पीएनबी बोर्ड ने दी मर्जर को मंजूरी, बनेगा देश का दूसरा सबसे बड़ा बैंक

पीएनबी बोर्ड ने दी मर्जर को मंजूरी, बनेगा देश का दूसरा सबसे बड़ा बैंक

Shivani Sharma | Updated: 05 Sep 2019, 03:20:51 PM (IST) फाइनेंस

  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बैंकों के विलय की घोषणा की
  • पीएनबी, ओरियंटल बैंक और यूनाइटेड बैंक का होगा विलय

नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने हाल ही में बैंकों के विलय की घोषणा की है। इस घोषणा के बाद आज यानी गुरुवार को पीएनबी के निदेशक मंडल ने बैठक की थी। बैठक में बोर्ड ने पंजाब नेशनल बैंक, ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (ओबीसी) और यूनाइडेट बैंक के विलय को मंजूरी दे दी है। सरकार मार्च 2020 तक इन बैंकों का विलय कर सकती है।


बोर्ड ने दी मंजूरी

रेगुलेटरी फाइलिंग में पीएनबी ने बैंकों के विलय को मंजूरी दे दी है। बोर्ड की ओर से की गई बैठक के बाद सभी लोगों ने विलय पर अपने विचार व्यक्त किए। बैंकों के विलय से देश में बैंकिंग सुविधाओं में सुधार होगा। इसके साथ ही लोगों को ज्यादा से ज्यादा लोन भी मिल पाएगा।


ये भी पढ़ें : ICICI बैंक ने सस्ता किया कर्ज, घट गई होम और ऑटो लोन की EMI


18 हजार करोड़ रुपए को दी मंजूरी

इसके अलावा पीएनबी बोर्ड ने सरकार की ओर से बैंक को दिए जाने वाले 18 हजार करोड़ रुपए को भी मंजूरी दे दी है। बैंक बोर्ड ने कहा इस राशि से बैंकों के मर्जर में काफी सहायता मिलेगी। इसके साथ ही पूंजी का इस्तेमाल सेबी के नियमों के अनुसार बैंक के इक्विटी शेयरों के अलॉटमेंट के लिए किया जाएगा।


बैंकों के एनपीए में आएगी गिरावट

पीएनबी ने जानकारी देते हुए बताया कि शेयरधारकों की सहमति लेने के लिए एकस्ट्रा जनरल मीटिंग (ईजीएम) 22 अक्टूबर को बुलाई जाएगी। इस बैठक में शेयरधारकों का विचार भी लिया जाएगा। सरकार के इस प्रस्ताव से बैंकों के एनपीए में भी काफी गिरावट आएगी। इस साल भी बैंकों के एनपीए में गिरावट देखी गई है।


ये भी पढ़ें : प्लास्टिक का आधार रखने वालों के लिए बुरी खबर, लीक हो सकती हैं सभी जानकारी


नहीं हुआ तारीखों का ऐलान

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने देश के 10 सरकारी बैंकों के मर्जर की घोषणा की है। सीतारमण के इस ऐलान के बाद देश में सिर्फ 12 सरकारी बैंक रह जाएंगे। बैंकों के मर्जर का सबसे ज्यादा असर खाताधारकों पर होगा। बता दें पीएनबी में ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया का, केनरा बैंक में सिंडिकेट बैंक का, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक का एवं इंडियन बैंक में इलाहाबाद बैंक का विलय किया जाना है। फिलहाल बैंकों के मर्जर की तारीखों को लेकर अभी तक कोई एलान नहीं किया गया हैं। जल्द ही बैंकों की तारीखों का एलान भी कर दिया जाएगा।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned