काउंसलिंग और मानसिक स्वास्थ्य के लिए सीबीएसई का ऐप लॉन्च, कल से 9वीं से 12वीं के छात्र उठा पाएंगे लाभ

CBSE launches app: केंद्रीय शिक्षा माध्यमिक बोर्ड के छात्र सीबीएसई दोस्त फॉर लाइफ नामक ऐप के माध्यम से मनोवैज्ञानिक परामर्श सत्र का लाभ उठा सकते हैं। फिलहाल, यह सुविधा केवल नौंवी से 12वीं तक के छात्रों के लिए उपलब्ध है।

By: Dhirendra

Updated: 09 May 2021, 02:56 PM IST

CBSE launches app: कोरोना काल में स्कूलों में पढ़ने वाले छात्र और उनके अभिभावक कई स्तरों पर तनाव और मानसिक परेशानियों से गुजर रहे हैं। छात्रों व उनके अभिभावकों को इससे राहत दिलाने के लिए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ( CBSE ) ने एक साल पहले से एक टोल-फ्री नंबर के माध्यम से परामर्श प्रदान करता रहा है। लेकिन अब देश के सबसे बड़े शिक्षा बोर्ड ने इसके लिए ‘सीबीएसई दोस्त फॉर लाइफ’ नाम से एक ऐप विकसित किया है। सोमवार से इस ऐप के जरिए नौवीं से 12वीं तक के छात्र सीबीएसई परामर्श सत्र तक पहुंच सकते हैं।

सीबीएसई के छात्र फ्री में उठा पाएंगे इसका लाभ

अब सीबीएसई दोस्त फॉर लाइफ ऐप के जरिए काउंसलिंग सत्र का संचालन 83 स्वयंसेवक काउंसलर और स्कूल प्रिंसिपल द्वारा कक्षा 9-12 के छात्रों को प्रदान किए जाएंगे। ये सत्र सीबीएसई के सभी छात्रों के लिए मुफ्त होंगे। साप्ताह में तीन दिन यानि सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को प्रदान किए जाएंगे। छात्र और अभिभावक सत्र के लिए समय स्लॉट का चयन कर सकेंगे। काउंसलिंग का काम दो सत्रों में संपन्न होगा। पहला सत्र सुबह 9:30 से 1:30 बजे के बीच और दूसरा सत्र दोपहर 1:30 से 5:30 बजे के बीच होगा।

Read More: NTA UPCET 2021 Postponed: यूपीसीईटी परीक्षा स्थगित, अब आवेदन की अंतिम तारीख 31 मई

मेंट हेल्थ और वेल बींग को लेकर मैनुअल जारी

सीबीएसई की ओर से जारी बयान के मुताबिक यह ऐप छात्रों को अन्य संसाधन सामग्री जैसे वरिष्ठ माध्यमिक शिक्षा के बाद विचारोत्तेजक कोर्स गाइड, मानसिक स्वास्थ्य और स्वास्थ्य पर सुझाव और दैनिक सुरक्षा प्रोटोकॉल की जानकारी के साथ एक कोरोना गाइड भी प्रदान करेगा। यह कोरोना गाइड छात्रों को घर के सदस्यों और खुद की देखभाल में मदद करेगा। इसके अलावा सीबीएसई ने मेंटल हेल्थ एंड वेल बीइंग पर एक मैनुअल भी जारी किया है। इसमें स्कूलों में मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने और शिक्षकों की सुविधा के लिए स्कूल के काउंसलर, विशेष शिक्षकों और परिवारों की भूमिका की पहचान पर भी जोर दिया गया है। मैनुअल में शामिल एक अध्याय में बताया गया है कि कैसे स्कूल और परिवार बच्चों को कैसे मनोवैज्ञानिक और सामुदायिक सहायता प्रदान कर सकते हैं।

Read More: JKCET 2021 registration date extended: जेकेसीईटी ने बढ़ाई रजिस्ट्रेशन की आखिरी तारीख, पढ़ें डिटेल्स

coronavirus
Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned