फिर नाराज हुए चाचा शिवपाल, भतीजे अखिलेश पर साधा निशाना, सपा में जाने को लेकर दिया बड़ा बयान

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया (Pragatisheel Samajwadi Party) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) एक बार फिर भतीजे अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) से नाराज दिखे।

By: Abhishek Gupta

Published: 17 Oct 2020, 07:01 PM IST

इटावा. प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया (Pragatisheel Samajwadi Party) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) एक बार फिर भतीजे अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) से नाराज दिखे। शनिवार को उन्होंने सपा प्रमुख पर निशाना साधते हुए कहा कि एक साल पहले वह समाजवादी पार्टी के मुखिया से एक साथ होने का प्रस्ताव रख चुके हैं, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला है। अब जनता की अदालत में जाएंगे और जनता का जो फैसला होगा उसका पालन करेंगे।

ये भी पढ़ें- शिवपाल यादव का सीएम योगी पर हमला, कहा- अफसर शाही पर लगाम ना होने से यूपी में जंगलराज

सपा में जाने का सवाल ही नहीं-

इटावा जिला सहकारी बैंक के नये मुख्यालय भवन के लोकार्पण के मौके पर आयोजित एक समारोह को संबोधित करते हुए शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि मैनुपरी, कन्नौज तथा इटावा की जनता जो फैसला करेगी उसका वो पालन करेंगे। हम हर पीडित के स्वाभिमान के लिए संघर्ष करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि उनका विजयरथ बनकर तैयार हो गया है, जो क्रांति रथ के रूप में राज्य के हर जिले में जाएगा। अब सपा में लौटने का सवाल ही नहीं है। अब तो संघर्ष के लिये तैयारी कर ली हैै। सरकार की अराजकता के खिलाफ संघर्ष के लिये वे निकलने वाले हैं। शिवपाल ने कहा कि आज देश के किसान, मजदूर, छात्र, नौजवान, महिलायें और व्यापारी सभी परेशान हैं। अफसरों की अराजकता लूट खसोट के खिलाफ सड़क पर उतरकर संर्घष का समय आ गया है। इसलिये समाजवादी पार्टी के साथ जाने का प्रश्न ही नहीं है। सपा प्रत्याशी को वोट के सवाल पर उन्होंने कहा कि अगर अखिलेश यादव हमसे राज्य सभा के चुनाव में पार्टी के प्रत्याशी के लिये वोट मांगेगे तो इस बारे में सोचेंगे।

ये भी पढ़ें- जलालुद्दीन नगर होगा दशरथनगर, जानिए और किस रेलवे स्टेशन का बदलेगा नाम

भाजपा पर साधा निशाना-

उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकारों ने सहकारिता आंदोलन को बहुत अधिक कमजोर किया है । इसकी कीमत आगे आने वाले समय में भाजपा को चुकानी होगी। उन्होंने कहा कि नोटबंदी से लेकर कोरोना व लॉकडाउन तक, इस देश का गरीब ही बुरी तरह से पिसा है और उनके लिये सरकार ने कोई योजना तैयार नहीं की है। उन्होंने कहा कि तीन नये कृषि कानून अमल में आने के बाद आज मंडियों में किसानों का धान 1868 रुपये कुंतल के बजाय सिर्फ एक हजार रुपये और इसके आसपास ही बिक रहा है। कोई देखने वाला नहीं है। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार में अफसर बेलगाम और बेईमानी तथा भ्रष्टाचार में डूबे हुये हैं। ऐसे में अब सिर्फ और सिर्फ संघर्ष ही एकमात्र रास्ता रह गया है और इस पर चलने के लिये हमने अपना विजय रथ तैयार करा लिया है और जल्द ही वे इसे लेकर प्रदेश भर में समस्याग्रस्तों के हकों के लिये आबाज बुलंद करेंगे।

BJP
Show More
Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned