Bijnor: मंत्री बोले- 2000 बांग्‍लादेशियों को मिलेगी नागरिकता- देखें Video

Highlights

  • Bijnor के घासी वाला गांव में पहुंचे मंत्री Kapil Dev Agrawal
  • Bangladesh के हिंदुओं को Citizenship Amendment Act की जानकारी दी
  • कहा- यह कानून India के किसी भी नागरिक के विरोध में नहीं है

By: sharad asthana

Updated: 06 Jan 2020, 10:58 AM IST

बिजनौर। नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को मचे बवाल के बीच भाजपा (BJP) ने जागरुकता अभियान चलाया हुआ है। इसी कड़ी में प्रभारी मंत्री कपिल देव अग्रवाल (Kapil Dev Agrawal) रविवार को बिजनौर (Bijnor) के घासी वाला गांव में पहुंचे। वहां उन्‍होंने बांग्‍लादेश (Bangladesh) के हिंदुओं को नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यह कानून भारत (India) के किसी भी नागरिक के विरोध में नहीं है। कुछ राजनीतिक पार्टियों ने लोगों को कानून को विरोधी बताकर हिंसक घटना कराई थी।

यह भी पढ़ें: Rampur: मुस्लिमों के घर पहुंचे Naqvi, बोले- हर मुस्लिम हिंदुस्‍तानी था, हिंदुस्‍तानी है, हिंदुस्‍तानी रहेगा

यह कहा मंत्री ने

प्रभारी मंत्री कपिल देव अग्रवाल ने घासी वाला गांव में कहा कि प्रधानमंत्री के प्रयास से लोकसभा और राज्य सभा ने नागरिकता संशोधन अधिनियम को पारित किया है। यह प्रस्ताव इसलिए पारित किया गया कि जो शरणार्थी लंबे समय से पाकिस्तान, बंगाल और अफगानिस्तान से आकर भारत में रह रहे हैं, उनको देश में नागरिकता मिल सके। काफी समय तक उन्हें उन देशों में प्रताड़ित किया गया है। अल्पसंख्यक होने के कारण लोगों ने उनका अपमान किया है। ये लंबे समय से भारत में रह रहे थे। उनको नागरिकता देने के लिए यह अमेंडमेंट और संशोधन संविधान के अंदर हुआ है।

यह भी पढ़ें: Muzaffarnagar: शिव‍सैनिकों ने कहा- भारत सरकार पाकिस्‍तान पर कब्‍जा करके उसे हिंदू राष्‍ट्र घोषित करे- देखें Video

पाकिस्‍तान पर साधा निशाना

इस कानून से देश में रहने वाले सभी नागरिकों हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई या अन्य जाति के लोगों को किसी तरीके का कोई भी खतरा नहीं है। घासीवाला गांव के 2000 बंगाली परिवार के लोगों को इस कानून के बनने के बाद कुछ ही दिन में विधिवत तरीके से नागरिकता मिलने जा रही है। इससे यहां रह रहे लोगों में खुशी की लहर है। मंत्री ने कहा कि धर्मांतरण के नाम पर पाकिस्तान में सिख युवती का धर्म परिवर्तन कराया गया और बाद में उसे रिहा किया गया। गुरुद्वारों में भी आग लगाई गई है। पाकिस्तान किस तरीके से अल्पसंख्यकों का उत्पीड़न कर रहा है, यह इसका बड़ा उदाहरण है।

BJP
sharad asthana
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned