scriptKnow about oscar award winning director Satyajit Ray | भारतीय सिनेमा का वो डायरेक्टर जिसके लिए ‘आस्कर अवार्ड’ खुद चलकर आया था इंडिया | Patrika News

भारतीय सिनेमा का वो डायरेक्टर जिसके लिए ‘आस्कर अवार्ड’ खुद चलकर आया था इंडिया

सत्यजीत रे को आज भी एक ऐसे फिल्मकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपनी फिल्मों में जिंदगी की छोटी-छोटी बातों को महत्व दिया। सत्यजीत रे ने जब अपनी फिल्म को ऑस्कर में भेजना सही नहीं समझा था तो खुद ऑस्कर अवार्ड इनके लिए भारत भेज दिया गया था।

Updated: December 07, 2021 06:30:44 pm

नई दिल्ली। Oscar award winning director Satyajit Ray: इंडियन फिल्म इंडस्ट्री में कई ऐसे डायरेक्टर हुए और हैं, जिन्होंने एक से बढ़कर एक फिल्में दी और कई पुरस्कार भी जीते हैं। आज हम आपको एक ऐसे फिल्म मेकर, डायरेक्टर के बारे में बता रहे हैं। जिसने जब अपनी फिल्म को ऑस्कर में भेजना सही नहीं समझा था तो खुद ऑस्कर चलकर उनके पास आया था।
Know about oscar award winning director Satyajit Ray
director Satyajit Ray
अलविदा कहे कई साल हो चुके हैं

दरअसल हम किसी और कि नहीं बल्कि 32 राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता सत्यजीत रे (Satyajit Ray) की बात कर रहे हैं। सत्यजीत रे को इस दुनिया को अलविदा कहे कई साल हो चुके हैं, लेकिन उनके द्वारा किए गए काम आज भी फिल्म मेकर्स के लिए मिसाल हैं। सत्यजीत रे ने अपने करियर में कई हिट फिल्में दी और सिनेमा को आगे पहुंचाया।
आइडिया निश्चय में बदल गया
जब सत्यजीत रे तीन साल के थे तभी उनके पिता की मौत हो गई थी। जिसके कारण उनका बचपन काफी गरीबी से गुजरा था। सारी जिम्मेदारी मां के कंधों पर थी। इसलिए सत्यजीत रे ने ग्राफिक्स डिजाइनर की नौकरी करना शुरू किया, लेकिन फ्रांसीसी निर्देशक जां रेनोआ से उनकी मुलाकात ने सब पलटकर रख दिया और यहीं से पहली बार उनके दिमाग में फिल्म बनाने का आइडिया आया। साल 1950 में वह ऑफिस के काम से लंदन गए और यहां उन्होंने कई फिल्में देखीं, लेकिन फिल्म 'बाइसिकल थीव्स' देखकर उनका आइडिया निश्चय में बदल गया।
सरकार की मदद से फिल्म पूरी हुई
भारत लौटने के बाद 1952 में उन्होंने नौसिखिया टीम के साथ पहली फिल्म पाथेर पंचोली की शूटिंग शुरू कर दी। हालांकि कोई फाइनेंसर न होने की वजह से फिल्म की शूटिंग बीच में ही रुक गई। इसके बाद उनकी मदद के लिए बंगाल सरकार आगे आई। सरकार की मदद से ये फिल्म पूरी हुई और सिनेमाघरों में रिलीज की गई। फिल्म तो सुपरहिट साबित हुई साथ में फिल्म को कई अवॉर्ड मिले। इसके बाद उन्होंने चारूलता, महापुरुष, कंचनजंघा जैसी कई हिट फिल्में बनाई।
भारत सरकार की तरफ से सत्यजीत रे को 32 राष्ट्रीय पुरस्कार दिए गए। 1985 में उन्हें दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड से सम्मानित किया गया. 1992 में उन्हें भारत रत्न और ऑस्कर 'ऑनरेरी अवॉर्ड फॉर लाइफटाइम अचीवमेंट' भी दिया गया, लेकिन तबीयत ठीक न होने की वजह से ऑस्कर लेने नहीं जा सके बल्कि उन्हें ऑस्कर देने खुद पदाधिकारियों की टीम कोलकाता आई थी। इसके करीब एक महीने बाद 23 अप्रैल 1992 को सत्यजीत रे का निधन हो गया था।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां

बड़ी खबरें

Corona Vaccine: वैक्सीन के लिए नई गाइडलाइंस, कोरोना से ठीक होने के कितने महीने बाद लगेगा टीकामुंबई: 20 मंजिला इमारत में भीषण आग में दो की मौत, राहत बचाव कार्य जारीयूपी की हॉट विधानसभा सीट : गुरुओं की विरासत संभालने उतरे योगी आदित्यनाथ और अखिलेश यादवदेश विरोधी कंटेंट के खिलाफ सरकार की बड़ी कार्रवाई, 35 यूट्यूब चैनल किए ब्लॉकGood News: प्रियंका चोपड़ा और निक जोनस बने माता-पिता, एक्ट्रेस ने पोस्ट शेयर कर फैंस को बताया- बेबी आया है...ओमिक्रॉन का कहर-20 दिन में 117 फ्लाइट्स कैंसिलसरकारी स्कूल में कोरोना विस्फोट, पांच छात्र समेत टीचर की रिपोर्ट पॉजिटिव, SDM ने एक सप्ताह के लिए स्कूल किया बंदलखीमपुर खीरी कांड में दूसरी चार्जशीट दाखिल, चार किसानों को बनाया आरोपी, तीन को राहत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.