जनता झुळस रयी है देखो ई बोटो री आस में, नेता रोटी खाय रया है पंचभेळ रे साग में

bikaner rammat - स्वांग मेहरी रम्मतों में राजनीति और नेताओं पर करारे व्यंग्य
बिस्सों के चौक में हुआ भक्त पूरणमल रम्मत का मंचन

By: Vimal

Published: 07 Mar 2020, 06:24 AM IST

बीकानेर. होलाष्टक में मंचित हो रही रम्मतों के क्रम में शुक्रवार को बिस्सों के चौक में भक्त पूरणमल रम्मत का मंचन हुआ। गुरुवार मध्यरात्रि बाद शुरू हुई यह रम्मत शुक्रवार सुबह तक चली। इस दौरान पूरी रात रम्मतों के शौकिन रम्मत स्थल पर मौजूद रहे और कलाकारों का उत्साहवद्र्धन करते रहे।

वहीं कीकाणी व्यासों के चौक में शुक्रवार मध्यरात्रि बाद उस्ताद जमनादास कल्ला की स्वांग मेहरी रम्मत का मंचन शुरू हुआ। यह रम्मत शनिवार सुबह तक मंचित होगी। रम्मत का आगाज मां लटियाल स्वरूप के अखाडे़ में पदार्पण के साथ हुआ। उपस्थित जनसमूह ने मां लटियाल की वंदना की। रम्मत के वरिष्ठ कलाकार मदनगोपाल व्यास ने बताया कि शनिवार सुबह चौमासा और ख्याल गीतों का गायन होगा। ख्याल गीत में देश के वर्तमान हालातों सहित राजनीति, आमजन की पीड़ाओं को रखा जाएगा। ख्याल गीत में कांग्रेस-भाजपा गावै आप-आप री राग में, वहीं ‘जनता झुळस रयी है देखो ई बोटो री आग में, नेता रोटी खाय रया है पंचभेळ रे साग में’ के माध्यम राजनीति और नेताओं पर

जनता ने मत लडवावो, बचावो अब भारत ने महाकाल
बारह गुवाड़ चौक में शनिवार सुबह उस्ताद दासी महाराज ओझा की स्वांग मेहरी रम्मत का मंचन होगा। अलसुबह भगवान स्वरूप के अखाडे में पदार्पण के साथ रम्मत का आगाज होगा। इसके बाद बोहरा-बोहरी, खाकी पात्र अच्छे जमाने के शगुन मनाए जाएंगे। उस्ताद बंशी महाराज के नेतृत्व में लावणी, चौमासा और ख्याल गीतों का गायन होगा। रम्मत कलाकार मुन्ना महाराज ने बताया कि ख्याल गीत में ‘नहीं धर्म बीच में लावो, जनता ने मत लडवावो, बचावो अब भारत ने महाकाल’ वहीं ‘कुछ नमक अठै रो खाता, गुण पाकिस्तान के गाता’ के माध्यम से देश के वर्तमान हालातों और पडौसी देश पर कटाक्ष किए जाएंगे।

Vimal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned