WTC फाइनल में भारत शानदार प्रदर्शन कर सकता है, काउंटी का अनुभव काम आएगा: विहारी

विहारी ने कहा है कि न्यूजीलैंड जैसी मजबूत प्रतिद्वंद्वी होने के बावजूद भारत आगामी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में शानदार प्रदर्शन करने को लेकर आश्वस्त है। डब्ल्यूटीसी का फाइनल साउथम्टपन में 18 से 22 जुलाई तक खेला जाएगा।

By: Mahendra Yadav

Published: 16 May 2021, 05:58 PM IST

भारतीय बल्लेबाज हनुमा विहारी ने कहा है कि न्यूजीलैंड जैसी मजबूत प्रतिद्वंद्वी होने के बावजूद भारत आगामी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में शानदार प्रदर्शन करने को लेकर आश्वस्त है। बता दें कि भारत और न्यूजीलैंड के बीच डब्ल्यूटीसी का फाइनल साउथम्टपन में 18 से 22 जुलाई तक खेला जाएगा। विहारी ने एक इंटरव्यू में कहा कि वे डब्ल्यूटीसी फाइनल और इंग्लैंड सीरीज के लिए हर तरीके से बेहतरीन तैयारी करने की कोशिश कर रहा हूं। यह सभी भारतीय प्रशंसकों के लिए रोमांचक होने जा रहा है क्योंकि यह डब्ल्यूटीसी का पहला संस्करण है। हम न्यूजीलैंड जैसी मजबूत टीम के खिलाफ खेलने जा रहे हैं। वहां की परिस्थितियां चुनौतीपूर्ण होने वाली है। हम सब यह जानते हैं, लेकिन भारतीय टीम शानदार चीजें कर सकती है।

चोट के कारण हो गए थे बाहर
विहारी चोट के कारण इंग्लैंड सीरीज के दौरान भारतीय टीम का हिस्सा नहीं थे। उन्हें आस्ट्रेलिया दौरे पर जनवरी में चोट लग गई थी। हालांकि उसके बाद से उन्होंने विजय हजारे ट्रॉफी में आंध्र के लिए सात मैच खेले हैं। उन्होंने कहा, मैं इस बात को लेकर आश्वस्त हूं कि हम डब्ल्यूटीसी फाइनल में शानदार प्रदर्शन करने को लेकर आश्वस्त हैं। मैं डब्ल्यूटीसी फाइनल और इंग्लैंड सीरीज के लिए बेस्ट से बेस्ट तैयारी कर रहा हूं।

यह भी पढ़ें— पूर्व भारतीय ऑलराउंडर और BCCI के रेफरी राजेन्द्र जडेजा का कोरोना से निधन

hanuma_vihari2.png

काउंटी में सीखने को मिला
हनुमा विहारी का कहना है कि काउंटी खेलना उनके लिए चुनौतीपूर्ण रहा लेकिन सीखने के लिए एक अच्छा अनुभव रहा। बता दें कि विहारी इंग्लिश काउंटी वारविकशायर की तरफ से खेलने के लिए अप्रैल के शुरू में इंग्लैंड रवाना हो गए थे। उन्होंने तीन मैच के लिए वारविकशायर के साथ करार किया था। हालांकि नॉटिंघमशायर के खिलाफ पहली पारी में हनुमा शून्य पर आउट हो गए थे।

यह भी पढ़ें— कोरोना की वजह से श्रीलंका और भारत के बीच होने वाली सीमित ओवरों की सीरीज पर खतरा!

काउंटी का अनुभव काम आएगा
हालांकि पहले गेम के बाद दूसरे गेम में उन्होंने एसेक्स के खिलाफ 32 और 52 रन की पारी खेली। हनुमा का कहना है कि काउंटी का अनुभव न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच में उनकी मदद मदद करेगा। हनुमा का कहना है कि कउंटी में खेलने से उन्हें यहां के क्लाइमेट और पिचों का आइडिया मिल गया है। उन्हें उम्मीद है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल के दौरान इससे मदद मिलेगी।

Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned