आईओबी बेचने जा रहा है अपनी संपत्ति, 900 करोड़ रुपए जुटाने की है योजना

आईओबी बेचने जा रहा है अपनी संपत्ति, 900 करोड़ रुपए जुटाने की है योजना

Saurabh Sharma | Updated: 07 May 2019, 01:59:33 PM (IST) फाइनेंस

  • सिंगापुर और हांगकांग में बैंक ने की 32 प्रॉपर्टी की पहचान
  • पिछले साल बैंक ने 6 प्रॉपर्टी को बेचकर जुटाए थे 129 करोड़

नई दिल्ली। इंडियन ओवरसीज बैंक ( आईओबी ) चालू वित्त वर्ष के दौरान 900 करोड़ रुपए जुटाने की योजना बना रहा है। बैैंक इतनी बड़ी राशि को अपनी गैर जरूरी संपत्तियों को बेचकर जुटाएगा। बांबे स्टॉक एक्सचेंज दी गई सूचना के अनुसार बैंक अपनी संपत्ति और निवेश को बेचकर रकम जुटाएगा। आपको बता दें कि पिछले साल भी बैंक ने अपनी गैर जरूरी प्रॉपर्टी को बेचकर रकम जुटाई थी। जिसमें से अधिकतर प्रॉपर्टी दूसरे देशों में थी।

यह भी पढ़ेंः- जेपी इन्फ्रा के लिए एनबीसीसी की बोली पर विचार करें कर्जदाता : एनसीएलटी

संयुक्‍त उद्यम में हिस्‍सेदारी बेचेगा बैंक
आईओबी के अधिकारियों की मानें तो बैंक वर्तमान में संसाधनों को बढ़ाने के लिए संयुक्त उद्यमों में हिस्सेदारी बेचने के विकल्पों की तलाश कर रही है। जिससे बैंक आराम से 445 करोड़ रुपए जुटा सकता है। बैंक के अनुसार उसने सिंगापुर और हांगकांग स्थित प्रमुख संपत्तियों साथ 32 प्रॉपर्टी की पहचान की है। इससे कुल मिलाकर 900 करोड़ रुपये जुटाए जा सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः- Recession Returns? अमरीका-चीन की टसल के चलते वैश्विक मंदी का खतरा

पिछले साल भी बेची थी संपत्तियां
जानकारी के अनुसार बैंक ने 2018- 19 में 6 प्रॉपर्टी बेचकर 129 करोड़ रुपए जुटाए थे। बैंक के अनुसार उसने पहले ही 26 संपत्तियों को बेचने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। इनका मूलय 775 करोड़ रुपए आंका गया है। इनकी बिक्री के लिए विभिन्न पक्षकारों को शामिल किया गया है, ताकि इसमें तेजी लाई जा सके और अधिकतम रकम जुटाई जा सके। आईओबी के सीईओ के स्वामीनाथन के अनुसार बैंक की स्थिति में सुधार आया है और इन परंपरागत तरीकों से होने वाले पूंजी विस्तार से बैंक को 2019-20 के लिए तय मुनाफा लक्ष्य को पाने में मदद मिलेगी।

 

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned