कोर्ट के फैसले से खुश लेकिन आसाराम की सजा को इस परिवार ने बताया कम

अज्ञात बदमाशों ने कर दी थी सरकारी गवाह की हत्याा

By: Nitin Sharma

Published: 26 Apr 2018, 01:07 PM IST

मुजफ्फरनगर।नाबालिक लड़की से रेप के मामले में जेल में बंद आसाराम को जोधपुर अदालत ने दोषी मानते हुए उम्र कैद आैर दो अन्य साथियों को 20-20 साल के कारावास की सजा सुनार्इ। इस मामले में कोर्ट के फैसले का जितना इंतजार पीड़ित युवती के परिजनों को था। उससे कहीं ज्यादा इंतजार मुजफ्फरनगर निवासी नरेश गुप्ता व उसकी पुत्र वधू वर्षा गुप्ता को भी था। ये परिवार सुबह से ही इस फैसले के इंतजार में बैठे रहे और जैसे ही कोर्ट का फैसला आया तो बोल उठे कि भगवान के घर देर है अंधेर नहीं है। हालांकि उन्होंने कोर्ट के फैसले पर खुशी जाहिर करते हुए बोला की यह सजा कम है।

यह भी पढ़ें-एटीएम में कैश की कमी के बाद अब इस वजह से तीन दिन बंद रहेंगे बैंक

सरकारी गवाह की गोली मारकर कर दी थी हत्या

नाबालिक युवती से रेप के मामले में कथा वाचक आसाराम मामले में बुधवार को जोधपुर कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए मामले में आसाराम को उम्र कैद व होस्टल की वार्डन शिल्पी व एक अन्य दो २० साल की सजा सुनार्इ है। नाबालिक से रेप के इस बहुचर्चित मामले में जनपद मुजफ्फरनगर के थानाा नई मंडी कोतवाली गीताा एंक्लेव निवासी नरेश गुप्ताा के बेटे अखिल गुप्ता जो कि इस बहुचर्चित मामलेे का सरकारी गवाह था। जिसकी 11 जनवरी 2015 को उस समय अज्ञात बदमाशों ने गोलियों से भूनकर हत्या कर दी थी जब वह अपनी दुकान से घर जा रहा था।

यह भी पढ़ें-इस युवती के है 15 पति सुहागरात के बाद करती है ये काम

यह भी पढ़ें-एयरपोर्ट के पास घर खरीदने वालों के लिए बड़ी खबर, अब नहीं कर सकेंगे ये काम

कोर्ट के फैसले के बाद परिवार खुश, लेकिन सजा को बताया कम

इस मामले की जांच चल रही है वहीं अखिल की पत्नी वर्षा गुप्ता भी इसी मामले मे गवाह है। नरेश गुप्ता की हत्या के बाद से उसी दिन से उनके घर पर फोर्स तैनात है। वहीं आसाराम को मिली सजा से ये परिवार खुश तो है, मगर मृतक गवाह अखिल गुप्ता के पिता नरेश गुप्ता का कहना है कि जिस मामले में हम लड़ाई लड़ रहे है ये उसका फैसला नहीं है। कानून अपना काम कर रहा हैं। कोर्ट ने जो फैसला सुनाया है। वो सही है। मगर जिस तरह का अपराध किया गया है। उस हिसाब से सजा कम है। उन्हें भगवान और कानून पर पूरा भरोसा है बुधवार को नरेश गुप्ता और उसकी पुत्र वधु व मामले की गवाह वर्षा गुप्ता रोजाना की तरह दुकान पर गर्इ। इस दौरान उनकी दुकान पर मीडिया का जमावड़ा लगा रहा ।मगर उन्होंने फैसला आने से पहले अपना मुंह नहीं खोला बल्कि जब आसाराम सहित तीन आरोपियों पर कोर्ट ने दोष सिद्ध किया गया। तो दोनों खुश नजर आये।

Show More
Nitin Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned