विधायक के नाम पर जेल से रचा यूं ठगी का खेल

बीकानेर के व्यापारी केबी गुप्ता के पास कोलायत विधायक भंवरसिंह भाटी की आवाज में तीन बार फोन आया।

By: dinesh swami

Published: 20 Jul 2018, 08:51 AM IST

बीकानेर/जयपुर. 'हैलो, विधायक भंवर सिंह भाटी बोल रहा हूं... जयपुर में मेडिकल इमरजेंसी के चलते रुपए की जरूरत है, कुछ व्यवस्था करवा दो।Ó कुछ इस तरह से बीकानेर के व्यापारी केबी गुप्ता के पास कोलायत विधायक भंवरसिंह भाटी की आवाज में तीन बार फोन आया। व्यापारी गुप्ता ने जयपुर में अपने परिचित व्यापारी राजेश से विधायक की मदद के लिए तीन किस्तों में 15.50 लाख रुपए दिलवा दिए। इसके बाद विधायक भाटी से संपर्क किया तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गई।

 

विधायक भाटी ने रुपए मांगने से इनकार कर दिया और जल्दी से थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने की नसीहत दी। बाद में जयपुर के व्यापारी ने विश्वकर्मा थाने में मामला दर्ज करवाया। पुलिस पड़ताल में विधायक की आवाज में फोन करने वाले का मोबाइल जोधपुर जेल में चलने का पता चला। जोधपुर जेल में भी मोबाइल जिस बंदी ने उपयोग में लिया, वह बंदी पहले से कई ठगी के मामलों में बंद है।

 

वह मिमिक्री में एक्सपर्ट बताया जा रहा है। आरोपी के कहने पर जो लोग जयपुर में व्यापारियों से रुपए लेकर गए थे, उनको तलाशा जा रहा है। इन्होंने तस्दीक कर ली तो बची रकम : अगले ही दिन आरोपित ने भंवर सिंह की आवाज में बीकानेर के दूसरे व्यापारी विजय ढाका को फोन किया और इलाज के लिए करीब १५ लाख रुपए मांगे। व्यापारी के बेटे ने कंफर्म करने के लिए विधायक को फोन किया तो विधायक ने देने से मना कर दिया।

 

तीन बार में की ठगी : ठगी के संबंध में रोड नंबर एक स्थित फैक्ट्री के निदेशक राजेश अग्रवाल ने रिपोर्ट दर्ज करवाई है। उन्होंने बताया कि १७ जुलाई की सुबह उनके बीकानेर निवासी परिचित केबी गुप्ता ने फोन किया। उन्होंने कहा कि उनके परिचित को जयपुर में मेडिकल इमरजेंसी है, साढ़े छह लाख रुपए चाहिए। अनिल शर्मा नाम का व्यक्ति आया और रुपए ले गया। कुछ घंटों बाद फिर फोन आया और कहा कि ४ लाख रुपए और चाहिए। राजेश ने वह भी उपलब्ध करवा दिए।

 

इसी दिन देर शाम को फिर फोन आया और कहा कि पांच लाख और उपलब्ध करवा दो, उसे अहमदाबाद रैफर किया है। राजेश ने विद्याधर नगर निवासी अपने मित्र से रुपए दिलवा दिए। दो लोगों का लगा रही पता : वीकेआई पुलिस मामले में उन दो लोगों की तलाश कर रही है, जो व्यापारी राजेश अग्रवाल और उनके परिचित से रुपए लेकर गए थे। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज भी जुटाए हैं।

 

 


यूं रचा ठगी का खेल

विधायक भाटी को उनके नाम से ठगी का पता चला तो उन्हें कई जानकारियां मिलीं। विधायक ने बताया कि वे कई दिनों से जयपुर में इलाज करवा रहे हैं। जेल से आरोपित ने सबसे पहले कोलायत के सरपंच को फोन किया और एमएलए के बारे में पूछा। सरपंच ने भाटी के जयपुर में इलाज करवाने की जानकारी दी।

 

उसके बाद आरोपित ने जेल में से ही गजनेर थाने में फोन किया और कहा, 'मैं मंत्री पुष्पेन्द्र सिंह राणावत बोल रहा हूं। मुझे टाइल्स लेनी है।अच्छे से व्यापारी के नंबर दो।Ó उन्होंने कई व्यापारियों की जानकारी दी, उसके बाद उसने व्यापारी केबी गुप्ता को भंवर सिंह बनकर फोन किया।

 

 

वाट्सएेप पर विधायक का फोटो
व्यापारी केबी गुप्ता ने विधायक के दूसरे नंबर से फोन करने के बारे में पूछा तो दूसरी तरफ से कहा गया कि यह उनकी ही नंबर है। आरोपित ने वाट्सएेप पर भी विधायक का फोटो लगा रखा थी। इसलिए व्यापारी को दूसरा नंबर होने पर शक नहीं हुआ।

 

 


जेल से चल रहा था खेल
पुलिस ने मोबाइल नंबर की लोकेशन ट्रेस की तो वह जोधपुर जेल का आया। वहां चैकिंग की तो जेल में बंद आरोपित सुरेश ढांची के पास फोन बरामद किया गया। इस संबंध में रतनाड़ा थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई गई। वीकेआई थानाधिकारी कैलाश जिंदल ने बताया कि आरोपित के विरुद्ध ठगी के कई मामले दर्ज हैं और वह जेल से ही खेल खेल रहा था।

 

 


मैं कई दिनों से जयपुर में इलाज करवा रहा हंू। आरोपित ने मेरी आवाज में बीकानेर के व्यापारी को फोन कर जयपुर में ठगी की है। इस संबंध में गृह मंत्री व जयपुर पुलिस से मैंने बात की है। मुख्य आरोपित जोधपुर जेल में बंद है। हैरानी की बात है कि जोधपुर जेल में बैठा आरोपित प्रदेश के व्यापारियों को ठगी का शिकार बना रहा है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि जेल की सुरक्षा व्यवस्था कैसी होती होगी। इस प्रकरण की जांच की जाए तो कई अन्य मामलों का खुलासा हो सकता है। आरोपित पहले भी कई लोगों के साथ श्रीकोलायत में ठगी कर चुका है।
भंवर सिंह भाटी, विधायक, कोलायत

Show More
dinesh swami Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned