अमिताभ बच्चन ने कविता का क्रेडिट दिया प्रसून जोशी को, गीतकार ने दिया रिएक्शन

By: पवन राणा
| Published: 13 May 2021, 10:08 PM IST
अमिताभ बच्चन ने कविता का क्रेडिट दिया प्रसून जोशी को, गीतकार ने दिया रिएक्शन

अमिताभ बच्चन ने हाल ही एक कविता अपने सोशल मीडिया पर शेयर की। वीडियो फॉरमेट की इस कविता में बिग बी ने गलती से अपने पिता को क्रेडिट दे दिया। बाद में उन्होंने गलती सुधारते हुए कवि—गीतकार प्रसून जोशी को क्रेडिट दिया।

मुंबई। बॉलीवुड महानायक अमिताभ बच्चन सोशल मीडिया पर सबसे सक्रिय सेलेब्स में से एक हैं। ट्वीटर पर तो वह बाकायदा ट्वीट का नंबर भी मेंशन करते हैं। उनमें से बहुत सारे पोस्ट इंस्टाग्राम पर भी शेयर किए जाते हैं। एक्टर की खास बात ये है कि अगर उनसे कोई गलती हो जाए, तो उसे ठीक करने में वे जरा भी देर नहीं लगाते और अपनी गलती स्वीकार भी करते हैं। हाल ही ऐसा ही एक किस्सा उनके साथ हो गया। उन्होंने एक वीडियो पोस्ट किया और इसका क्रेडिट अपने पिता हरिवंशराय बच्चन को दे दिया। बाद में उन्होंने इस गलती को सही करते हुए इसका क्रेडिट कवि और लेखक प्रसून जोशी को दिया।

क्रेडिट दिया प्रसून जोशी को
दरअसल, अमिताभ बच्चन ने एक कविता पढ़ते हुए वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया है। इसमें उन्होंने इस कविता का क्रेडिट अपने पिता हरिवंशराय बच्चन को दिया। जब बाद में उन्हें अपनी गलती का अहसास हुआ तो नया पोस्ट कर प्रसून जोशी को क्रेडिट दिया। इस पर प्रसून जोशी ने भी अपना रिएक्शन दिया है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा,'नतमस्तक हूं, यदि इस कठिन समय में मेरी कविता "रुके न तू” सम्बल बनी, जिसे आदरणीय अमित जी ने सदा की तरह हृदय से पढ़ा है, इंटरनेट में कुछ स्थानों पर इस कविता को श्रद्धेय हरिवंश राय बच्चन की रचना समझा गया है, उनके शिल्प का मुझ में परिलक्षित होना सौभाग्य है। मां सरस्वती को नमन।'

यह भी पढ़ें : क्या अभिषेक बच्चन, अमिताभ बच्चन से अच्छे अभिनेता हैं? जोरों पर है चर्चा

यह भी पढ़ें : अमिताभ बच्चन ने दिल्ली के कोविड सेंटर के लिए दान किए 2 करोड़, बोलें- 'पैसों की चिंता मत करना,बस जानें बचाइए'

कविता से दिया संदेश

कविता के साथ बिग बी ने एक संदेश भी दिया है। उनके अनुसार कविता के शब्दों से सीख मिलती है कि हमें कभी हार नहीं माननी चाहिए। ये कविता तब लिखी गई थी जब देश अलग तरह के संकट से जूझ रहा था, लेकिन ऐसा लगता हे कि अब ये शब्द कोविड योद्धाओं के जज्बे को सेलिब्रेट करते हैं। कोविड वॉरियर्स हम सब के लिए अपना सबकुछ दांव पर लगा रहे हैं। यह वक्त उन्हें सहयोग देने और कोरोना के खिलाफ लड़ाई को आगे ले जाने का है। हम जो भी योगदान इसमें दे सकते हैं, वे करें। देश के लिए यह एकजुट होने का समय है।