कोरोना ने बिगाड़े हालात : लगातार बेपटरी हो रही अस्पतालों की व्यवस्थाएं, संकट में MP के 4 बड़े शहर

सरकार के प्रयास : सभी जिलों तक हेलीकॉप्टर से पहुचाएंगे रेमडेसिव इंजेक्शन और ट्रेनों से लाए जाएंगे ऑक्सीजन ससिलेंडर।

By: Faiz

Published: 15 Apr 2021, 05:03 PM IST

भोपाल/ मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के हालात बेकाबू हैं। जीवन रक्षक ऑक्सीजन की कमी है, वहीं रेमडेसिविर भी कहीं मिल नहीं रही है। निजी-सरकारी अस्पतालों में बिस्तरों का टोटा है। इलाज कराने पहुंच रहे मरीजों को घर लौटाया जा रहा है। प्रदेश की राजधानी भोपाल, इंदौर, ग्वालियर और जबलपुर में हालात चिंताजनक हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- कोरोना का कहर : अब सरकारी भवन बनेंगे कोविड केयर सेंटर


CM ने भी माना रेमडेसिविर संकट

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी अब माना कि, प्रदेश में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कमी है। उन्होंने बताया कि, अभी तक 31 हजार इंजेक्शन मिल चुके हैं। बुधवार को भी 3890 यूनिट इंजेक्शन यहां पहुंचे। गुरुवार शाम तक 12 हजार इंजेक्शन और आएंगे। सीएम ने कहा कि, जरूरत पड़ने पर हेलीकॉप्टर से भी इंजेक्शनों को जिलों तक पहुंचाया जाएगा। 50 हजार इंजेक्शन की स्पाई का ऑर्डर दिया जा चुका है। उन्होंने बताया कि, ऑक्सीजन के इंतजाम में केन्द्र सरकार सहयोग कर रही है। रेल मत्री पीयुष गोयल से चर्चा हुई है। जरूरत पड़ने पर राउरकेला और भिलाईसे ट्रेन के जरिये ऑक्सीजन सिलेंडर बुलवाए जाएंगे।


अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी बिना पर्चे कर दिया रेफर

भोपाल के वीनस अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी के बाद 60 वर्षीय महिला को बिना रेफर लेटर दिये हमीदिया भेज दिया। हमीदिया में उसे बिना रेफर लेटर के भर्ती नहीं किया गया। मरीज के परिजन राधेलाल ने बताया कि, वीनस में ऑक्सीजन की कमी बताकर हमीदिया में भर्ती करने को कहा गया था। अस्पताल ने मरीज को हमीदिया भेजने के लिये एंबुलेंस की व्यवस्था तो कर दी, लेकिन जरूरी कागज बनाए ही नहीं।

 

भोपाल में 760 मरीज ऑक्सीजन पर

राजधानी भोपाल के 90 कोविड अस्पतालों के आईसीयू में 760 गंभीर अवस्था के मरीज 24 घंटे ऑक्सीजन पर हैं। इनके लिये रोजाना पांच स्थानों से 80 टन ऑक्सीजन की सप्लाई हो रही है, लेकिन लगातार बढ़ रहे मरीजों से 20 से 25 अस्पताल ऐसे रह जाते हैं, जहां एक दिन ऑक्सीजन न पहुंचे तो हाहाकार मच जाता है। बता दें कि, शहर में बीते तीन दिनों में ऑक्सीजन की कमी के चलते 6 मरीजों की मौत हो चुकी है।

 

पढ़ें ये खास खबर- कोरोना पेशेंट का वार्डबॉय ने निकाल दिया ऑक्सीजन, शासकीय शिक्षक ने तड़प-तड़प कर तोड़ा दम, घटना CCTV में कैद


इंदौर में ऑक्सीजन पर हााकार, रेमडेसिविर की भी कमी

इंदौर के अस्पतालों में तेजी से बढ़ रहे मरीजों के चलते बिस्तर कम पड़ने लगे हैं। मरीज एंबुलेंस में पड़े हैं, लेकिन भर्ती नहीं हो पा रहे। शहर में ऑक्सीजन की डिमांड पांच गुना बढ़ चुकी है। जिम्मेदारों के तमाम प्रयासों के बावजूद सप्लाई मांग से 30 फीसदी कम है। अस्पतालों में भर्ती ह तीसरे मरीज को रेमडेसिविर की जरूरत है। इंदौर को रोज करीब 4000 इंजेक्शन की दरकार है, जबकि आपूर्ति सिर्फ 40 फीसदी ही हो पा रही है। अब टोसिलीजुमैब इंजेक्शन की कालाबाजारी शुरु हो गई है।

 

मुक्तिधाम में शव जलाने की जगह नहीं, लकड़िया भी खत्म होने की कगार पर- Video

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned