मूडीज ने कहा, एनपीए पर आरबीआई का संशोधित सर्कुलर क्रेडिट पॉजिटिव

मूडीज ने कहा, एनपीए पर आरबीआई का संशोधित सर्कुलर क्रेडिट पॉजिटिव

Saurabh Sharma | Publish: Jun, 11 2019 06:06:26 AM (IST) फाइनेंस

  • एनबीएफसी बैंकों के खातों को भी दुरुस्त करने में मिलेगी मदद
  • एनपीए के समाधान के लिए समय पर दिया जाएगा ध्यान
  • 12 जनवरी 18 के स्थान पर आरबीआई लाया है नया सर्कूलर

नई दिल्ली। मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने फंसी हुई संपत्तियों के समाधान के लिए भारतीय रिजर्व बैंक की संशोधित रूपरेखा को क्रेडिट पॉजिटिव यानी साख के लिए सकारात्मक कदम बताते हुए देश के दिवाला कोड मैकेनिज्म को समाधान की प्रक्रिया को तेज करने की सलाह दी है।

यह भी पढ़ेंः- ICU में ऑटो इंडस्ट्री, खपत कम होने से 52 हजार करोड़ रुपए के वाहनों का नहीं है कोई खरीदार

मूडीज के इन्वेंस्टर्स सर्विस की वाइस प्रेसिडेंट अल्का अन्बरसु ने कहा, "फंसी हुई संपत्ति के समाधान के लिए आरबीआई की संशोधित रूपरेखा क्रेडिट पॉजिटिव है, क्योंकि इससे ऐसी संपत्तियों का समय पर समाधान की आवश्यकता पर फिर से ध्यान केंद्रित किया जाएगा और उन संपत्तियों के लिए कर्ज के घाटे की प्रोविजनिंग की जाएगी।"

यह भी पढ़ेंः- कॉम्पटिशन के मामले में ये अर्थव्यवस्थाएं हैं सबसे आगे, इन भारतीय शहरों का है बोलबाला

उन्होंने कहा कि गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों को सर्कलुर में शामिल किए जाने से वाणिज्यिक बैंकों के साथ एनबीएफसी के संकटग्रस्त खातों के लिए कर्ज घाटे के प्रोजिविजनिंग मानक को दुरुस्त करने में मदद मिलेगी। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि आईबीसी को अभी भी फंसी हुई संपत्ति का समय पर समाधान करने पर विजय प्राप्त करना है।

यह भी पढ़ेंः- SBI ने MCLR दरों पर लिया बड़ा फैसला, आप पर पड़ने वाला है यह असर

रेटिंग एजेंसी ने कहा, "हालांकि ऋणशोधन अक्षमता व दिवाला कोड के तहत प्रगति अपेक्षा से कम रही है, जोकि फंसी हुई संपत्ति का समय पर समाधान की राह में बाधक है। इसलिए बैंक के तुलन पत्र की सफाई में अभी भी दो से तीन साल लग सकता है।" आरबीआई ने फंसी हुई संपत्ति के समाधान के लिए सात जून को एक नई विवेकशील रूपरेखा जारी की जो 12 फरवरी 2018 को जारी आरबीआई के विवादास्पद सर्कुलर की जगह लेगी।

 

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned