ये तैयार है : दीपक जलाकर फैलाएंगे उम्मीद का प्रकाश

प्यार का दीप एक तुम जलाकर देखो, अमावस के घनेरे भी ढल जाएंगे
शहरवासी बोले हम जलाएंगे उमीद का प्रकाश
- किसी ने कविता बनाकर दिया संदेश

By: ranjeet pardeshi

Published: 05 Apr 2020, 06:02 AM IST

बुरहानपुर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग के दौरान एक बार फिर देशवासियों को बेहद सकारात्मक संदेश दिया है। उन्होंने सभी से अपील की है कि वे लॉकडाउन का सती से पालन करें। कोरोना के अंधेरे से लडऩे के लिए 5 अप्रैल को 9 बजे 9 मिनट के लिए अपने देश के लिए प्रकाश बने। इस संदेश के बाद शहरवासी भी तैयार हो गए। कोईघरों की छत पर दीप जलाएंगे तो किसी ने कविता से समर्थन दिया।

यह बोले शहरवासी
: इंदिरा कॉलोनी निवासी शिक्षक राखी द्विवेदी ने कहा कि मानव जाति के लिए चिंता का कारण बने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई के तेज करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो संदेश दिया है, यह लोगों में सकारात्मकता विचार पैदा करेगा। कोरोना ने हमारी आस्था, परंपराएं, विश्वास, विचारधारा पर हमला बोला है। हमें इन्हें बचाने के लिए सबसे पहले कोरोना वायरस को परास्त करना है।

सभी को एकजुट होकर कोरोना को हराना है
शिक्षाविद् अजयसिंग मौर्य ने कहा कि आज आवश्यकता है कि सभी लोग एकजुट होकर कोरोना महामारी को परजित करें। 5 अप्रैल रविवार को रात ९ बजे घर की सभी लाइट्स बंद करके दीपक, मोम बत्ती या मोबाइल की लैश लाइट जलाएं। यह प्रकाश उजागर करेगा कि कोरोना के खिलाफ हम सब मिलकर लड़ रहे हैं।

पत्थर भी मोम बन पिघल जाएगा।
कवि ठाकुर वीरेंद्रसिंह ने कोरोना से लडऩे के लिए कविता बनाई। कहा कि ये अंधेरा रोशनी में बदल जाएंगे, पत्थर भी मोम बनकर पिघल जाएंगे, प्यार का दीप एक तुम जलाकर देखो, अमावस के घनेरे भी ढल जाएंगे। सभी एक जुट होकर अपने घरों की छत या घर के बाहर दीपक जलाए।

ranjeet pardeshi Bureau Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned