जब जैन संतों का हुआ मंगल मिलन

मुनि विश्वास सागर ने की आचार्य विनीत की अगवानी

By: mukesh gour

Updated: 28 Feb 2021, 11:58 PM IST

बारां. बारां की पावन धरा मे उस समय अविस्मणीय माहौल बना जब दो सन्तो का मंगल मिलन हुआ। मुनि विश्वास सागर महाराज ने आचार्य विनीत सागर महाराज की अगवानी की। बालाजी राइस मिल पर काफी संख्या में जैन समाज के लोग दोनों सन्तो का मिलन देखकर हर्ष विभोर हो उठे।

read also : कोटा में 23 कोरोना पॉजिटिव मिले, 17 स्टूडेंट शामिल
जैन समाज के मंत्री विरेन्द्र बडज़ात्या ने बताया कि आचार्य विनीत सागर महाराज ससंग का विहार रविवार प्रात: जैन तीर्थ से प्रारम्भ हुआ तथा संभवनाथ जिनालय पर पहुंचकर शांति धारा संपन्न कराई। यहां धर्मसभा को सम्बोधित कर जैन जोडला मंदिर के लिए विहार किया। बारां नगर प्रवेश पर आचार्य का जगह-जगह पाद पक्षालन किया गया एवं आरती उतारी गई। आचार्य विनीत सागर महाराज सत्संग एवं मुनि विश्वास सागर महाराज संत निवास जैन जोड़ला मंदिर में विराजमान हैं। जैन जौडला मंदिर पर प्रात: 7 बजे शांति धारा एवं प्रात: 9 बजे से प्रवचन होंगे। प्रवचन बाद आहारचर्या होगी। दोपहर में 2.30 बजे से स्वाध्याय एवं तत्व चर्चा होगी। सांय 6.30 से 7.30 बजे तक संत निवास में गुरु भक्ति प्रश्न मंच एवं महा आरती का आयोजन किया जाएगा।

read also : पैडल बोट डूबी, सवार परिवार बाल-बाल बचा
नहीं करेंगे चरण स्पर्श
खण्डेलवाल दिगम्बर जैन समाज के कार्यकारिणी सदस्य अनिल बडज़ात्या ने बताया कि मंगलवार को जैन नसियां में प्रात: 8.15 पर 1008 पदम प्रभु भगवान का निर्वाण लाडू चढ़ाया जाएगा। इस दौरान कोविड-19 प्रोटोकॉल का पूर्णतया पालन किया जाएगा। हाथों को सैनेटाइज कर मास्क लगाने के बाद ही साधुओं के समक्ष बैठने तथा मंदिर में मास्क लगाकर ही दर्शन करने की व्यवस्था अनिवार्य रूप से लागू रहेगी। इस दौरान दो गज की दूरी रखनी होगी तथा सन्तों के चरण स्पर्श नहीं किए जाएंगे।

mukesh gour
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned