही है। जांच में सामने आया है कि घटना के दिन 7 नवम्बर को डॉ.संदीप गुप्ता की वारदात से पहले और बाद में पत्नी डॉ.सीमा गुप्ता से बात हुई थी। इसका खुलासा दंपती के कॉल रिकॉर्ड खंगालने पर हुआ है। घटना से पहले उसे सूर्या सिटी में कुछ अन्य लोगों ने भी देखा था।
गौरतलब है कि चिकित्सक डॉ.सुदीप के दीपा गुर्जर से अवैध संबंध से नाराज पत्नी डॉ.सीमा गुप्ता व सास सुरेखा गुप्ता गत 7 नवम्बर की दोपहर आगरा रोड स्थित सूर्यासिटी स्थित मकान में ज्वलनशील पदार्थ डालकर आग लगा दी। इससे दीपा व उसके 6 वर्षीय पुत्र शौर्य की किचन में झुलसने से मौत हो गई थी। पुलिस मुख्य आरोपी डॉ.सीमा व उसकी सास सुरेखा को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है।
जांच में सामने आया कि डॉक्टर संदीप प्रेमिका दीपा के रोज-रोज से दबाव के चलते उससे कुछ समय पहले दौसा के महवा स्थित एक होटल में गुपचुप तरीके से शादी भी कर चुका था। इसमें उसकी बहन का मौजूद होना बताया जा रहा है।
पुलिस ने बताया कि डॉ. संदीप की पत्नी डॉ.सीमा व मां सुरेखा कैंसर पीडि़त वह। वह प्रेमिका के ब्लैकमेल करने से तंग आ चुका था। इससे बचने के लिए उसने दीपा को कुछ दिन और इतंजार करने को कहा था। उसने पत्नी और मां के कैंसर पीडि़त होने का हवाला देकर कुछ दिन बाद साथ में रहने का भरोसा दिया था।
आरोपी को चिकित्सक को न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया है। अभी तक की जांच में डॉक्टर सुदीप गुप्ता के षड्यंत्र में शामिल होने की आशंका है। फिलहाल पुलिस मामले में तफ्तीश में जुटी हुई है। मृतका डा. संदीप का नाम अपने पुत्र शौर्य के पिता के रूप में रिकार्ड पर लाने की जिद कर रही थी। इसको लेकर दोनों में झगड़े हुए थे। दोनों गुपचुप शादी भी कर चुके थे।
- श्रवण पाठक, थाना प्रभारी चिकसाना

Subhash Raj
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned