Shukra Rashi parivartan in MAY 2021: शुक्र बदलने जा रहे हैं सभी राशियों का भाग्य, जानें किनकी चमकेगी किस्मत और किनकी बढ़ेगी परेशानी?

भाग्य के कारक शुक्र जा रहे हैं मिथुन राशि में...

नौ ग्रहों में से एक भाग्य के कारक शुक्रदेव शुक्रवार 28 मई 2021 को राशि परिवर्तन करते हुए मिथुन राशि में जा रहे हैं। शुक्र ग्रह को वैदिक ज्योतिष में एक शुभ ग्रह माना गया है। शुक्र Venus के संबंध में माना जाता है कि जहां एक ओर कुंडली में मजबूत होने पर यह अच्छे परिणाम देता है, वहीं कमज़ोर होने पर अशुभ फल भी प्रदान करता है।

दैत्यगुरु शुक्र जहां ज्योतिष में भाग्य के कारक माने गए हैं, वहीं सप्ताहिक दिनों में वार शुक्रवार है और इस दिन की कारक देवी स्वयं धन-धान्य की Goddess Lakshmi हैं।

दरअसल पंडित एसके पांडे के अनुसार शुक्रवार, 28 मई 2021 को शुक्र ग्रह Shukra grah अपनी चाल बदलते हुए सुबह 11:44 बजे बुध के स्वमित्व वाली राशि मिथुन में प्रवेश करेंगे। इसके बाद मंगलवार,22 जून 2021 दोपहर 2 बजकर 7 मिनट तक इसी राशि में रहेंगे। इसके बाद शुक्र कर्क राशि में गोचर कर जाएंगे।

भाग्य के कारक शुक्र का ये परिवर्तन सभी 12 राशियों पर अपना खास प्रभाव दिखाएगा, जिसके चलते जहां कुछ राशियों को अचानक भाग्य चमकेगा तो कुछ को अचानक से ही शुरु हुई परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।

Must Read - मकर में वक्री हो रहे हैं शनि, इन राशियों के लिए शुरु होगा मुश्किल का दौर

shanidev ji

12 राशियों पर शुक्र के इस बदलाव का असर...

1. मेष राशि:
इस समय शुक्र का गोचर आपसे तीसरे भाव यानि पराक्रम व भाई बहनों के भाव में होगा। जिसके चलते इस दौरान आपके साहस में वृद्धि होगी और जो भी काम आप करेंगे उसमें आपको प्रशंसा भी मिलेगी। वहीं कई फैसले इस दौरान आपके पक्ष में होंगे। साथ ही इस समय आप आर्थिक रूप से आप विलासिता के उत्पादों पर अनावश्यक खर्च भी कर सकते हैं।

स्वास्थ्य के लिए यह लिए यह अनुकूल समय है , उचित होगा कि इस समय आप ठंडे खाद्य पदार्थों को खाने से बचें। इस समय आपकी विदेश यात्रा के योग भी बनते दिख रहे हैं।

इस समय आपको नौकरी के कुछ विशेष प्रस्ताव मिल सकते हैं। आप अपने सभी फैसलों को समझदारी और धैर्य के साथ लेंगे। कुल मिलाकर आप अपने कॅरियर में वृद्धि देखेंगे। वहीं साहस में बढ़ौतरी के चलते इस दौरान आप काफी कुछ हासिल कर सकते हैं। इस समय जीवनसाथी या प्रेमी-प्रेमिका के साथ आपके संबंध बहुत ही शांतिपूर्ण और खुशहाल रहेंगे।

उपाय: कोई भी नया काम शुरु करने से पहले अपने पिता से हमेशा सलाह अवश्य लें।

2. वृषभ राशि:
शुक्र इस दौरान आपकी राशि के दूसरे भाव यानि धन और वाणी भाव में गोचर करेंगे। भले ही इस अवधि में आपको धन लाभ होगा,लेकिन इस दौरान आपको भारी वित्तीय खर्च के साथ काम करने वाले किसी भी जोखिम भरे निवेश या गतिविधि से बचना होगा। इसके अलावा इस समय आपको अपने कार्यस्थल पर कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

MUST READ : Vaishakh Purnima 2021- बुध पूर्णिमा कब है, जानें इसका महत्व और कैसे करें पूजा?

buddh_purnima_2021

स्वास्थ्य के मामले में इस समय आपको संभल कर रहना होगा। उचित होगा थोड़ी सी भी स्वास्थ्य से संबंधित परेशानी आने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। वहीं शुक्र के आपके धन भाव में होने के चलते इस समय कार, जमीन या मकान जैसी संपत्ति में निवेश के लिए ये अवधि अच्छी रह सकती है।

इस समय आपको अपनी वाणी पर खास नियंत्रण रखना होगा। वहीं रिश्तेदारों से आपकी मुलाकात के बीच आपके परिवार में कोई शुभ कार्य हो सकता है। शेयर बाजार में इस काल अवधि में आपको लाभ की संभावना है, लेकिन ये लाभ एक निश्चित मात्रा तक ही होगा। आपको इस समय दांपत्य जीवन अच्छा रहने के साथ ही संतान सुख भी मिलने की संभावना है।

उपाय: प्रतिदिन मंदिर में दीपक जलाएं और दुर्गा चालीसा का पाठ करें।


3. मिथुन राशि
भाग्य के कारक शुक्र इस समय आपके प्रथम भाव यानि लग्न में गोचर करेंगे। शुक्र आपकी राशि के स्वामी बुध के मित्र हैं, ऐसे में यह गोचर आपके लिए अनुकूल रहेगा। जिसके कारण एक ओर जहां इस समय आप व्यवसाय में प्रगति करेंगे। वहीं नौकरी पेशा लोग इस समय उचित स्थान प्राप्त होने की संभावना के बीच आप अपने कार्यस्थल पर अच्छा कार्य करेंगे।

इस समय आपको किसी पुरानी स्वास्थ्य समस्या से जुझना पड़ सकता है। इसके अलावा आपके बच्चों को कुछ समस्याएं हो सकती हैं, अत: स्वास्थ्य को लेकर सतर्क रहें।

यदि आप अविवाहित हैं तो इस अवधि में आपको एक बेहतर रिश्ता मिल सकता है। वहीं इस राशि के छात्रों को इस दौरान शिक्षा के क्षेत्र में अनुकूल परिणाम मिलने की संभावना है, साथ ही पढ़ाई में उनका ध्यान बेहतर होगा।

उपाय: श्री गणेश की पूजा करें।

4. कर्क राशि:
इस दौरान शुक्र आपकी राशि से द्वादश भाव यानि व्यय भाव में रहेंगे। जिसके परिणामस्वरूप विदेशों से जुड़ा व्यापार करने वाले कारोबारियों के लिए यह अच्छा समय होगा, जिसमें अच्छा लाभ भी मिल सकता है। इसके अलावा इस समय आपको अनावश्यक खर्च से बचना होगा। वहीं इस समय आपका रिश्तेदारों के साथ कुछ विवाद भी हो सकता है जिसके लंबे समय तक रहने की संभावना है।

इस समय स्वास्थ्य को लेकर खास सतर्क रहें। हल्की सी भी परेशानी होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें ताकि भविष्य में कोई परेशानी खड़ी न हो। इस समय आपको अपनी माता के स्वास्थ्य का भी खास ध्यान रखना होगा।

इस अवधि के दौरान आपको कुछ समय के लिए अपने घर से दूर भी जाना पड़ सकता है, लेकिन कुछ तनावों के बीच यहां आपके वित्तीय लेनदेन औसत साबित होंगे। ऐसे में आपका वरिष्ठों से सलाह लेना फायदेमंद रहेगा।

उपाय: भगवान शिव की पूजा करें।


5. सिंह राशि:
शुक्र इस समय आपकी राशि के एकादश भाव यानि आय भाव में रहेगा। ऐसे में गोचर का पहला चरण आपके लिए कड़ी मेहनत वाला होगा। जिसमें आपकी आय में वृद्धि होने के साथ ही आपको आपकी मेहनत का अच्छा फल भी मिलेगा। भले ही आपमें से कुछ लोग इस समय सट्टेबाजी से लाभ ले सकते हैं, लेकिन उचित होगा आप इससे दूर ही रहें।

स्वास्थ्य के लिहाज से यह अवधि आपके लिए अनुकूल तो रहेगी, लेकिन इस समय आपको अपने स्वास्थ्य को लेकर सतर्क भी रहना होगा। इस समय काम को लेकर आपके विचार बार-बार बदलते रहेंगे।

MUST READ : मोहिनी एकादशी के खास उपाय, जो देते हैं सुख-संपत्ति के साथ ही ऐश्वर्य और वैभव!

mohini_ekadashi_2021

वहीं इस दौरान आपके लिए व्यापार से संबंधित छोटी यात्राएं भी फायदेमंद साबित होंगी। वहीं इस समय आप अपनी असफलताओं को दूर करते हुए, सभी इच्छाओं को पूरा कर सकते हैं। कुल मिलाकर यह अवधि आपके लिए आश्चर्यजनक परिणाम लाएगी।

संभावनाओं के पांचवें घर पर शुक्र की दृष्टि है, इससे सिंह राशि के लोगों को सट्टेबाजी से लाभ हो सकता है, हालांकि आपको इससे बचने की सलाह दी जाती है क्योंकि संभावित नुकसान भी भारी हो सकता है।

उपाय: हर रोज माता दुर्गा के मंदिर में दीया लगाएं।

6. कन्या राशि:
इस दौरान शुक्र आपकी राशि से दशम भाव यानि कर्म भाव में गोचर करेंगे। ऐसे में आपको अपने कॅरियर में सफलता और प्रसिद्धि मिलने की संभावना है। आर्थिक रूप से यह अवधि आपके जीवन में स्थिरता लाएगी। वहीं इस दौरान किसी विशेष प्रोजेक्ट से आपको सफल होने का खास मौका मिल सकता है। इस अवधि के दौरान आपको वाहन सुख मिलने की भी संभावना है।

आपकी इच्छाएं इस गोचर के दौरान पूरी हो सकती हैं साथ ही कोई बड़ी सफलता भी मिल सकती है। इस अवधि में पिता से बहुत अच्छे संबंध रहने के साथ ही आपके परिवार के सभी सदस्य आपके साथ खुश महसूस करेंगे। इस दौरान आध्यात्मिक गतिविधियों के बीच आप विलासिता पर भी खर्च कर सकते हैं।

उपाय: हर रोज शुक्र बीज मंत्र का जाप करें।

MUST READ: नवसंवत्सर 2078 का प्रभाव और भविष्यवाणी

2078_astrology

7. तुला राशि:
भाग्य का कारक ग्रह शुक्र इस समय आपकी राशि से नवम भाव यानि भाग्य भाव पर रहेगा। इसके फलस्वरूप इस समय किस्मत आपका साथ देगी, जिससे आपको ऊंचाईयों तक पहुंचाने में मदद मिलेगी। व्यवसायिक तौर पर ये समय आपके लिए अनुकूल रहेगा। ऐसे में आपको कॅरियर में आगे बढ़ने के लिए कई अवसर मिल सकते हैं।

स्वास्थ्य के मामले में इस समय आपको अपने पेट से संबंधित रोगों से सावधान रहना होगा। वहीं पारिवारिक जीवन में इस समय आपको सबका पूरा सहयोग मिलेगा। अविवाहित जातकों के लिए ये समय शादी की योजना बनाने के लिए अनुकूल रहेगा।

इस अवधि के दौरान लंबी यात्राएं आप कर सकते हैं, आपका उच्च ज्ञान प्राप्त करने की ओर भी झुकाव होगा। आप किसी धार्मिक, आध्यात्मिक स्थान पर जा सकते हैं। इस समय आप नए अनुबंधों और सौदों हामी भर सकते हैं। स्टॉक मार्केट में व्यापार करने के इच्छुक जातकों के लिए ये समय अच्छा रह सकता है। कुल मिलाकर शुक्र का ये गोचर आपके लिए अच्छा होने के साथ ही लाभ प्राप्ति के योग भी बना रहा है।

उपाय: ‘ॐ शुं शुक्राय नम:’ मंत्र का शुक्रवार को जाप करें।

 

8. वृश्चिक राशि:
भाग्य का कारक ग्रह शुक्र इस समय आपकी राशि से अष्टम भाव यानि आयु भाव पर रहेगा। इसके कारण आपको अपने स्वास्थ्य को लेकर खास सावधान रहना होगा। इसके अलावा इस गोचर में आपके गुप्त शत्रु बढ़ेंगे जो आप के खिलाफ साजिशें भी रचेंगे, लेकिन आपको हजार कोशिशों के बावजूद परास्त करने में सक्षम नहीं हो पाएंगे।

आर्थिक रूप से यह समय आपके लिए औसत रहेगा, ऐसे में अप्रत्याशित लाभ की या अटकलबाजी करके पैसा कमाने से बचें अन्यथा कोई बड़ा नुकसान हो सकता है।

MUST READ : राहु और केतु से परेशान हैं, तो करें ये उपाय

rahu-ketu

इस दौरान आप मकान या वाहन खरीद सकते हो। जहां तक कॅरियर की बात करें तो यह समय प्रगति वाला है, लेकिन कुछ मानसिक चिंताएं भी आपको परेशान कर सकती हैं। इस समय आपको अपने जीवनसाथी के स्वास्थ्य का खास ख्याल रखना होगा।

इस गोचर में आपके अपने जीवनसाथी या अपने प्रेमी-प्रेमिका के साथ संबंध गड़बड़ा सकते हैं। प्रेम और विवाहित जातक अपने संगी के साथ उचित व्यवहार और सही शब्दों का इस्तेमाल करें अन्यथा कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन वैवाहिक रिश्ते में सकारात्मक के बीच कुछ सरप्राइज मिल सकता है।

उपाय: हर रोज घर के बाहर किसी खुली चीज में थोड़ा सा शहद रखें।

 

9. धनु राशि:
भाग्य का कारक ग्रह शुक्र इस समय आपकी राशि से सप्तम भाव यानि विवाह भाव पर रहेगा। इस समय प्रेम में पड़े जातक अपने रिश्ते को अगले मुकाम पर ले जा सकते हैं, वहीं शादीशुदा लोगों की जिंदगी अनुकूल बनी रहेगी। वहीं नौकरी पेशा से जुड़े जातक इस समय खुद को कार्यक्षेत्र में स्थिर और संतुष्ट महसूस करेंगे। उचित रहेगा इस समय आप अपने काम को सीमित करें और अपनी प्राथमिकताओं पर ध्यान दें।

स्वास्थ्य के मामले में जहां आपके लिए ये समय संतोषजनक रहेगी, वहीं इस समय आपको अपने जीवनसाथी की सेहत का खास ध्यान रखना होगा।

आर्थिक रूप से इस अवधि में आपको अच्छा लाभ मिलेगा। वहीं साझेदारी में व्यापार करने वाले जातकों को भी इस समय अच्छे अवसर प्राप्त होंगे और वो अपने व्यवसाय को विस्तार देने के बारे में भी विचार बनाएंगे। कुल मिलाकर यह गोचर आपके लिए अच्छे परिणाम लाने वाला है, इस समय आप बातचीत के द्वारा मनचाही डील और बेहतरीन परिणाम प्राप्त कर सकते हैं।

उपाय: शुक्रवार की शाम को पीतल का दान करें।

 

10. मकर राशि:
भाग्य का कारक ग्रह शुक्र इस समय आपकी राशि से षष्ठम भाव यानि रोग व शत्रु भाव पर रहेगा। आर्थिक रूप से, इस गोचर के दौरान आपको सावधान रहना होगा, उचित होगा इस समय किसी को उधार देने या उधार लेने से बचें। वहीं इस समय अटकलबाजी लगना भी आपके लिए नुक्सानदायक हो सकता है। इस अवधि में बहुत सारी चुनौतियों के बीच छोटी-छोटी बातों को लेकर आपका वाद-विवाद हो सकता है।

इस समय पेट संबंधित दिक्कतें आपको परेशान कर सकती हैं। वहीं यह समय आपके प्रेम संबंध बहुत मजबूत नहीं रहेंगे और किसी गलतफहमी के कारण रिश्ता खराब हो सकता है। वहीं नौकरी पेशा जातकों को इस समय किसी भी तरह के नए काम को शुरु करने की कोशिश न करें। कुल मिलाकर इस समय आपको धैर्य को बनाए रखने होगा। इस समय रियल एस्टेट एजेंटस को अच्छे ग्राहक मिल सकते हैं।

उपाय: भगवान विष्णु की पूजा करें।

Must Read : गजकेसरी योग- गुरु के प्रभाव से बना ये योग,जानें कैसे प्रभावित करता है आपकी कुंडली

gajkesri_yog

11. कुंभ राशि:
भाग्य का कारक ग्रह शुक्र इस समय आपकी राशि से पंचम भाव यानि पुत्र व बुद्धि भाव पर रहेगा। यह गोचर आपके लिए लाभदायक परिणाम का संकेत दे रहा है। इस राशि के शादीशुदा जातकों के बच्चे कुछ ऐसा कर सकते हैं, जिससे आपका सम्मान बढ़ेगा। इस दौरान आपके कॅरियर में भी उन्नति और वृद्धि की संभावना है।

इस समय आपको अपने स्वास्थ्य का खास ख्याल रखना होगा। वहीं गोचर के दौरान अध्ययन के लिए विद्यार्थियों की एकाग्रता में सुधार देखा जाएगा। इसके अलावा पैसे के निवेश में भी बहुत सोच समझकर ही निर्णय आपके लिए बेहतर रहेगा।

इस गोचर के दौरान अध्ययन के लिए विद्यार्थियों की एकाग्रता में सुधार देखा जाएगा। ये गोचर आपको हर तरह की ख़ुशी दिलाएगा। वहीं इसके अलावा इस दौरान आपके घरेलू जीवन में शांति और सद्भाव कायम रहेगा।

उपाय: आलू को उबालने के बाद ठंडे कर इसे गाय को खिलाएं।

12. मीन राशि:
भाग्य का कारक ग्रह शुक्र इस समय आपकी राशि से चतुर्थ भाव यानि सुख व माता भाव पर रहेगा। इसके चलते कार्यस्थल पर अपनी स्थिति अच्छी बनाए रखने के लिए आपको बहुत अधिक मेहनत और परिश्रम करनी होगी। लेकिन इस समय काम से संबंधित यात्रा बहुत फायदेमंद नहीं रहेगी, ऐसे में इससे बचना आपके लिए बेहतर रहेगा। इस कालखंड में अपने भावनात्मक हिस्से को खुद पर हावी न होने दें।

सेहत के मामले में इस दौरान आपको खांसी और वायरल संक्रमण की समस्याओं से सामना करना पड़ सकता है। वहीं इस समय प्रेम संबंधों में कुछ चुनौतियों का सामना आपको करना पड़ सकता हैं, जिसके कारण आपके और आपके साथी के बीच कुछ विवाद हो सकते हैं।

इसके अलावा इस समय आपको कार्यक्षेत्र मेंं दूसरों के साथ व्यवहार करते समय कूटनीतिक रहना होगा। वहीं इस अवधि के दौरान आपको भूमि, भवन और वाहन से लाभ प्राप्त होंगे।

उपाय: कपूर का दीपक घर के मंदिर में जलाएं और भगवान शंकर की पूजा अवश्य करें।

दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned