Budget 2021: पटरी पर अर्थव्यवस्था के आने की है आशा पर मिडिल क्लास के हाथ लगी निराशा, जानिए 10 बड़े ऐलान

  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने बजट (budget 2021) में कई अहम घोषणाएं की हैं
  • चुनाव वाले राज्य बड़े राज्यों में रोड इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए कुल 2.27 लाख करोड़ का एलान किया
  • वित्त मंत्री (Finance minister) ने MSP के मुद्दे को लेकर भी बड़ा ऐलान किया है
  • पढ़े बजट से जुड़ीं 10 मुख्य बातें

By: Vivhav Shukla

Updated: 01 Feb 2021, 05:21 PM IST

Budget 2021: वित्त वर्ष 2021-22 के लिए आज संसद में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आम बजट पेश किया। इसमें आम आय करदाताओं को राहत नहीं मिली है। बजट में इस साल राजकोषीय घाटा के 6.8 फीसदी तक रहने का अनुमान किया गया है। सरकार ने जहां सोने और चांदी से कस्टम ड्यूटी को घटाया है। वहीं मोबाइल और चार्जर को महंगा कर दिया है।

ये भी पढ़ें- Budget 2021: आम नागरिकों के जेब पर कितना पड़ेगा बोझ, जानिए क्या हुआ सस्ता और क्या महंगा


बजट से जुड़ीं 10 मुख्य बातें-

1- निर्मला सीतारमण ने बताया 2 सरकारी क्षेत्र के बैंक (PSU) का प्राइवेटाइजेशन होगा साथ ही साथ सरकारी कंपनियों की अतिरिक्त जमीन भी बेची जाएगी।इसके अलावा सरकार IDBI बैंक का निजीकरण करेगी।इसके साथ ही बैंकों के अटके कर्जों से निपटने के लिए परिसंपत्ति पुनर्गठन एवं प्रबंधन कंपनी भी बनाई जाएगी।

2- वित्तमंत्री ने कहा कि LIC का IPO (Initial Public Offering) लाएंगे, जिसके बाद शेयर्स बेचे जाएंगे। इसके साथ ही बीमा कंपनियों में विदेश निवेश (FDI) को भी बढ़ाने की अनुमति मिली है। इस बजट में बीमा कंपनियों में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) को बढ़ाकर 74 फीसदी कर दिया है। अभी तक बीमा क्षेत्र में 49 फीसदी एफडीआई का ही प्रावधान था।

3- 2021-22 में स्वास्थ्य का बजट 2.23 लाख करोड़ रुपये है और इसमें 137 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है। इस बजट में कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण के लिए 35,000 करोड़ रुपये का प्रस्ताव किया है। वित्त मंत्री ने बताया कि कोरोना के टीके के लिए 35,000 करोड़ रुपये मुहैया कराए हैं। लेकिन आगे जरूरत हुई तो और भी धन उपलब्ध कराया जाएगा। और इस साल देश भर में 15 नए इमरजेंसी सेंटर खोले जाएंगे।

4- बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि स्टार्ट अप कंपनियों को बिना किसी रोक-टोक के शुरुआत में काम करने की मंजूरी दी जाएगी।इसके साथ ही वित्त मंत्री ने इस बार के बजट में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम ( MSME ) सेक्टर के लिए 15,700 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है।

5-निर्मला सीतारमण ने पिछले वित्त वर्ष के बजट अनुमान (BE) की तुलना में पूंजीगत व्यय को 34 प्रतिशत बढ़ाने का प्रस्ताव रखा। जिसके अनुसार वित्त मंत्री ने बजट अनुमान वित्त वर्ष 2021 में पूंजीगत व्यय को 4.12 लाख करोड़ रुपये से बढ़ाकर 5.54 लाख करोड़ रुपये करने का प्रस्ताव रखा है।

6- इस बजट में वित्त मंत्री ने रेलवे के लिए 1.10 लाख करोड़ रुपये की रिकॉर्ड राशि की घोषणा की है। इसमें से 1.07 लाख करोड़ रुपये पूंजीगत व्यय के लिए हैं।

7- बजट में वित्त मंत्री ने चुनावी राज्यों को के लिए भी कई बड़े एलान किए। वित्त मंत्री ने पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, केरल और असम के लिए जमकर पैसा दिया। चुनाव वाले राज्य बड़े राज्यों में रोड इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए कुल 2.27 लाख करोड़ का एलान किया गया है।

8- इस बार के बजट से टैक्स में राहत की उम्मीद लगाए लोगों को बड़ा झटका लगा है। वित्त मंत्री ने टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया है। हालांकि बजट में वरिष्ठ नागरिकों को टैक्स में राहत दी जाएगी। 75 की उम्र पार कर चुके वरिष्ठ नागरिकों को अब नकम टैक्स रिटर्न भरने की जरूरत नहीं होगी।

9- इस बजट में वित्त मंत्री ने MSP के मुद्दे को लेकर बड़ा ऐलान किया है।वित्त मंत्री ने कहा है कि सरकार किसानों की खेती में लगने वाली लागत से अधिक MSP किसानों को देगी। इसके साथ ही बजट में एपीएमसी (APMC) के लिए एग्री इंफ्रा फंड का भी ऐलान किया गया है।

10- लोकपाल को वित्त वर्ष 2021-22 के लिए इस बजट में तकरीबन 40 करोड़ रुपये आवंटित हुए हैं। मौजूदा वित्त वर्ष के लिए लोकपाल को 74.4 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया था, जिसे अब कम करके 29.67 करोड़ रुपये करने का प्रस्ताव है।वहीं आगामी वित्त वर्ष के लिए लोकपाल के वास्ते कुल 39.67 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।

Budget 2021
Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned