ईशान किशन ने डेब्यू मैच में बनाया रिकॉर्ड, अंजिक्य रहाणे के बाद बने दूसरे बल्लेबाज

पहले अंतरराष्ट्रीय मैच में ईशान किशन ने शानदार बल्लेबाजी कर सभी का दिल जीत लिया।
ईशान किशन अपने डेब्यू मैच में ही 'मैन ऑफ द मैच' भी बने।
वो टी-20 में भारत की तरफ से डेब्यू में हाफ सेंचुरी मारने वाले दूसरे बल्लेबाज हैं।

By: Shaitan Prajapat

Updated: 16 Mar 2021, 09:13 AM IST

नई दिल्ली। अपने पहले अंतरराष्ट्रीय मैच में बिहार के लाल ईशान किशन ने शानदार बल्लेबाजी कर सभी लोगों का दिल जीत लिया। कप्तान विराट कोहली (नाबाद 73) और पदार्पण कर रहे ईशान किशन (56) के अर्धशतकों की बदौलत भारत ने रविवार को यहां दूसरे टी-20 में शानदार वापसी जीत दर्ज की। ईशान ने टीम इंडिया के लिए खेले गए डेब्यू मैच में ही धूम मचा दिया। उन्‍होंने अपने शानदार परफार्मेंस के जरिए ना सिर्फ टीम को जीत दिलाई, बल्कि अपने डेब्यू मैच में ही 'मैन ऑफ द मैच' भी बने। ईशान के शानदार प्रदर्शन के बाद सोशल मीडिया पर उन्हें लगातार बधाइयां दी जा रही है। उनके घर में भी जश्न का माहौल है। लोगों के द्वारा लगातार बधाइयां देने का सिलसिला देर रात से ही जारी है।


अर्धशतक कोच के पिता को समर्पित
अपने डेब्यू मैच में रिकॉर्ड सर्वाधिक चार छक्के लगाकर ईशान ने 32 बॉल पर 56 रन की पारी खेली। मैच के बाद उन्होंने कहा कि, यह अर्धशतक उनके कोच के पिता को समर्पित, जिनका हाल ही में निधन हुआ है। उन्होंने आगे कहा कि मुझसे कहा था कि पिता के लिए तुम्हें शतक लगाना होगा। मेरा पहला मैच था, नर्वस था। बैटिंग पर जाने से पहले रोहित भाई ने आकर मुझे कहा कि जाओ IPL की तरह बेखौफ खेलो।

यह भी पढ़े :— क्या होता है मौत के बाद! रहस्य बताने वाले को मिलेगा 7 करोड़ का ईनाम

अंजिक्य रहाणे के बाद ईशान बने दूसरे बल्लेबाज
ईशान किशन ने 32 गेंदों में 56 रन बनाए। उन्होंने अपनी पारी में 5 चौके और 4 छक्के मारे। ईशाने ने अपनी फिफ्टी भी सिक्स मारकर पूरी की। वो टी-20 में भारत की तरफ से डेब्यू में हाफ सेंचुरी मारने वाले दूसरे बल्लेबाज हैं। उनसे पहले ये रिकॉर्ड अंजिक्य रहाणे के नाम था। उनकी शानदार पारी के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच भी दिया गया।

वीरेंद्र सहवाग ने की ईशान किशन की बैटिंग जमकर तारीफ
पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने डेब्यू मैच में हाफ सेंचुरी मारने वाले ईशान किशन की जमकर तारीफ की। सहवाग ने ईशान की बल्लेबाजी पर कहा, ईशान किशन ने जो पारी खेली, उसने सबके ऊपर से दबाव हटा दिया। जब भी टॉप ऑर्डर के बल्लेबाज रन बनाते हैं तो नीचे वालों के लिए आसान हो जाता है। मुझे उनके बारे में ये बात अच्छी लगी कि वो ये सोचकर नहीं खेल रहे थे कि इंटरनेशनल मैच खेल रहे हैं। वो सोच रहे थे कि वो आईपीएल में खेल रहे हैं। जिस तरह से उन्होंने शॉट्स खेले वो देखकर लग रहा था कि वो आईपीएल या दूसरे टी20 फॉर्मेट्स में खेलते हैं।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned