2007 की तरह एक बार फिर से यूपी में बनेगी बसपा की सरकार: सतीश मिश्रा

बसपा नेता सतीश मिश्र ने कहा कि बिकरू कांड के नाम पर निर्दोष ब्राह्मणों को अलग-अलग स्थानों से उठाकर उनकी हत्या करवा दी गयी।

By: Nitish Pandey

Published: 21 Aug 2021, 08:48 PM IST

इटावा. बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सदस्य सतीश मिश्रा ने दावा किया है कि 2007 की तरह 2022 में यूपी में एक बार फिर से बसपा की सरकार बनेगी। बसपा महासचिव सतीश मिश्रा आज बकेवर के एक गेस्ट हाउस में पार्टी के प्रबुद्ध सम्मेलन को मुख्य अतिथि के तौर पर संबोधित कर रहे थे।

यह भी पढ़ें : विधायक विजय मिश्रा की मुश्किलें नहीं हो रही हैं कम, गैंगरेप मामले में चार्जशीट दाखिल

योगी सरकार पर किया हमला

बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश मिश्रा ने प्रदेश की योगी सरकार पर कड़े प्रहार कर कटघरे में खड़ा किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में हर दो घन्टे में एक महिला के साथ बलात्कार की घटना होती है। भाजपा ने करोड़ो युवाओं की नौकरी देने की बजाय छीन ली हैं। सभी लोग एक साथ जुटकर मायावती को पांचवीं वार मुख्यमंत्री बनाये।

भाजपा की सरकार से परेशान है समाज

उन्होंने कहा कि भाजपा ने किसानों के लिए काला कानून लाकर किसानों को बर्बाद कर रही है। हर साल एक करोड़ को रोजगार देने की बात करने वाली भाजपा सरकार ने करोड़ों लोगों के रोजगार छीन जरूर लिए हैं। बसपा नेता ने कहा कि आज प्रत्येक वर्ग इस भाजपा की सरकार से परेशान है। उन्होंने कहा कि पांच साल में 10 करोड़ नौकरी का वादा करके नौजवानों का वोट ले लिया, लेकिन वह भी जुमला ही साबित हुआ।

ब्राह्मणों पर बीजेपी ने किया है अत्याचार

बसपा नेता सतीश मिश्र ने कहा कि बिकरू कांड के नाम पर निर्दोष ब्राह्मणों को अलग-अलग स्थानों से उठाकर उनकी हत्या करवा दी गयी। उन्होंने हिन्दू संगठन के नेता कमलेश तिवारी, के अलावा रायबरेली, गोरखपुर, लखनऊ में ब्राह्मणों की हत्या करने का भी आरोप लगाया।

खुशी दुबे के मामले पर सरकार को घेरा

उन्होंने कहा कि सवाल किया कि आखिर खुशी दुबे का क्या दोष था? उसके हाथों की मेंहदी नहीं सूखी थी और उसे लखनऊ के इशारे पर जेल में डाल दिया गया। उसे पेरोल तक नहीं मिली। गलत रिपोर्ट लगाकर उसकी बेल खारिज करा दी गई। यही नहीं, लखनऊ में विनय तिवारी की गाड़ी रोक कर अधिकारी ने सीने में गोली मार दी गई। मिर्जापुर में ब्राह्मण समाज के नाबालिग बच्चों को मार दिया गया। सीबीआई जांच भी नहीं कराई गई।

सपा सरकार में भी देखने को मिलता था उत्पीड़न

सतीश मिश्रा ने कहा कि ब्राह्मण समाज का ऐसा उत्पीड़न पहले सपा सरकार में ही देखने को मिलता था। कन्नौज इसका उदारहण है। हाथरस कांड का जिक्र करते हुए बसपा नेता ने दलित उत्पीड़न की चर्चा की। उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि आज हर वर्ष दो करोड़ नौकरियां कम हो रही हैं। सार्वजनिक उपक्रम चुनिंदा लोगों के हाथों में दे दिया गया। वहां सरकार नौकरी तो मिलेगी नहीं। ठेका प्रणाली जैसी नौकरी मिलेगी जिसका कोई भरोसा नहीं होगा। यही नहीं नौजवानों ने जब नौकरी देने के वादे के बारे में सवाल किया तो पकौड़ा बेचने की सलाह दे डाली।

बसपा को बताया ब्राह्मण हितैषी

बसपा को ब्राह्मण हितैषी बताते हुए कहा कि बसपा सरकार में न सिर्फ समाज को बड़ी जिम्मेदारी मिली बल्कि बसपा प्रमुख मायावती ने समाज से किया हर वादा भी पूरा किया। उन्होंने बढ़ती महंगाई और अपराध के मुद्दे पर भी भाजपा को घेरा।

मंदिर के नाम पर बीजेपी ने लिया है वोट

सतीश मिश्र ने कहा कि भाजपा ने मंदिर के नाम पर वोट व नोट लिया। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मंदिर निर्माण का रास्ता साफ हुआ तो मन्दिर बनवाने के नाम पर हजारों करोड़ रुपये बटोरे। आरोप लगाया कि इन पैसों का इस्तेमाल भाजपा अपनी पार्टी व संस्था चलाने में खर्च कर रही है। कहा कि पांच अगस्त 2020 को दो सौ करोड़ रुपये खर्च कर भूमि पूजन का कार्यक्रम कराया गया, जबकि उस दिन भूमि पूजन नहीं हुआ बल्कि सिर्फ पांच ईंटों का पूजन हुआ। कहा कि भाजपा को बताना चाहिए कि मंदिर निर्माण के नाम पर वसूला पैसा कहां गया?

ब्राह्मणों के बच्चों जेल में डाला जा रहे हैं : सतीश मिश्रा

बसपा महासचिव ने आरोप लगाया कि ब्राह्मण समाज के बच्चों को जेल में डालने का काम किया जा रहा है। कोशिश की जा रही है कि उनको वयस्क होने तक जेल में ही रखा जाए, ताकि उनका भविष्य न संवर सके। बदलाव का किया आह्वान किया।

यह भी पढ़ें : बदमाशों की गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंजा इटावा जेल परिसर, बाल-बाल बचे डिप्टी जेलर

Nitish Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned