कोरोना वैक्सीन को लेकर गांवों में इस तरह की फैली हुई है अफवाह, समझाइश के बाद भी नहीं लगवा रहे टीका

Rumour; कोरोना वैक्सीन (Corona vaccine) लगवाने शासन-प्रशासन ने स्वास्थ्य केंद्रों (Health centers) में की है व्यवस्था पर नहीं पहुंच रहे लोग, लखनपुर ब्लॉक (Lakhanpur block) के खुटिया व आसपास के गांव में फैली है अफवाह

By: rampravesh vishwakarma

Published: 16 May 2021, 10:00 PM IST

निम्हा. एक तरफ शासन-प्रशासन कोरोना महामारी से लडऩे दिन-रात मेहनत कर रहा है। लोगों को महामारी से बचाने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। इसमें सबसे महत्वपूर्ण हथियार वैक्सीनेशन (Corona vaccination) है, लेकिन इन तमाम कोशिशों के बीच ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण की धीमी गति चिंता का विषय बनी हुई है।

इसका प्रमुख कारण ग्रामीण क्षेत्रों में टीके को लेकर फैली तरह-तरह की अफवाह है। मुनादी से लेकर डोर-टू-डोर संपर्क के बावजूद अफवाहों के फेर में पड़े ग्रामीण टीकाकरण हेतु केंद्रों में नहीं पहुंच रहे हैं और स्वास्थ्य कर्मचारी दिन भर खाली बैठे रह रहे हैं।

Read More: यहां 2 मई से 18 प्लस वालों का शुरु होगा टीकाकरण, गुलाबी कार्ड वालों को प्राथमिकता, साथ ले जाना होगा ये


लखनपुर ब्लॉक अंतर्गत ग्राम पंचायत खुटिया सहित आसपास के गांवों में कुछ लोगों भ्रामक अफवाह फैलाई जा रही है। इस कारण लोग अब न तो जांच करा रहे हैं और न ही टीका लगवा रहे हैं। अफवाहों (Rumor) के फेर में पड़े लोगों का कहना है कि कोरोना जांच में पॉजिटिव (Corona positive) निकालकर 14 दिन कैद कर दिया जाता है और टीका लगवाने से शरीर को नुकसान पहुंचता है।

जांच में कोरोना निकाल कर इलाज हेतु बड़े अस्पताल भेज दिया जाता है जिसके लिए हमारे पास पैसे नहीं हैं, हम गांव के लोग मेहनत-मजदूरी, गरीबी में गुजर-बसर करते हैं, इतने में ही खुश हैं।


डॉक्टर की पड़ताल में सामने आईं ये बातें
प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गुमगराकला प्रभारी डॉ. आरके शुक्ला ने बताया कि बीते बुधवार को खुटिया सरपंच को बोलकर पूरे गांव में गुरुवार को आयोजित टीकाकरण कैंप के संबंध में मुनादी कराई गई थी, लेकिन गुरुवार को टीकाकरण हेतु एक भी व्यक्ति नहीं पहुंचे।

Read More: कोरोना वैक्सीन की पहली खेप पहुंची अंबिकापुर, पहले दिन 600 स्वास्थ्यकर्मियों को लगेगा टीका

फिर हमने गांव के लोगों से कारण मालूम करने की कोशिश की तब वे मोबाइल पर वैक्सीन लगवाने को लेकर आए भ्रामक मैसेज दिखाने लगे। इसमें बांझपन से लेकर नपूंसकता की बातें लिखी हुई थीं। लोग कहने लगे कि अब मर भी जाएंगे लेकिन टीका नहीं लगाएंगे।


लोगों को समझाया फिर भी नहीं लगवा रहे टीका
मैंने गांव के सभी पंच, मितानिन और आंबा कार्यकर्ता के साथ लोगों को जांच और टीका लगवाने हेतु कई बार समझाइश दी, लेकिन वे स्वास्थ्य केंद्र नहीं आ रहे। इसकी जानकारी जनपद सीईओ को कई बार दे चुकी हूं। अब गांव में प्रशासन द्वारा जागरूकता अभियान चलाकर समझाइश दी जाए, तभी कोई हल निकलेगा।
मनमतिया सिंह कुरूम, सरपंच, खुटिया

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned