script यशस्वी जायसवाल के दोहरे शतक के साथ बना अद्भुत रिकॉर्ड, भारतीय क्रिकेट इतिहास में पहली बार हुआ ये कमाल | yashasvi jaiswal becomes the first ever indian to score a test double century when no one else in the innings reached ind vs eng 2nd test | Patrika News

यशस्वी जायसवाल के दोहरे शतक के साथ बना अद्भुत रिकॉर्ड, भारतीय क्रिकेट इतिहास में पहली बार हुआ ये कमाल

locationनई दिल्लीPublished: Feb 03, 2024 02:35:23 pm

Submitted by:

lokesh verma

भारतीय टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में यह पहली बार है, जब किसी एक बल्लेबाज ने पारी में 200 रन के आंकड़े को पार किया है और टीम को कोई भी अन्य बल्लेबाज 50 रन तक भी नहीं पहुंच सका।

yashasvi-jaiswal.jpg
यशस्वी जायसवाल ने इंग्लैंड के खिलाफ विशाखापट्टनम में खेले जा रहे पांच मैचों की सीरीज के दूसरे टेस्ट में दोहरा शतक जड़कर भारतीय टीम के स्कोर को 400 के करीब पहुंचाया है। भारत ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग करते हुए पहली पारी में 396 रन स्‍कोर बोर्ड पर टांगे। जिनमें से 209 रन यशस्वी जायसवाल के बल्‍ले से आए। भारत के 50 प्रतिशत से ज्यादा रन अकेले यशस्वी ने बनाए। वहीं, भारत की ओर से अन्य कोई बल्लेबाज 40 रन के आंकड़े को भी पार नहीं कर सका। यशस्वी के दोहरे शतक से एक अजीबो-गरीब रिकॉर्ड बना है, इससे पहले ये कमाल वेस्टइंडीज के दिग्गज ब्रायन लारा के नाम था।

यशस्वी जायसवाल ने इंग्लैंड की टीम के खिलाफ शानदार 209 रनों की पारी खेली है। उनके बाद टीम इंडिया के लिए सबसे अधिक रन शुभमन गिल के बल्‍ले से आए। उन्होंने पहली पारी में 34 रन बनाए। भारतीय टेस्‍ट क्रिकेट के इतिहास में ये पहली बार है, जब एक बल्लेबाज ने दोहरा शतक लगाया और टीम का अन्य कोई बल्लेबाज 50 रन का आंकड़ा तक नहीं छू सका।

याद आया ब्रायन लारा का दोहरा शतक

वर्ल्ड टेस्‍ट क्रिकेट में ये दूसरी घटना है, जब एक बल्लेबाज ने दोहरा शतक जड़ा और टीम का अन्य कोई बल्लेबाज 34 रन अधिक नहीं बना पाया है। इससे पहले ये घटना 2005 में घटी थी। जब वेस्टइंडीज के लिए ऑस्ट्रेलिया खिलाफ ब्रायन लारा ने 226 रन की पारी खेली थी और ड्वेन ब्रावो 34 रन के साथ दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज थे।

भारतीय क्रिकेट के इतिहास में दूसरी घटना

बता दें कि भारतीय क्रिकेट के इतिहास में ये दूसरी घटना है जब किसी बल्लेबाज के दोहरे शतक के बावजूद टीम 400 रन के आंकड़े को नहीं छू सकी है। इससे पहले ये घटना सितंबर 1983 में घटी थी। जब पाकिस्तान के खिलाफ जालंधर में अंशुमन गायकवाड़ ने 201 रनों की पारी खेली थी और टीम 374 रन पर सिमट गई थी। इस बार यशस्वी ने 209 रन बनाए और पूरी टीम 396 पर ऑलआउट हो गई।

यह भी पढ़ें

मिकी आर्थर ने खोले पाकिस्तान क्रिकेट के बड़े राज, बोले- खिलाड़ी देश के लिए नहीं, बल्कि...

ट्रेंडिंग वीडियो