सचिन, द्रविड़ के बेटों के बाद टीम इंडिया के पूर्व कप्तान का बेटा मचाएगा क्रिकेट के मैदान पर धमाल

सचिन, द्रविड़ के बेटों के बाद टीम इंडिया के पूर्व कप्तान का बेटा मचाएगा क्रिकेट के मैदान पर धमाल

Akashdeep Singh | Publish: Aug, 25 2018 08:19:04 AM (IST) क्रिकेट

सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ के बेटे समित द्रविड़ के बाद पूर्व भारतीय कप्तान का बेटा क्रिकेट के मैदान पर उतरने वाला है।

नई दिल्ली। अपने बेटे असाउद्दीन के गोवा की राणजी टीम में चयन होने पर भारतीय टीम के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन ने बिना किसी फीस के गोवा टीम का सलाहकार बनने की पेशकश की है। गोवा क्रिकेट संघ (जीसीए) के अधिकारी ने यह जानकारी दी। वहीं, गोवा के लिए अभी तक सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज शादाब जकाती ने हालांकि असाउद्दीन के टीम में आने की खिलाफत की है। असाउद्दीन ने अभी तक एक भी रणजी ट्रॉफी मैच नहीं खेला है और ऐसे में उनका चयन जीसीए को बैकफुट पर धकेल रहा है।


अजहरुद्दीन मुफ्त में टीम के सलाहकार होंगे-
जीसीए के सचिव दया ने आईएएनएस से कहा, "असाउद्दीन उनके बेटे हैं और वह अब टीम का हिस्सा हैं तो अजहरुद्दीन मुफ्त में टीम के सलाहकार होंगे। भारत के पूर्व कप्तान की सलाह मिलना टीम के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है।" उन्होंने हालांकि कहा कि अजहर और संघ के बीच कोई लिखित करार नहीं हुआ है। दया ने कहा, "असाउद्दीन गेस्ट प्लेयर की तरह टीम में जुड़ रहे हैं। हमने उन्हें एक भी पैसा नहीं दिया है। हम पैसों की तंगी से गुजर रहे हैं और इसलिए हमने यह रास्ता चुना।"


जकाती का विरोध-
इससे पहले जकाती ने असाउद्दीन को टीम में शामिल करने के जीसीए के फैसले की आलोचना की है। जकाती ने शुक्रवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, "इसलिए क्योंकि वह भारतीय टीम के पूर्व कप्तान के बेटे हैं, जो एक महान खिलाड़ी थे। क्या यह उन्हें गोवा की टीम में जगह दिला सकता है।" उन्होंने कहा, "असाउद्दीन की उम्र 28 साल की है और उन्होंने अभी तक एक भी रणजी ट्रॉफी या प्रथम श्रेणी मैच नहीं खेला। वह अपने राज्य के लिए आखिरी मैच 2009 में खेले वो भी एक आमंत्रण टूर्नामेंट में। उन्होंने उत्तर प्रदेश से खेलने की कोशिश की, उन्होंने कई और राज्यों से खेलने की कोशिश की लेकिन मौका नहीं मिला।" बाएं हाथ के स्पिनर ने कहा, "यह गोवा है आप आओ आपका स्वागत है। गोवा के खिलाड़ियों का क्या ? हम भी संघर्ष कर रहे हैं। हम भी काफी मेहनत कर रहे हैं। हम भी गोवा के लिए खेलना चाहते हैं।"

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned