पहले राहगीर युवक को पीटा, फिर पुलिस चौकी पर पथराव फायरिंग और रास्ते में पुलिस उपाधीक्षक पर किया हमला

-रेत माफियाओं ने मचाया उत्पात
-जिला पुलिस अधीक्षक ने संभाला मोर्चा

By: Amit Singh

Published: 10 Jan 2019, 07:44 PM IST


पहले राहगीर युवक को पीटा, फिर पुलिस चौकी पर पथराव फायरिंग और रास्ते में पुलिस उपाधीक्षक पर किया हमला
-रेत माफियाओं ने मचाया उत्पात
-जिला पुलिस अधीक्षक ने संभाला मोर्चा
धौलपुर. कहने को सुप्रीम कोर्ट ने चंबल से बजरी(रेता) निकासी पर पूर्णतया रोक लगा रखी है, लेकिन धौलपुर जिला मुख्यालय पर बजरी माफिया बेखौफ होकर बजरी खनन और परिवहन से नहीं चूक रहे है। गुरूवार दोपहर को बजरी माफियाओं ने शहर के सदर थाना इलाके में जमकर उत्पात मचाया, इस दौरान बजरी माफियाओं ने ना केवल सदर थाने के गांव पंचगांव में एक राहगीर से मारपीट करते हुए फायरिंग की, बल्कि पचगांव चौकी पर पहुंच कर जमकर पथराव करते हुए फायरिंग कर दी। रास्ते में शहर पुलिस उपाधीक्षक की गाड़ी मिलने पर माफियाओं ने उन पर भी पथराव करते हुए फायरिंग कर दी। इस बीच भागने के प्रयास में माफियाओं का एक ट्रेक्टर पलट गया, जिसके बाद माफिया मौके से अन्य ट्रेक्टर को लेकर मौके से भाग निकले। सूचना मिलने पर पुलिस महकमे में हंगामा मच गया और स्वयं जिला पुलिस अधीक्षक अजय सिंह ने मौका मुआयना करते हुए रेता माफियओं के ठिकानों पर उनकी तलाश को निकल गए। वहीं, घटना के बाद पचगांव के ग्रामीणों की ओर से भरतपुर-धौलपुर मार्ग पर जाम लगाकर बजरी माफियाओं के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की, मौके पर पहुंची पुलिस ने समझाइश कर जाम को खुलवाया।
जानकारी के अनुसार बजरी के करीब आधा दर्जन ट्रेक्टरों को करीमपुर क्षेत्र में खाली करके दोपहर करीब दो बजे धौलपुर शहर की ओर से लौट रहे थे। रास्ते में गांव पचगांव के समीप खड़े एक युवक ने रेता माफियाओं को ट्रेक्टरों की तेज रफ्तार पर टोक दिया, इस पर माफियाओं ने युवक से मारपीट करते हुए फायरिंग कर दी और आगे निकल गए। घटना की सूचना पचगांव चौकी पुलिस को दी गई। इन ट्रेक्टरों के पुलिस चौकी पर पहुंचने पर पुलिस की नाकेबंदी को देख रेता माफियाओं ने पुलिस चौकी पर पथराव करते हुए फायरिंग करना शुरू कर दिया, इस दौरान पुलिस ने चौकी में छुप कर अपनी जान बचाई, यहां से माफियाओं के आगे निकल जाने पर पुलिस ने इनका पीछा करना शुरू कर दिया। इस बीच रास्ते में एक माफिया का ट्रेक्टर पलट गया, और पुलिस लाइन के समीप शहर पुलिस उपाधीक्षक सरेश मीणा की गाड़ी को आता देखे माफियाओं ने फायरिंग व पथराव शुरू कर दिया, घटना में सीओ की गाड़ी के शीशे टूट गए। घटना के संबंध में गांव पचगांव निवासी जीतेन्द्र पुत्र जीवन एवं पचगांव चौकी के सुरेश चंद हैडकांस्टेबल की ओर से सदर थाने पर बजरी माफियाओं के खिलाफ जानलेवा हमला करने का मामला दर्ज कराया है। पुलिस से मामले में एक ट्रेक्टर को जब्त करते हुए एक माफियाओं को भी हिरासत में लिए जाने की जानकारी मिली है।

लम्बे समय से चल रहा है व्यापार
गौरतलब है कि जिले में काफी लम्बे समय से बजरी माफियाओं का धड़ल्ले से कारोबार चल रहा था। बजरी माफिया चंबल से बजरी को ट्रेक्टर -ट्रॉलियों में भरकर विभिन्न मार्गोंं से ले जाते हैं। जो यूपी सीमा में लम्बे मार्जिन में सप्लाई कर रहे हैं। एनएच 123 पर रात के समय प्रतिबंधित चंबल बजरी के करीब 250 से अधिक ट्रैक्टर ट्रालियों का काफिला निकलता है। वहीं अब राष्ट्रीय राजमार्ग नम्बर तीन से भी अवैध रेता का परिवहन हो रहा है।

ट्रेक्टरों पर चलते हैं अवैध हथियार लेकर
बजरी माफिया टै्रक्टरों से अवैध बजरी परिवहन तो कर ही रहे हैं। साथ ही पुलिस से सामना करना के लिए अवैध रूप से हथियार लेकर चलते हैं। वहीं एक ट्रेक्टर पर पांच से सात लोग बैठे रहते हैं। जैसे ही पुलिस से सामना होता है तो दनादन फायङ्क्षरग शुरू कर देते हैं। इससे कई बार पुलिस को भी पीछे हटना पड़ता है। कई बार दोनों तरफ से फायरिंग होती है। इस स्थिति में माफिया बजरी को सड़क पर ही डाल कर टै्रक्टर-ट्रॉली लेकर फरार हो जाते हैं।

पुलिस पर लगते हैं आरोप
अवैध रूप से बजरी खनन व परिवहन कराने में पुलिस पर भी कथित रूप से मिलीभगत के आरोप लगते रहते हैं। कुछ महीने पूर्व बसेड़ी थाने के दो कांस्टेबलों ने पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखकर उच्चाधिकारियों पर ही बजरी माफियाओं को शह देने का आरोप लगाया था। जिसकी जांच भी की जा रही है। वहीं गत वर्ष पुलिस कार्रवाई की पहले से ही बजरी माफियाओं को सूचना देने पर तत्कालीन पुलिस अधीक्षक ने मनिया थाने से कांस्टेबलों को लाइन हाजिर किया था। इसके बाद भी पुलिसकर्मियों पर आरोप लगते रहते हैं।

कौलारी थाने पर भी कर चुके है हमला
हाल में गत वर्ष 17 सितम्बर को एक बजरी से भरा ट्रेक्टर-ट्रॉली जब्त किए जाने से गुस्साएं बजरी माफियाओं ने थाने पर ही हमला बोल दिया। इस दौरान माफियाओं ने थाना परिसर में पुलिसकर्मियों के साथ केवल मारपीट की, बल्कि फायरिंग व पथराव की घटना को अंजाम दिया। इस दौरान चालक अंधेरे का फायदा उठाकर मौके से भाग निकलने में सफल हो गया। पुलिस ने आरोपितों का पीछा भी किया, लेकिन कोई भी सुराग नहीं लगा। थाना पुलिस ने चिन्हित आरोपितों को नामजद करते हुए मामला दर्ज कर लिया है।

रेता माफियाओं के हमले की एक वर्ष की प्रमुख घटनाएं
-कैंथरी में कोबरा टीम पर हमला, फायरिंग
-सैपऊ थाना इलाके के गांव रजौरा खुर्द में पुलिस पर हमला
- कौलारी थाने पर हमला-माफियाओं ने थाना परिसर में घुसकर की पुलिसकर्मियों से मारपीट
-बाड़ी रोड पर सीओ रामचन्द्र चौधरी की गाड़ी को टक्कर मारी, सीओ व चालक गंभीर घायल
-मारौली मोड़ के पास रेत माफियाओं ने पुलिस दल पर पथराव किया, इस दौरान कई पुलिसकर्मी चोटिल हुए
-धौलपुर शहर में घर से ड्यूटी पर जा रहे पुलिस कांस्टेबल की बाइक को पीछे से रेत माफिया ने जान से मारने की कोशिश की, इस दौरान कांस्टेबल घायल हो गया
-धौलपुर शहर में गश्त के दौरान शहर पुलिस उपाधीक्षक सतीश यादव की गाड़ी पर पथराव करते हुए फायरिंग की। घटना में यादव चोटिल हो गए। इससे पहले शहर पुलिस उपाधीक्षक पर पूर्व में रेत माफिया दो बार पहले भी फायरिंग कर चुके हैं।
-गांव घेर- भमरौली के पास हाइवे पर फायरिंग कर
- बसईडांग थाना पुलिस पर पथराव व मारपीट कर 3 पुलिस कर्मी घायल किए
-निहालगंज थाना पुलिस पर फायरिंग व पथराव
-सदर थाना पुलिस नाकेबंदी पर पथराव

Amit Singh Editorial Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned