बारां जिले में 'सारथी' का टोटा

बारां रोडवेज डिपो के हाल...20 बसों के पहिए हुए जाम

By: mukesh gour

Published: 13 Jan 2021, 12:06 AM IST

बारां. रोडवेज में परिचालकों की कमी रहने से बसों को खड़ी रखने की नौबत आ गई है। हाल यह है कि बारां डिपो में करीब 135 परिचालकों की आवश्यकता है, लेकिन यहां मात्र 63 ही कार्यरत है। इससे अधिकांश लोकल रूट पर बसों का संचालन प्रभावित हो रहा है। परिचालकों की कमी पाटने के लिए रोडवेज प्रबंधन की ओर से संशोधन के साथ शुरू की गई बस सारथी योजना के तहत अनुबंध के तौर पर परिचालक भी लिए जा रहे है, लेकिन इसके बाद भी परिचालक (सारथी) की पूर्ति नहीं हो रही है। वर्तमान में भी करीब 20 बसे सारथी परिचालकों के इंतजार में बस स्टैंड परिसर में खड़ी हुई हैं।

read also : कोटा एयरपोर्ट पर प्लेन हाईजैक की मॉकड्रिल
यह है योजना
सूत्रों ने बताया कि रोडवेज में परिचालकों की कमी को पूरा करने के लिए जुलाई 2019 में बस सारथी योजना में संशोधन किया गया था। इसके तहत अनुबंध परिचालक (सारथी) के लिए पारिश्रमिक राशि में वृद्धि की गई। पहले 8100 रुपए की राशि प्रतिमाह प्रतिफल देने का प्रावधान था। अब 11 हजार रुपए प्रतिमाह किया गया है। यह राशि निगम की ओर से तय नियमों के तहत लक्ष्य प्राप्त करने पर ही देने का प्रावधान है। योजना के तहत पिछले तीन वर्षो में सबसे अधिक आय वाले माह की आय में पांच प्रतिशत राशि बढ़ाकर लक्ष्य दिया जाने का प्रावधान है। सारथी को रोज की आय रोज जमा करानी होती है।

read also : सीए के घर में लूट करने वाले ने ही लूटा था वृद्धा को

दस हजार किमी घटे
राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम की ओर से बारां आगार डिपो को प्रतिमाह करीब 28 हजार किलोमीटर क्षेत्र में बसों का संचालन करने का लक्ष्य आवंटित किया हुआ है। लेकिन यह किलोमीटर भी परिचालकों की कमी के कारण पूरे नहीं हो रहे है। वर्तमान में बारां डिपो की बसें करीब साढ़े 17 हजार किलोमीटर ही चल रही हंै। करीब साढ़े दस हजार किलोमीटर कम चलने से रोडवेज की राजस्व आय भी जबरदस्त प्रभावित हो रही है। इस स्थिति में बारां से अजमेर होते हुए जोधपुर व बारां से रावतभाटा होते हुए उदयपुर मार्ग की बस बंद पड़ी हुई है। इसके अलावा कस्बाथाना समेत कई अन्य लोकल रूटों पर पहले से कम बसों का संचालन हो रहा है। बारां डिपो में वर्तमान में 11 बसों को बस सारथी योजना के तहत दिया हुआ है। इनका बारां-इन्द्रगढ़-जयपुर मार्ग पर दो, बारां-झालावाड़ मार्ग पर दो, बारां-शिवपुरी, बारां-नाहरगढ़, बारां-गुना, बारां-झालावाड़-श्योपुर आदि मार्गो पर संचालन किया जा रहा है। इससे भी रोडवेज को परिचालकों की कमी को लेकर राहत मिल रही है।
परिचालकों की कमी है, इससे करीब 20 बसे नहीं चल रही है। इस मामले में मुख्यालय को अवगत कराया हुआ है। परिचालकों की कमी पूर्ति के लिए सारथी बस योजना चलाई हुई है। यहां 11 बसों को सारथी योजना के तहत दी हुई है। कस्बाथाना मार्ग पर बसे तो चलाई जा रही है, लेकिन पहले से कुछ कम है।
सुनीता जैन, मुख्य प्रबंधक, बारां आगार

Show More
mukesh gour
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned