अध्यात्मिक गुरू की कंपनियों पर छापा, 500 करोड़ की अघोषित संपत्ति का खुलासा

  • आयकर ने गुरु के संस्थानों और कंपनियों के 40 स्थानों पर छापा
  • 25 लाख डॉलर ( करीब 18 करोड़ रुपए) मूल्य की विदेशी मुद्राएं बरामद की गई
  • 88 किलोग्राम सोने चांदी के आभूषण, 5 करोड़ रुपए के 1271 कैरेट हीरे भी मिले

Saurabh Sharma

October, 1908:30 AM

नई दिल्ली। आयकर विभाग ने तमिलनाडु, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में एक अध्यात्मिक गुरू द्वारा संचालित वैलनेस पाठ्यक्रम संचालित करने वाले संस्थानों और कंपनियों के 40 स्थानों पर छापेमारी की है, जिसमें इस समूह के 500 करोड़ रुपए की अघोषित संपत्ति का पता चला है।

यह भी पढ़ेंः- जियो को लेकर मुकेश अंबानी का बड़ा बयान, कहा अब हिंदी में भी होंगी सभी सेवाएं

आयकर विभाग ने शुक्रवार को यहां जारी बयान में यह जानकारी देते हुए कहा कि 16 अक्टूबर को समूह के 40 कैंपस पर छापे मारी की कार्रवाई की गई जो तीन दिनों तक चली। इस कार्रवाई के दौरान नकद राशि के साथ साथ 25 लाख डॉलर ( करीब 18 करोड़ रुपए) मूल्य की विदेशी मुद्राएं बरामद की गयी। 26 करोड़ रुपए से अधिक के लगभग 88 किलोग्राम सोने चांदी के आभूषण, लगभग 5 करोड़ रुपए के 1271 कैरेट हीरे भी मिले। अब तक लगभग 93 करोड़ रुपए मूल्य की संपत्ति बरामद हुई है। समूह की अब तक 500 करोड़ रुपये की अघोषित संपत्ति का पता चला है। जांच अभियान जारी है।

यह भी पढ़ेंः- रियल एस्टेट सेक्टर पर मंदी की मार, पिछले साल के मुकाबले 25 फीसदी घटी मकानों की बिक्री

इस दौरान पता चला कि यह समूह भारत के साथ साथ चीन, अमेरिका, सिंगापुर, संयुक्त अरब अमीरात जैसे देशों की कंपनियों में भी निवेश कर रखा है, जिन्हें भारत में चलाए जा रहे 'वेनलेस' पाठ्यक्रम में शामिल होने वाले विदेशी लोगों द्वारा भी भुगतान किया जाता रहा है। आयकर विभाग इस तरह निवेश से भारत में कर योग्य आय के विदेशी कंपनियों में जाने के मामले की जांच कर रहा है।

यह भी पढ़ेंः- रिलायंस के नतीजों से पहले शेयर बाजार बढ़त के साथ बंद, 5 महीने बाद आया निफ्टी का शानदार सप्ताह

विभाग ने कहा कि यह समूह आंध्रप्रदेश के वरदइयापलेम में विभिन्न आवासीय परिसरों में 'वेलनेसÓ पाठ्यक्रम और दर्शनशास्त्र, अध्यात्म इत्यादि में प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित करता है। आध्यात्मिक गुरू ने 1980 में एकात्मकता के दर्शन के साथ इस समूह को स्थापित किया था जो अब रियल एस्टेट, निर्माण, खेल इत्यादि क्षेत्रों में भारत सहित विदेशों में भी कार्ररत है। इस समूह का प्रबंधन और नियंत्रण इस समूह के संस्थापक आध्यात्मिक गुरु और उनके बेटे के नियंत्रण में है।

यह भी पढ़ेंः- सोने के दाम में 10 रुपए की मामूली गिरावट, चांदी की कीमतें रहीं स्थिर

अध्यात्म और सेहत से जुड़े इन पाठ्यक्रमों में विदेशी भी शामिल होते हैं, जिससे यह समूह बहुत अधिक विदेशी मुद्रा अर्जित करता है। समूह को लेकर यह खुफिया जानकारी मिली थी कि समूह आंध्र प्रदेश और तमिलनाडू में भू संपदा और विदेशी निवेश की जानकारियां छिपाता है। इस जानकारी के आधार पर आयकर विभाग का चेन्नई, हैदराबाद, बेंगलुरू, वरदइयापलेम में 40 ठिकानों पर छापेमारी की कार्रवाई की।

यह भी पढ़ेंः- पीएमसी बैंक के ग्राहकों की याचिका पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

विभाग को कुछ ऐसे साक्ष्य मिले हैं जिनसे पता चलता है कि यह समूह विभिन्न केन्द्रों और आश्रमों में निवेश की रसीदों को छिपाता रहा है। समूह के नकद संग्रह का हिसाब रखने वाले एक कर्मचारी के पास से ऐसे सबूत भी मिले हैं, जिनसे यह खुलासा होता है कि यह समूह बिना किसी रसीद के निवेश करता है और संपत्तियों की खरीदारी करता है। यह समूह बिना किसी दस्तावेज के संपत्तियों की बिक्री कर धन अर्जित करता है। विभाग की टीम को समूह के संस्थापक और उसके बेटे के आवासों और उनके एक परिसर से बड़ी मात्रा में नकद राशि और अन्य मूल्यवान वस्तुएं मिली हैं। तलाशी में समूह के ठिकानों से आयकर विभाग ने 43.9 करोड़ रुपए बरामद किए हैं।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned