TIK TOK को लेकर कोर्ट ने कहा- 'अश्लील कल्चर बढ रहा, ऐप पर लगे लगाम', जानिए क्या है पूरा मामला

इन दिनों टिक टॉक विवादों में (Pornographic Content On Tik Tok) (Sexual Content On Tiktok) घिरा हुआ है। (Ban On Tik Tok) टिक टॉक पर प्रतिबंध (Tik Tok Ban) लगाने की आवाज उठने (Tik Tok Latest News) लगी (Tik Tok Trend) है। इसी बीच (Odisha News) ओडिशा हाईकोर्ट (Odisha High Court Said To Make Control On Tik Tok) ने (Bhubaneswar News)...

By: Prateek

Updated: 03 Jun 2020, 02:21 PM IST

भुवनेश्वर: जल्द मश्हूर होने के लिए आज के समय में युवा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का अधिक उपयोग कर रहे हैं। इनमें भी वीडियो प्लेटफॉर्म टिक टॉक (TIK TOK) को भारतीयों ने काफी सराहा है। लेकिन इन दिनों टिक टॉक विवादों में घिरा हुआ है। टिक टॉक पर प्रतिबंध लगाने की आवाज उठने लगी है। इसी बीच ओडिशा हाईकोर्ट ने भी टिक टॉक पर नियंत्रण करने की जरुरत पर जोर दिया है।

यह भी पढ़ें: सोनू सूद के इस फैसले के आगे सरकारें भी फेल, यूं की ओडिया मजदूरों की मदद, जीता दिल

अश्लील कल्चर को प्रमोट करता है...

TIK TOK को लेकर कोर्ट ने कहा- 'अश्लील कल्चर बढ रहा, ऐप पर लगे लगाम', जानिए क्या है पूरा मामला

दरअसल ओडिशा हाईकोर्ट ने एक मामले पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि टिक टॉक पर नियंत्रण जरूरी है। जस्टिस एसके पणिग्रही ने कहा कि टिक टॉक अश्लील कल्चर को प्रदर्शित करता है। साथ ही यह ऐप पोर्नोग्राफी को भी बढ़ावा देता है। इस तरह के ऐप को नियंत्रित करके किशोरों पर पड़ने वाले नकारात्मक प्रभाव से उनको बचाया जा सकता है। कोर्ट ने यह टिप्पणी हत्या के मामले में जमानत की अर्जी पर सुनवाई करते हुए कि, इस केस में आरोपी मृतक की पत्नी हैं।

यह भी पढ़ें: 5 जून से 14 दिन के लिए क्वारंटाइन होंगे महाप्रभु जगन्नाथ, सदियों से दे रहे हैं बीमारी में अलग रहने का संदेश

चली गई है जान...

आरोपी महिला ने सह आरोपी के साथ मिलकर पति के अंतरंग और निजी वीडियो टिक टॉक पर पोस्ट किए थे। इससे आहत व्यक्ति ने बाद में आत्महत्या कर ली थी। जस्टिस पणिग्रही ने कहा कि मामले में ऐसा सामने आया है कि ऐप वीडियो के कारण निर्दोष की जान चली गई। टिक टॉक का चलन किसी को प्रताड़ित करने के लिए, आपत्तिजनक सामग्री का दुरुउपयोग करने में बढ़ रहा है। डिजिटल प्लेटफॉर्म से ऐसे अपराधों को अंजाम दिया जाता है।

यह भी पढ़ें: दिल्ली दंगों पर खर्च हुए 1.3 करोड़ रुपए, चार्जशीट में पुलिस ने ताहिर हुसैन को बताया मास्टर माइंड

 

TIK TOK को लेकर कोर्ट ने कहा- 'अश्लील कल्चर बढ रहा, ऐप पर लगे लगाम', जानिए क्या है पूरा मामला

गौरतलब है कि उपरोक्त मामला एक उदाहरण मात्र है। टिक टॉक बनाते समय कईं लोगों जान जाने के मामले पहले भी सामने आ चुके हैं। 28 मई की रात राजस्थान के दौसा जिले में 15 वर्षीय छात्र विक्रम महावीर गले में गमछा डालकर फंदा लगाने की एक्टिंग करते हुए टिक टॉक वीडियो बना रहा था इसी दौरान फंदा ज्यादा कसने से उसकी मौत हो गई थी। इससे पहले उत्तरप्रदेश के वाराणसी में रामनगर थाना के वारीगढ़ही मोहल्ले के तौसीफ, रिजवान, फरदीन, मोहम्मद सैफ और वाजिदपुर सीवान का मोहम्मद रेहान खान उर्फ लकी अपने दो अन्य दोस्तों के साथ शुक्रवार को सिपहिया घाट पर गए थे। यहां टिक टॉक बनाते समय लकी का पैर घाट से फिसल गया। उसके बचाने के लिए एक एक करके गए सभी बच्चे डूब गए। इस तरह पांचों की डूबने से मौत हो गई। टिक टॉक पर पहले भी अश्लीलता फैलाने, रेप कल्चर, एसिड अटैक को प्रमोट करने और नफरत फैलाने जैसे आरोप लग चुके हैं। कई यूजर्स के एकाउंट ऐसे आरोपों के चलते बंद भी किए गए हैं।


ओडिशा की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

Show More
Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned