यूपी की अनोखी पुलिस, आरोपियों की बजाए पीड़िता के पति को इसलिए भेज दिया जेल

महिला ने एसपी आॅफिस पहुंचकर एसएसआर्इ के खिलाफ दी शिकायत

By: Nitin Sharma

Published: 26 Apr 2018, 05:02 PM IST

बिजनौर।बिजनौर के सीकरी गांव में एक शख्स ने नहटौर थाने के एसएसआर्इ के खिलाफ पत्नी के शराबियों द्घारा छेड़छाड़ करने की शिकायत पर आरोपियों पर कार्रवार्इ की जगह पति को जेल भेजने का आरोप लगाया है। अब पति ने एसएसआर्इ की शिकायत एसपी देहात आॅफिस में दी। हालांकि पुलिस अधिकारियों ने इस तरह का मामला संज्ञान में होने से इनकार किया है।

यह भी पढ़ें-बड़ी खबर: योगी सरकार का बड़ा तोहफा इस जिले के किसान जल्द बन जाएंगे करोड़पति

पत्नी के साथ हुर्इ थी यह वारदात

गांव सीकरी का रहने वाले एक शख्स ने नहटौर थाने के एसएसआई दरोगा मदन मोहन चतुर्वेदी पर मारपीट और जबरन जेल भेजने का आरोप लगाते हुए गुरुवार को एसपी आॅफिस में दरोगा के खिलाफ एक प्रार्थना पत्र एसपी आॅफिस में दिया है। पीड़ित का आरोप है कि 22 अप्रैल की रात्रि 9 बजे उसकी पत्नी पास की दुकान में घर का सामान लेने गई थी। वह सामान लेकर लौट रही थी। इसी दौरान पत्नी के साथ गांव के 2 शराबियों ने नशे में बदतमीजी की और उसके कपड़े फाड़ दिए। महिला के चीख पुकार सुनने पर ग्रामीणों ने महिला को शराबियों के चंगुल से छुड़वाया और थाने ले गए।

यह भी पढ़ें-पति ने पत्नी की थाने में बतार्इ एेसी बात, जिसे सुनकर चौंक गर्इ पुलिस

यह भी पढ़ें-कोर्ट के फैसले खुश लेकिन आसाराम की सजा को इस परिवार ने बताया कम

पीड़ित महिला ने पुलिस पर लगाया ये गंभीर आरोप

आरोप है कि इंचार्ज चन्द्र किरण यादव छुट्टी पर थे और एसएसआई मदन मोहन उस दिन थाने के इंचार्ज थे। पीड़ित महिला द्वारा आरोपी के खिलाफ तहरीर देने पर एसएसआई ने आरोपी के खिलाफ तहरीर नहीं ली और उल्टा ही रात तकरीबन 10 बजे पीड़ित महिला के पति को दो घंटे बाद घर से उठा लिया। आरोप है कि एसएसआई मदन मोहन ने आरोपी शोभित त्यागी के सामने मुझसे गाली गलौच करते हुए मेरे साथ मारपीट की और अलग अलग धाराआें में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। वहीं पीड़ित ने आरोप लगाया कि मैं तुम्हारा एनकाउंटर कर दूंगा। इस गुरुवार को पीड़ित इंसाफ की आस लेकर बिजनौर एसपी अाॅफिस प्रार्थना पत्र लेकर एसपी से मिलने ग्रामीणों के साथ आया पहुंचा। वहीं बिजनौर एसपी ग्रामीण विश्वजीत श्रीवास्तव ने इस मामले को लेकर फोन पर बताया कि उनके संज्ञान में मामला नहीं है। अगर पीड़ित द्वारा कोई प्रार्थना पत्र दिया गया है,तो जांच कर कार्रवार्इ की जाएगी।

Nitin Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned