सितंबर महीने से होगा स्विस बैंक के काले धनकुबेरों का खुलासा

सितंबर महीने से होगा स्विस बैंक के काले धनकुबेरों का खुलासा

Saurabh Sharma | Publish: Jul, 11 2019 12:10:02 PM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

सितंबर महीने से भारत को उन लोगों की जानकारियां मिलनी शुरू हो जाएंगी, जिन्होंने अपना Black Money Swiss Bank Account में जमा कराया हुआ है। वहीं उन लोगों की जानकारियां भी मिलेंगी, जिन्होंने पिछले साल अपना अकाउंट बंद करा दिया था।

नई दिल्ली। स्विस बैंक ( Swiss Bank ) के काले धन ( black money ) कुबेरों का खुलासा सितंबर माह से होने जा रहा हैै। बैंक के सिर्फ मौजूदा खाताधारकों ( Swiss account holders ) के नामों का ही खुलासा नहीं हाेगा करेगा, बल्कि पिछले साल जिन लोगों ने स्विस बैंक से अपने खातों को डीएक्टीवेट करा दिया था, उनके नामों की भी जानकारी दी जाएगी। स्विस सरकार ( Swiss Govt ) की ओर से यह पहल भारत के लिहाज से काफी बड़ी मानी जा रही है। वहीं मौजूदा मोदी सरकार ( Modi govt ) के लिए काफी राहत भरा है। क्योंकि मोदी सरकार 2014 के चुनावों से काला धन के मुद्दे को लेकर आई थी और खुद नरेंद्र मोदी सार्वजनिक मंचों से कालेधन को भारत लाने की बात कर चुके हैं। आपको बता दें कि इससे पहने पनामा और पैराडाइज पेपर्स के माध्यम से कई भारतीयों के नाम विदेशों में कालाधन जमा करने को उजागर हो चुके हैं, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

यह भी पढ़ेंः- बजट 2019 के बाद निवेशकों को 6.53 लाख करोड़ रुपए का नुकसान, सेंसेक्स में 1351 अंकों की गिरावट

यह जानकारियां होंगी साझा
स्विट्जरलैंड की सरकार भारतीय टैक्स अधिकारियों से स्विट्जरलैंड ऑटोमेटिक एक्सचेंज ऑफ इन्फॉर्मेशन ( switzerland automatic exchange of information ) फ्रेमवर्क के माध्यम से स्विस फाइनैंशल इंस्टिट्यूशनल में रुपए रखने वाले लोगों के अकाउंट नंबर, क्रेडिट बैलेंस और सभी फाइनेंशियल जानकारियां साझा करेगी। जानकारी के अनुसार सितंबर में भारत को जानकारी भेजे जाने के बाद सालाना आधार पर जानकारियां साझा की जाएगी।

यह भी पढ़ेंः- भारत की हार से सट्टा बाजार में डूब गए 100 करोड़ रुपए, जानिए किसका हुआ कितना नुकसान

पहले आ चुकी है 100 लोगों की सूची
स्विट्जरलैंड ने टैक्स के मामलों में प्रशासनिक सहायता को लेकर एक द्विपक्षीय समझौते के तहत लगभग 100 भारतीयों के स्विस बैंक में खातों की जानकारी भारत को पहले ही दी थी। अब जो सूची स्विस की ओर से साझा की जाएगी वो उन 100 लोगों से अलग होगी। विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधरन ने बुधवार को सवाल के जवाब में कहा था कि इंडिया-स्विट्जरलैंड टैक्स ट्रीटी जांच के अधीन मामलों के लिए आवेदन के आधार पर जानकारी देने की भी सुविधा प्रदान करता है। मंत्री के अनुसार सूचना का उपयोग और उसका खुला गोपनीयता प्रावधान के अंतर्गत आता है।

यह भी पढ़ेंः- Petrol Diesel price Today: महंगार्इ कम करने की जुगत में सरकार, डीजल हुआ सस्ता, पेट्रोल के दाम स्थिर

विदेशों में जमा है 34.30 लाख करोड़ रुपए
- एनसीएईआर के अनुसार भारत से 1980 से लेकर 2010 के बीच 26,88,000 लाख करोड़ रुपए से लेकर 34,30,000 करोड़ रुपये का काला धन विदेश भेजा गया।
- एनआईएफएम के मुताबिक 1990-2008 के दौरान लगभग 15,15,300 करोड़ रुपए यानी 216.48 अरब डॉलर का काला धन भारत से विदेश भेजा गया।
- एनआईपीएफपी ने कहा कि 1997-2009 के दौरान देश के सकल घरेलू उत्पाद का 0.2 फीसदी से लेकर 7.4 फीसदी तक काला धन विदेश भेजा गया।

 

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned