scriptUP Assembly Election 2022 Where is missing BSP Chief Mayawati | UP Assembly Election 2022: चुनावी हलचलों से दूर आख़िर कहाँ गायब हैं मायावती? रणनीति या मजबूरी ! | Patrika News

UP Assembly Election 2022: चुनावी हलचलों से दूर आख़िर कहाँ गायब हैं मायावती? रणनीति या मजबूरी !

UP Assembly Election 2022: मायावती आउटडोर की सियासी हलचलों से दूर इनडोर रहकर सिर्फ सोशल मीडिया पर दिख रही हैं, वो भी अपने ट्वीट के ज़रिये। यह चुप्पी मायावती की रणनीति है या उनकी कोई मजबूरी यह तो वहीं जानें। मगर मायावती की चुप्पी सियासी गलियारे में चर्चा का विषय बनी हुई है।

लखनऊ

Published: December 31, 2021 07:33:18 pm

UP Assembly Election 2022: लखनऊ. विधानसभा चुनाव को देखते हुए यूपी में सभी दल अपनी-अपनी रणनीति पर काम कर रहे हैं साथ ही कोई रथयात्रा कर रहा है, कोई महिला वोटरों को रिझा रहा है तो कोई टैबलेट और स्मार्टफोन बांट रहा है। मगर इन सब सियासी हलचलों के बीच एक महत्वपूर्ण चेहरा गायब नजर आ रहा है वो है यूपी की चार बार की मुख्यमंत्री रह चुकीं और बसपा सुप्रीमो मायावती का। मायावती आउटडोर की सियासी हलचलों से दूर इनडोर रहकर सिर्फ सोशल मीडिया पर दिख रही हैं, वो भी अपने ट्वीट के ज़रिये। जो अक्सर वो किसी न किसी मुद्दे पर करती रहती हैं। इस बीच मायावती के कई विधायक और बसपा के पुराने कद्दावर नेता उनका साथ छोड़ चुके हैं और गिने-चुने विधायक ही अब उनके साथ हैं। इन सबके बावजूद यह चुप्पी मायावती की रणनीति है या उनकी कोई मजबूरी यह तो वहीं जानें। मगर मायावती की चुप्पी सियासी गलियारे में चर्चा का विषय बनी हुई है।
mayawati.jpg
यह भी पढ़ें

सपा एमएलसी पुष्पराज जैन के यहां से नागरमोथा की जड़े लेकर गयी आइटी की टीम

पार्टी नेताओं की मानें तो मायावती चुनाव की तारीख़ों के एलान के बाद ही प्रचार शुरू करेंगी। उससे पहले वो हर पार्टी की चुनावी रणनीति को परख रही हैं उसी हिसाब से अपनी पार्टी की रणनीति तैयार कर रही हैं। उन्होंने जिले के सभी नेताओं को बूथ स्तर पर तैयारी करने को कहा है।
मायावती की चुप्पी का मतलब!

यूपी की राजनीति को करीब से जानने वालों का कहना है कि मायावती की चुप्पी दरअसल उनकी रणनीति नहीं बल्कि उनकी मजबूरी है। ये मजबूरी है उनकी आय से अधिक संपत्ति के मामले को लेकर सीबीआई और ईडी की लटकती तलवार। यूपी चुनावों को लेकर मायावती ने जो आखिरी जनसभा की थी वो 9 अक्टूबर को काशीराम की पुण्यतिथि के मौके पर लखनऊ के कांशीराम स्मारक स्थल पर की थी। उसके बाद से वो फिर परिदृश्य से गायब हैं।
सतीश मिश्रा के ट्वीट ने बढ़ाई सियासी सरगर्मी

s_c_misra_tweet.jpgमायावती को लेकर यूपी की सियासत में एक बार फिर उस वक्त सरगर्मी बढ़ गयी जब 29 दिसंबर को बसपा महासचिव सतीश चन्द्र मिश्रा के एक ट्वीट ने मायावती की फोटो को ट्वीट करते हुए लिखा कि, “बहनजी आने वाली हैं।" सतीश चन्द्र मिश्रा के इस ट्वीट को लेकर सियासी जानकारों ने अलग-अलग मायने निकालना शुरू कर दिया है। किसी का कहना है कि इस ट्वीट का मतलब ये है कि मायावती जल्द ही चुनावी रैलियों पर निकलने वाली हैं तो कोई कह रहा है कि मायावती को अब भी भरोसा है कि वो बीजेपी और सपा के मुकाबले मैदान में हैं।
यह भी पढ़ें

वाराणसी में एनटीपीसी कूड़े से बनाएगी कोयला, पीएम मोदी रखेंगे आधारशिला

खैर जो भी हो मगर मायावती को नज़र अंदाज नहीं किया जा सकता है। वजह ये कि मायावती भले ही सत्ता में न हों लेकिन यह नहीं भूलना चाहिए कि पिछले दो दशकों में बसपा का वोट प्रतिशत कभी भी 20 फीसदी से कम नहीं हुआ है। साथ ही आरक्षित सीटों पर बसपा हमेशा मजबूत पार्टी रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

5G से विमानों को खतरा? Air India ने अमरीका जाने वाली कई उड़ानें रद्द कीदेश में घट रहे कोरोना के मामले, एक दिन में सामने आए 2.38 लाख केसPM मोदी की मौजूदगी में BJP केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक आज, फाइनल किए जाएंगे UP, उत्तराखंड, गोवा और पंजाब के उम्मीदवारों के नामक्‍या फ‍िर महंगा होगा पेट्रोल और डीजल? कच्चे तेल के दाम 7 साल में सबसे ऊपरतो क्या अब रोबोट भी बनाएंगे मुकेश अंबानी? इस रोबोटिक्स कंपनी में खरीदी 54 फीसदी की हिस्सेदारीIND vs SA Dream11 Team Prediction: कैसी रहेगी पिच, बल्लेबाजों को मिलेगी मदद; जानें मैच से जुड़ी सारी अपडेटराजस्थान में 17 दिन में 46 लोगों की टूट गई सांसेंछत्तीसगढ़ के इस जिले में कलेक्टर हुए कोरोना संक्रमित, पॉजिटिविटी रेट बढ़ा तो बंद किए स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्र
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.