असम: महिला अधीक्षक ने आईपीएस पर लगाया यौन शोषण का आरोप, घटना के बाद पति ने किया सुसाइड

माजुली हेड क्वार्टर पुलिस की अतिरिक्त अधीक्षक लीना डोले ने आरोप लगाया है कि अतिरिक्त महानिदेशक (लॉ एंड आॅर्डर) मुकेश अग्रवाल ने 6 साल पहले उसका शारीरिक शोषण किया था।

By: Mohit sharma

Updated: 06 Nov 2018, 02:32 PM IST

नई दिल्ली। असम के एक सीनियर पुलिस आॅफिसर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा है। यह आरोपी किसी और नहीं, बल्कि आॅफिसर कही कनिष्ठ सहकर्मी ने लगाए हैं। माजुली हेड क्वार्टर पुलिस की अतिरिक्त अधीक्षक ने आरोप लगाया है कि अतिरिक्त महानिदेशक (लॉ एंड आॅर्डर) ने 6 साल पहले उसका शारीरिक शोषण किया था। पीड़िता सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर लिखी पोस्ट शेयर करते हुए कहा कि वह कार्यस्थल पर यौन शोषण की पीड़िता है। फेसबुक पर लिखी पोस्ट के अनुसार मार्च 2012 में उसके सीनियर आईपीएस ने उसके अच्छे काम से खुश होकर उसे हॉलिडे टूर पर ले जाने का प्रस्ताव दिया था। महिला ने अधिकारी ने इस सीनियर के इस प्रस्ताव को ठुकराते हुए इसकी जानकारी पुलिस महानिदेशक को दी थी।

तलाक की अर्जी पर बोले तेज प्रताप, पिता को टिकट देने का दबाव बना रही थी ऐश्वर्या

पीड़िता ने पुलिस आॅफिसर के खिलाफ लिखित में शिकायत दर्ज कराई थी। वहीं, पीड़िता के पति ने इस मामले की शिकायत दर्ज कराने के 6 माह बाद ही सुसाइड कर लिया था। पीड़िता का कहना है कि उसके पति की मौत के बाद जांच अधिकारी बनी तत्कालीन मुख्य सचिव उनके घर आई और पति की आत्हत्या को इस विवाद से जुड़ा हुआ मामला न होने का आश्वासन दिया। पीड़िता ने अपनी पोस्ट में यह भी लिखा कि उस समय तक जांच प्रक्रिया शुरू नहीं हुई थी। आरोप है कि आरोपी पुलिस आॅफिसर ने इस तथ्य का खुद स्वीकार किया था, लेकिन पीड़िता की इस शिकायत को गलतफहमी बताकर खारिज कर दिया गया।

घर के झगड़े के बीच छठ की तैयारी में जुटा लालू परिवार, बहू के साथ राबड़ी मनाएंगी महापर्व

फेसबुक पर लिखी पोस्ट के अनुसार आरोपी ने पीड़िता के पति को बिना जानकारी दिए छुट्टियों पर चलने का प्रस्ताव रखा था। इस मामले में बाद आरोपी की पत्नी की ओर से उसके पति की छवि को धूमिल करने का आरोप लगाया गया था। इसके साथ ही इस मामले को मानहानि से भी जोड़ गया था।

 

Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned