जब संजय दत्त ने किया था खौफनाक खुलासा, बोले- मेरा खून पीकर मर जाते थे मच्छर

By: Sunita Adhikari
| Published: 24 Jul 2021, 07:19 PM IST
जब संजय दत्त ने किया था खौफनाक खुलासा, बोले- मेरा खून पीकर मर जाते थे मच्छर
sanjay dutt

संजय दत्त साल 1993 में मुबंई ब्लास्ट केस की वजह से जेल जा चुके हैं। जेल में लंबी सजा काटने के बाद उन्होंने रिएलिटी शो 'एंटरटेनमेंट की रात' में हिस्सा लिया था। इसमें उन्होंने अपनी निजी जिंदगी और जेल की जिंदगी के बारे में कई खुलासे किए।

नई दिल्ली। बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर संजय दत्त आए दिन सुर्खियों में बने रहते हैं। फिल्मों से ज्यादा वह अपनी निजी जिंदगी के लिए जाने जाते हैं। उनकी लाइफ किसी कहानी से कम नहीं है। उन्होंने अपनी जिंदगी में काफी मुश्किल भरा वक्त देखा है। यही वजह है कि उनके ऊपर फिल्म भी बन चुकी है। जिसे दर्शकों ने अपना खूब प्यार दिखाया। सभी जानते हैं कि संजय दत्त साल 1993 में मुबंई ब्लास्ट केस की वजह से जेल जा चुके हैं। जेल में लंबी सजा काटने के बाद उन्होंने रिएलिटी शो 'एंटरटेनमेंट की रात' में हिस्सा लिया था। इसमें उन्होंने अपनी निजी जिंदगी और जेल की जिंदगी के बारे में कई खुलासे किए।

ये भी पढ़ें: जब घर की दीवार गंदी करने पर सलमान खान की नौकर ने कर दी पिटाई

इसके अलावा, संजय दत्त ने अपने नशे की आदत के बारे में भी बताया था। संजय दत्त को ड्रग्स की बहुत बुरी लत पड़ गई थी। लंबे वक्त तक वह इस लत की चपेट में रहे थे। उन्होंने बताया था कि ऐसा कोई ड्रग्स नहीं था, जिसका उन्होंने सेवन नहीं किया हो। मच्छर मेरा खून पीते थे और मर जाते थे। शायद मेरे खून में ओवरडोज की वजह से ऐसा होता था।

sanjay_dutt.jpg

शो में संजय कहते हैं, 'मैं लेटे-लेटे देखता था कि मच्छर मेरे पास आया। मैं उसे देखता था। वो मुझे काटता और मेरा खून पीते ही नीचे गिर गया। पंख हिलाता था। लेकिन उड़ नहीं पाता था और उल्टा होकर मर जाता था। मुझे कई बार हंसी भी आती थी कि मच्छर सोचता होगा कि खून पियूंगा और खून पीते ही मर जाता। संजय दत्त की इस बात को सुनकर वहां बैठे सभी लोग हंसने लगे। इसके बाद संजय कहते हैं कि जो नशा काम में और परिवार के साथ है वो कहीं भी नहीं है। मैं सभी यंग लोगों से कहना चाहता हूं कि नशे से दूर रहें।'

ये भी पढ़ें: करीना कपूर के छोटे बेटे को गोद में लिए नजर आईं सारा अली खान, तस्वीर हो रही है जमकर वायरल

साथ ही, संजय दत्त वीडियो में कहते हैं, सबसे पहले तो उम्मीद करना ही बंद कर दो। मैंने ये जेल में सीखा है कि आई होप मेरा बेल हो जाए, आई होप कुछ अच्छा हो जाए। लेकिन फिर मुझे जेल में किसी ने कहा कि उम्मीद करना बंद कर दो। जिस दिन ये कर दोगे उस दिन से अच्छा होगा।