पीएसबी में खराब शासन के कारण एनपीए बढ़ा: RBI

  • RBI ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में मजबूत कॉरपोरेट शासन की संस्कृति और जवाबदेही का आह्वान किया।
  • निजी बैंकों में मुकाबले पीएसबी में एनपीए ज्यादा

Manish Ranjan

November, 1712:52 PM

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक ( rbi ) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बढ़ रही गैरनिष्पादित परिसंपत्तियों पर रोक लगाने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में मजबूत कॉरपोरेट शासन की संस्कृति और जवाबदेही का आह्वान किया। आरबीआई गवर्नर ने अहमदाबाद में एक सम्मेलन में कहा, "मौजूदा समय में पीएसबी को जो समस्याएं प्रभावित करती हुई दिखती हैं, जैसे कि एनपीए का बढ़ता स्तर, पूंजी की कमी, फ्रॉड और अपर्याप्त जोखिम प्रबंधन, ये सभी कॉरपोरेट शासन के मुद्दों के कारण हैं।"

ये भी पढ़ें: Rcom के डायरेक्टर पद से अनिल अंबानी ने दिया इस्तीफा, कंपनी को दूसरी तिमाही में 30 हजार करोड़

जोखिम प्रबंधन पर हो विशेष जोर

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने आगे कहा कि नियंत्रण, ऑडिट और बिजनेस व जोखिम प्रबंधन के बारे में खास सूचना की उचित प्रणाली स्थापित कर एक अनुपालन संस्कृति कायम करने में स्वतंत्र बोर्ड की भूमिका को कुछ पीएसबी में आवश्यक पाया गया है, जहां बड़ी मात्रा में एनपीए हैं।

ये भी पढें: अमेरिका-चीन व्यापारिक वार्ता की प्रगति से तय होगी शेयर बाजार की चाल

ये भी पढें: नोएडा में Polaris India के 92वें एडवेंचर ज़ोन का उद्घाटन, ग्लाइडिंग से लेकर ATV तक मिलेगा एक्सपीरियंस

निजी बैंकों में मुकाबले पीएसबी में एनपीए ज्यादा

आरबीआई गवर्नर ने इसके अलावा यह भी कहा कि कुछ बैंकों में अकुशलता और अक्षमता के मुद्दों के कारण बोर्ड बिजनेस संबधित जोखिमों को ठीक से समझ नहीं पाए। दास ने कहा कि पीएसबी में एनपीए निजी और विदेशी बैंकों की अपेक्षा अधिक बढ़ा है।

manish ranjan
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned