7 दिन बाद भी नहीं मिला गर्दनपाठ में कटा सिर, 2 बोरे में टुकड़ों में मिली लाश को करना पड़ा दफन

Head Cut Body: काफी मशक्कत के बाद भी पुलिस (Surguja Police) को सिर खोजने में नहीं मिली सफलता, गुम इंसान रिकॉर्ड (Missing record) को भी पुलिस ने खंगाला

By: rampravesh vishwakarma

Published: 27 Jun 2021, 10:51 PM IST

अंबिकापुर. 22 जून को अंबिकापुर के महामाया पहाड़ के ऊपर स्थित ग्राम गर्दनपाठ में एक युवक की सिर कटी लाश (Head cut body) टुकड़ों में मिली थी। पुलिस ने लाश को शिनाख्त के लिए अस्पताल में रखवा दिया था।

7 दिन बीत जाने के बाद भी लाश की पहचान करने कोई नहीं पहुंचा। पुलिस ने अपने स्तर से काफी खोजबीन की लेकिन कटा सिर नहीं मिला। ऐसे में पुलिस ने पीएम पश्चात रविवार को शव को दफन कर दिया। (Murder in Ambikapur)

Read More: पुलिस कर रही कटी सिर की तलाश, गर्दनपाठ में बिना गर्दन कई टुकड़ों में मिली थी लाश


गौरतलब है कि अज्ञात युवक की हत्या बदमाशों ने काफी निदर्यी तरीके से की थी। युवक की पहचान उजागर न हो जाए, इसे देखते हुए शातिर बदमाशों ने गर्दन, हाथ, व पैर काट कर 2 बोरों में बांधकर महामाया पहाड़ स्थित गर्दनपाठ तालाब से लगे नाले में डाल दिया था।

21 जून को जब वहां के लोगों को बदबू आई तो उन्होंने शव होने की शंका पर पुलिस को सूचना दी। सूचना मिलते ही पुलिस वहां पहुंची और बोरे को खुलवाया तो उसके होश उड़ गए। शव टुकड़ों (Dead body in pieces) में थे। उस दिन से पुलिस मृत युवक की शिनाख्ती के प्रयास में जुट गई थी। पुलिस को कटे सिर की तलाश थी ताकि पहचान हो सके।

पुलिस द्वारा काफी खोजने के बावजूद भी सिर व शरीर का अन्य हिस्सा नहीं मिला। वहीं पुलिस द्वारा पहचान कराने के उद्देश्य से जिले सहित आस-पास के थाना क्षेत्र से गुम इंसान की रिपोर्ट मंगा कर भी जांच की गई, लेकिल कोई भी पहचान करने नहीं पहुंचा। इससे पुलिस मान रही है कि मृतक किसी दूसरी जगह का होगा।

Read More: मौसी की बेटी से शादी करने लेने गया था सम्मोहन बूटी, बहन के प्रेमी ने पत्थर से सिर कुचलकर कर दी हत्या


दफन करना पड़ा शव
पुलिस इन 7 दिनों में शव की शिनाख्त नहीं करा पाई तो उन्होंने अस्पताल में रखे शव का पीएम कराया और उसे दफन कर दिया। पुलिस का मानना था कि यदि मृत युवक आस-पास के क्षेत्र का होता तो परिवार के कोई न कोई सदस्य पहचान करने जरूर पहुंचते। फिलहाल पुलिस पीएम रिपोर्ट के आधार पर पहचान कराने की कोशिश में लगी है।

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned