अर्थव्यवस्था में पैसे की कमी दूर करेगा RBI, नकदी बढ़ाने के लिए तैयार किया ये प्लान

अर्थव्यवस्था में पैसे की कमी दूर करेगा RBI, नकदी बढ़ाने के लिए तैयार किया ये प्लान

Ashutosh Kumar Verma | Publish: Jun, 19 2019 02:58:32 PM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

  • लिक्विडिटी बढ़ाने के लिए पांच सरकारी बॉन्ड बेचेगा RBI।
  • बॉन्ड की खरीदारी से 12,500 करोड़ रुपये अर्थव्यवस्था में डालेगा रिजर्व बैंक।

नई दिल्ली। हाल के दिनों में हुए कई डिफाॅल्ट और बैंकों की वित्तीय हालत खराब होने के बाद देश में नकदी की संकट बढ़ गई है। इसी को ध्यान में रखते हुए भारतीय रिजर्व बैंक ( RBI ) अब देश की अर्थव्यवस्था ( Indian economy ) में लिक्विडिटी ( liquidity ) बढ़ाने की तैयारी में जुटा है। केंद्रीय बैंक ( central bank ) ने कहा है कि वह सरकारी बांड ( Government Bond ) बेचकर भारतीय अर्थव्यवस्था में 12,500 करोड़ रुपए की नकदी डालेगी। बता दें कि जब बाजार में सामार खरीदने के लिए आम लोगों के पास नकदी नहीं होती है तो इसे ही लिक्विडिटी या तरलता कहते हैं।

यह भी पढ़ें - Naresh Goyal की बढ़ सकती है मुश्किलें, Jet लाॅयल्टी प्रोग्राम पर ED कर सकता है पूछताछ

पहले आरबीआई उठा चुका है ऐसा कदम

रिजर्व बैंक ने कहा कि वो खुले बाजार की गतिविधियाें को देखते हुए 20 जून को अलग-अलग मेच्योरिटी अवधि वाले पांच सरकारी बांड खरीदेगा। रिजर्व बैंक ने कहा कि व्यवस्था में तरलता की स्थिति का आकलन करने और आने वाले समय में टिकाऊ तरलता जरूरत को देखते हुए रिजर्व बैंक ने खुले बाजार की गतिविधियों के तहत पांच सरकारी प्रतिभूतियां खरीदने का निर्णय किया है। इससे पहले रिजर्व बैंक ने 11 जून को अलग-अलग परिपक्वता अवधि वाले छह सरकारी बांड की खरीद कर 15,000 करोड़ रुपये की पूंजी अर्थव्यवस्था में डाली थी।

यह भी पढ़ें - अनिल अंबानी की और बढ़ी मुश्किलें, Reliance Communication से चीनी बैंकों ने मांगा 1,46 लाख करोड़ रुपए

क्या होता है लिक्विडिटी

केंद्रीय बैंक 2021 मेच्योरिटी बाॅन्ड का 7.94 फीसदी, 2025 बाॅन्ड का 7.72 फीसदी, 2027 मेच्योरिटी बाॅन्ड का 6.79 फीसदी, 2030 मेच्योरिटी बाॅन्ड का 7.61 फीसदी और 2034 मेच्योरिटी बाॅन्ड का 7.73 फसदी खरीदकर बाजार में 12,500 करोड़ रुपए की नकदी डालेगा। जब बाजार अब कोई सामान खरीदना होता है और उसकी उपलब्धता बनी रहती है तो माना जाता है उस वस्तु में पर्याप्त तरलता है। इसी प्रकार अर्थव्यवस्था में पैसे की लिक्विडिटी के बारे में होता है। बाजार में पर्याप्त नकदी की मात्रा को लिक्विडिटी कहते है। नकदी को तरलता के लिए मानक माना जाता है क्योंकि यह अन्य संपत्तियों में सबसे तेज़ी से और आसानी से परिवर्तित की जा सकती है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें Patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned