scriptPoet Manoj Muntashir Shared Poem On Bulldozer Action In Jahangirpuri | ‘कहीं पेट्रोल बम, कहीं पत्थर निकलता है…पट्टी बांध बुलडोजर निकलता है’, सिंगर Manoj Muntashir की इस बात पर मिले यूजर्स के ऐसे जवाब | Patrika News

‘कहीं पेट्रोल बम, कहीं पत्थर निकलता है…पट्टी बांध बुलडोजर निकलता है’, सिंगर Manoj Muntashir की इस बात पर मिले यूजर्स के ऐसे जवाब

इन दिनों जहां देखो जहांगीरपुरी हिंसा और बुलडोजर की कार्रवाई सुर्खियों में छाए हुए हैं. हर कोई इन विवादों पर बात कर रहा है. इसी बीच गीतकार मनोज मुंतशिर (Manoj Muntashir) ने ट्विटर पर कविता शेयर की है, जिसको लेकर वो ट्रोल हो गए हैं.

Updated: April 22, 2022 10:31:43 am

दिल्ली के जहांगीरपुरी इलाके में 20 अप्रैल को एनडीएमसी द्वारा अतिक्रमण विरोधी अभियान चलाया गया था, जिसमें मस्जिद के पास कई पक्के और अस्थाई ढांचों पर बुलडोजर चलाया गया. इस मामले पर नेता से लेकर अभिनेता अपनी राय रख रहे हैं. साथ ही ट्रोलर्स का सामना कर रहे हैं. इन्हीं में से एक मशहूर लेखक और गीतकार मनोज मुंतशिर (Manoj Muntashir) का नाम भी एक है.
‘कहीं पेट्रोल बम, कहीं पत्थर निकलता है…पट्टी बांध बुलडोजर निकलता है’
‘कहीं पेट्रोल बम, कहीं पत्थर निकलता है…पट्टी बांध बुलडोजर निकलता है’
हाल में इन्होंने इस मामले पर ट्विटर पर एक शायरी साझा की थी, जिसको लेकर अब बवाल मच गया है. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि 'कहीं पेट्रोल वाला बम, कहीं पत्थर निकलता है. कहीं तो आस्तीनों में दबा खंजर निकलता है. फसादी चूहों कोई बिल तलाशो और दुबक जाओ कि पट्टी बांधकर आंखों पे बुलडोजर निकलता है!'.
यह भी पढ़ें

'हम पत्थर नींव में रखेंगे, छत पर नहीं!', जब Paresh Rawal ने ट्विटर पर ऐसा जवाब देकर मचा दिया बवाल

वहीं अब उनके इस ट्वीट पर लोग अपनी अपनी प्रतिक्रिया जाहिर कर रहे हैं. एक यूजर ने लिखा ‘अच्छा ये तो उससे पूछो जिसका घर गिरा है. तब भी इतना साहस है तो एक बार अपना भी गिरवा लो पता लग जाएगा. उत्तर प्रदेश में ये बुलडोजर का ही खौफ है कि कोई पत्थर नहीं फेंक पाया. यहां हौसले पस्त हो गए'.
वहीं दूसरे यूजर ने लिखा कि 'वाह भईया! आज का समय बुलडोजर पर ही कविता मांग रहा था. फिर एक आग लगा देगी आपकी कविता, लगने दीजिए. युगों की परिस्थितियां देखकर ही कविताएं भी लिखी जाती होंगी और ये कविता इस युग की मांग है. धन्यवाद'.
वहीं तिसरा यूजर लिखता है 'मनोज भईया कवि बन के रहिये न उसी में आप अच्छे लगते हैं. अपनी धर्म संस्कृति का प्रचार प्रसार करिये, लोगों को सही सुगम रास्ते का चयन का सुझाव दीजिए. नफरत मत सिखाइये'. बता दें कि ये अभियान हनुमान जयंती पर निकले जुलूस में हुई हिंसा के बाद शुरू किया गया था.

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

कोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्टहरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायलConstable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाWeather Update: उत्तर भारत में भीषण गर्मी, इन राज्यों में आंधी और बारिश की अलर्टLucknow: क्या बदलने वाला है प्रदेश की राजधानी का नाम? CM योगी के ट्वीट से मिले संकेतजमैका के दौरे पर गए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने क्यों की सलवार-कुर्ता की चर्चा, जानिए इस टूर में और क्या-क्या हुआबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनगेहूं के निर्यात पर बैन पर भारत के समर्थन में आया चीन, G7 देशों को दिया करारा जवाब
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.