क्या धर्म को लेकर हुई ऋतिक रोशन और सुजैन खान में अनबन?

By: Sunita Adhikari
| Published: 19 Jun 2021, 06:22 PM IST
क्या धर्म को लेकर हुई ऋतिक रोशन और सुजैन खान में अनबन?
Hrithik Roshan Sussanne Khan

ऋतिक रोशन और सुजैन खान ने लव मैरिज की थी। हालांकि, शादी के 14 साल बाद दोनों ने तलाक ले लिया। लेकिन तलाक के बाद भी दोनों एक-दूसरे का बहुत सम्मान करते हैं।

नई दिल्ली। ऋतिक रोशन और सुजैन खान भले ही अब अलग हो चुके हैं। लेकिन एक वक्त था जब उन्हें बॉलीवुड का पावर कपल कहा जाता था। दोनों की जोड़ी को काफी पसंद किया जाता था। ऐसे में किसी ने कभी भी ये नहीं सोचा था कि ये जोड़ी अलग हो जाएगी। ऋतिक और सुजैन ने शादी के 14 साल बाद तलाक ले लिया था। दोनों के तलाक को लेकर लोगों के मन में कई तरह के सवाल उठे। कई रिपोर्ट्स में ये दावा किया गया कि ऋतिक शादीशुदा होते हुए भी किसी और को डेट कर रहे थे, जिसके कारण दोनों अलग हुए। हालांकि, इन सबके बावजूद दोनों ने अपने रिश्ते को सम्मानजनक बनाए रखा है।

ये भी पढ़ें: मीना कुमारी के निधन पर नरगिस ने क्यों कहा- 'मौत मुबारक हो'

क्या धर्म के कारण हुई अनबन?
तलाक के बाद ऋतिक और सुजैन एक-दूसरे की बहुत इज्जत करते हैं। दोनों को अक्सर साथ में स्पॉट किया जाता है। दोनों अपने बच्चों के साथ वक्त बिताते हैं। तलाक के सात साल बाद भी दोनों एक-दूसरे बहुत अच्छे दोस्त हैं। हालांकि, कई बार लोगों के मन में तरह-तरह के सवाल आते हैं कि कहीं दोनों के अलग-अलग धर्म होने के वजह से दोनों के बीच कभी अनबन हुई? ऐसे में करण जौहर के चैट शो कॉफी विद करण में सुजैन ने इस बात का जवाब दिया था।

hrithik_roshan.jpg

इंटर-कास्ट मैरिज पर बात की
उन्होंने बताया कि दोनों के बीच धर्म को लेकर कभी कोई विवाद नहीं हुआ और न ही अनबन हुई। दरअसल, साल 2004 में सुजैन खान करण जौहर के शो में पहुंची थीं। सी दौरान उन्होंने अपनी इंटर-कास्ट मैरिज पर बात की थी। उन्होंने कहा था ऋतिक और वो एक-दूसरे के धर्म का पूरा सम्मान करते हैं। दोनों चाहते हैं कि उनके बच्चे भी इसी का पालन करें और सेक्युलर बनें।

ये भी पढ़ें: करीना कपूर खान ने अपने घर पर रखी पार्टी, बॉयफ्रेंड अर्जुन कपूर के साथ पहुंचीं मलाइका अरोड़ा

दोनों धर्म बहुत सुंदर और मजबूत हैं
सुजैन ने कहा था, 'आप भले ही दूसरे धर्म में शादी करते हैं लेकिन आप जहां पैदा हुए हैं और जो साथ लाए हैं आपको उसका सम्मान करना होगा। आपको अपने बच्चों को दोनों धर्मों का बेस्ट देना होगा। आप उनमें दोनों धर्मों की अच्छाई को आत्मसात करें। दोनों धर्मों में से सर्वश्रेष्ठ को उनमें शामिल करें, क्योंकि यह एक अच्छा कॉम्बीनेशन होगा।' सुजैन ने कहा था कि दोनों धर्म बहुत सुंदर और मजबूत हैं।