पंचायत चुनाव से पहले यहां 4-5 हजार रुपए में बेचे जा रहे थे तमंचे, पुलिस ने ठिकाने पर दी दबिश

यूपी पंचायत चुनाव (UP Panchayat Chunav) की हलचल के बीच तमंचों की मांग बढ़ गई है.

By: Abhishek Gupta

Published: 27 Nov 2020, 07:12 PM IST

फर्रुखाबाद. यूपी पंचायत चुनाव (UP Panchayat Chunav) की हलचल के बीच तमंचों की मांग बढ़ गई है। यहां पुलिस की नजर से बचने के लिए फैक्ट्री संचालक शहर को सुरक्षित ठिकाना मानकर तमंचा बना रहे थे और चार से पांच हजार रुपए में बेच रहे थे। पुलिस ने दबिश दी और मौके से तमंचा व बनाने के उपकरणों सहित तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

ये भी पढ़ें- डेंगू की वजह से कोरोना संक्रमितों की बची जान, मरीजों की केस स्टडी में आए चौकाने वाले तथ्य

इन दिनों पंचायत चुनाव की वजह से गांव में तमंचों की अच्छी मांग है। चुनाव की वजह से गांव में पुलिस सक्रिय है। शहर कोतवाली पुलिस व स्वॉट टीम ने मोहल्ला बड़ा बंगशपुरा व छोटा बंगशपुरा के बीच में आबादी से सटी झाड़ियों में तड़के दबिश देकर थाना राजेपुर के गांव हरिहरपुर निवासी हरजीत सिंह व राजीव एवं जनपद हरदोई थाना पचदेवरा के गांव नारायणपुर निवासी संजय को गिरफ्तार कर लिया। मौके से 16 बने व अधबने तमंचा, कारतूस व असलाह बनाने के उपकरण आदि भी बरामद हो गए। आरोपितों से कोतवाली में पूछताछ की गई। पुलिस को पता चला कि आरोपित शहर को सुरक्षित मानकर यहां असलाह बना रहे थे। एक तमंचा तीन से पांच हजार रुपये तक में बिकता था।

ये भी पढ़ें- यूपी पंचायत चुनाव में महिलाओं के जरिए कमल खिलाने की तैयारी में बीजेपी, लेकिन इन्हें नहीं मिलेगा टिकट

किनको बेचा गया, पता लगाया जाएगा-

तीनों आरोपितों के खिलाफ शस्त्र फैक्ट्री चलाने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया है। सीओ सिटी राजवीर सिंह ने पुलिस लाइन में पत्रकारों से बातचीत कर शस्त्र फैक्ट्री बरामदगी की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आरोपियों से 14 अदद 315 बोर तमंचा, 2 अदद 12 तमंचा , 6 अदद 315 बोर जिन्दा कारतूस, दो अधबने शस्त्र व शस्त्र बनाने के उपकरण बरमाद हुए हैं| विवेचना में यह भी पता किया जाएगा कि गिरफ्तार फैक्ट्री संचालकों ने किन लोगों को तमंचा पूर्व में बेचे थे।

Show More
Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned