7 दिन बाद मिली थी महिला की लाश, पति ही निकला कातिल, इस वजह से की थी हत्या

Wife murder: महिला की लाश (Woman dead body) मिलने के मामले की गुत्थी पुलिस ने सुलझाई, शक के आधार पर पति से की कड़ाई से पूछताछ, पिटाई (Beaten) करने के बाद गला दबाकर ले ली थी जान

By: rampravesh vishwakarma

Updated: 18 Jul 2021, 09:43 PM IST

उदयपुर. उदयपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम बासेन की 35 वर्षीय महिला का शव सड़ी-गली अवस्था में जोरन झरिया जंगल में मिला था। मृतका 7 दिन से लापता थी। हत्या के इस मामले की गुत्थी सुलझाते हुए पुलिस ने मृतका के पति को ही गिरफ्तार किया है।

आपसी विवाद के बाद आरोपी ने मृतका की पहले बेदम पिटाई की फिर उसका गला दबाकर हत्या (Wife murder) कर दी। आरोपी ने खुद ही थाने में पत्नी की लाश मिलने की सूचना दी थी।

Read More: गैरमर्दों से अवैध संबंध का था शक, आधी रात 3 युवकों के साथ मिली पत्नी तो प्राइवेट पार्ट कर दिया जख्मी, फिर पीट-पीटकर ले ली जान


सरगुजा जिले के उदयपुर पुलिस ने बताया कि बासेन निवासी राम सिंह ने थाने में बताया था कि वह 5 जुलाई को पत्नी 35 वर्षीय बीजो बाई के साथ ग्राम खुटखोरी नदी किनारे मछली मारने गया था। 2 दिनों तक अस्थाई झोपड़ी बनाकर मछली मारने का काम पति-पत्नी ने एक साथ किया।

8 जुलाई की रात को बीजो बाई बिना बताए वहां से कहीं चली गई थी। 16 जुलाई को खोजबीन के दौरान परोगिया जंगल जोरन झरिया नाला के पास बीजो बाई का शव सड़ी-गली अवस्था में पाया गया था।

पुलिस ने बताया कि मृतका की शार्ट पीएम रिपोर्ट में हत्या की पुष्टि होने पर धारा 302 के तहत अपराध दर्ज करते हुए शक के आधार पर जब पति राम सिंह को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की गई तो उसने पत्नी की हत्या करने का जुर्म कबूल लिया।

Read More: मां पर डंडे से ताबड़तोड़ प्रहार देख बेटी बचाने पहुंची तो पिता ने दी ऐसी धमकी कि भागना पड़ा, जब लौटी तो मां की पड़ी थी लाश


घर जाने की कर रही थी जिद
आरोपी ने बताया कि 8 जुलाई को मृतका घर जाने की जिद कर रही थी, इस पर उसने अगले दिन जाने की बात कही। इस बात पर मृतका गाली-गलौज कर झगड़ा करने लगी। इसी दौरान आवेश में आकर आरोपी राम सिंह ने मृतका की हाथ-मुक्के से बेदम पिटाई कर दी, फिर गला दबाकर उसकी हत्या (Woman murder) कर दी थी।


कार्रवाई में ये रहे शामिल
कार्यवाही में थाना प्रभारी अलरिक लकड़ा, एएसआई अजीत मिश्रा, राजेंद्र प्रताप सिंह, आरक्षक सिकंदर आलम, आनंद प्रकाश व रामेश्वर प्रसाद सक्रिय रहे।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned