फसलों पर पाले की मार, किसानों में चिंता

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

By: gaurav khandelwal

Published: 30 Dec 2018, 09:39 AM IST

लवाण. क्षेत्र में शीतलहर का प्रकोप जारी है। शनिवार को भी पारे में गिरावट रहने से दिनभर ठण्ठी हवाएं चली। दिन में धूप निकलने पर ग्रामीणों को राहत मिली, लेकिन शाम होते ही फिर कंपकंपी छूट गई। वहीं फसलों पर पाला पडऩे से किसान चिंतित हैं। शीतलहर से टमाटर, मटर, हरी मिर्च की फसल को नुकसान हो रहा है। सुबह खेतों में लगे पाइप पर बर्फ जमी मिली। फसलों पर पाले को हटाने के लिए किसानों को मशक्कत करनी पड़ी। सरसों व चना में फूल के खराब होने से फलियां कमजोर हो गई।

 

 


परेशान किसान अब फसलों को बचाने के लिए जतन में जुटे हैं। सुबह-शाम खेतों में सिंचाई कर रहे हैं। धुआं किया जा रहा है। विष्णु सैनी ने बताया कि पांच माह पहले सब्जी लगाई थी। १.५० लाख रुपए का खर्चा आया था, लेकिन पाले से बागवानी खेती नष्ट हो गई।

 

कुण्डल. देश के पहाड़ी क्षेत्र में हो रही बर्फबारी के चलते जिले में सर्दी का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। शनिवार रात तापमान में भारी गिरावट के चलते फसलों पर पाला (बर्फ) की चादर बिछ गई। कड़ाके की सर्दी ने लोगों की दिनचर्या को बदलकर रख दिया। क्षेत्र की दुकानें भी देरी से खुली। देर सुबह तक अलाव के सहारे लोग सर्दी से बचने का जतन करते दिखे। हाड़ कंपा देने वाली सर्दी से पेड़-पौधे झुलसने लगे हैं।
सरसों सहित अन्य फसल के पौधे सर्दी के आगे बेबस होकर जमीन तक झुक गए। ऐसे में किसानों के चेहरे पर चिन्ता की लकीरें देखी जा सकती हैं।

 

 


एक जने की मौत

 


सैंथल. होदायली गांव में शनिवार को एक जने की मौत हो गई। परिजनों ने सर्दी से मौत होने का दावा किया है। उमाशंकर शर्मा निवासी होदायली ने बताया कि उनका भाई मनमोहन (४०) पुत्र प्रभुदयाल शर्मा सुबह पांच बजे खेत पर गेहूं की सिंचाई के लिए फ व्वारा पाइप बदलने गया। करीब ६ बजे वह खेत में पड़ा मिला। दौसा राजकीय अस्पताल में चिकित्सकों ने मृत बताया। परिजनों ने प्रशासन से आर्थिक सहायता की मांग की है।

 

 

स्वरोजगार का महत्व समझाया


महुवा ग्रामीण. श्रीअग्रसेन कन्या कॉलेज में एनएसएस शिविर के पांचवें दिन प्रभारी राजरानी सोनी के नेतृत्व में स्वयंसेविकाओं ने गोद लिए गांव में महिलाओं को स्वरोजगार का महत्व समझाया। कार्यक्रम में अग्रसेन शिक्षा प्रसार समिति अध्यक्ष प्रकाशचंद टुडियाना ने कहा कि स्वरोजगार से महिलाएं स्वाभिमान से जीवन व्यतीत कर सकती हैं।

gaurav khandelwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned