पिछले 11 सालों में देश के कई बैंकों को लगा करोड़ों का चूना, ICICI का नाम सबसे ऊपर

पिछले 11 सालों में देश के कई बैंकों को लगा करोड़ों का चूना, ICICI का नाम सबसे ऊपर

Shivani Sharma | Updated: 13 Jun 2019, 12:45:06 PM (IST) फाइनेंस

  • आरबीआई ने बैंक धोखाधड़ी के मामलों का खुलासा किया है
  • इसमें सबसे ऊपर नाम आईसीआईसीआई बैंक का है
  • इसमें सरकारी और प्राइवेट दोनों बैंकों के नाम शामिल हैं

नई दिल्ली। भारत में पिछले कुछ सालों में बैंकों के साथ धोखाधड़ी के कई मामले सामने आए हैं। इसमें सरकारी और प्राइवेट दोनों तरह के बैंक शामिल हैं। आरबीआई ( rbi ) के आंकड़ों के अनुसार धोखाधड़ी के मामले में सबसे ऊपर नाम आईसीआईसीआई बैंक ( ICICI ) का है। ICICI के साथ 6 हजार से भी ज्यादा धोखाधड़ी के मामले दर्ज किए गए हैं। पिछले 11 सालों में लगभग 50 हजार बैंक धोखाधड़ी के मामले सामने आए हैं, जिसमें 2.05 लाख करोड़ रुपए की हेराफेरी हुई है।


आरबीआई ने किया खुलासा

आपको बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक ( आरबीआई ) के आंकड़ों के अनुसार आईसीआईसीआई बैंक, भारतीय स्टेट बैंक ( SBI ) और एचडीएफसी बैंक ( HDFC Bank ) में सबसे ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं। ( RTI ) के तहत मांगी गई जानकारी के जवाब में केंद्रीय बैंक ने यह आंकड़े दिए हैं। आंकड़ों के मुताबिक पिछले 11 सालों में 2.05 लाख करोड़ रुपए की धोखाधड़ी के कुल 53,334 मामले दर्ज किए गए हैं।


ये भी पढ़ें: PwC के ऑडिट में अनिल अंबानी की कंपनी के बारे में हुआ बड़ा खुलासा, बहीखातों में पाई गई गड़बड़ियां

आइए आपको बताते हैं कि किन बैंकों के साथ कितने करोड़ रुपए की धोखाधड़ी हुई है-

 

इन बैंकों के साथ हुई धोखाधड़ी कितने मामले आए सामने कितने रुपए की हुई है धोखाधड़ी
आईसीआईसीआई बैंक 6,811 5,033.81 करोड़ रुपए
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया 6,793 23,734.74 करोड़ रुपए
एचडीएफसी बैंक 2,497 1200.79 करोड़ रुपए
बैंक ऑफ बड़ौदा 2,160 12,962.96 करोड़ रुपए
पंजाब नेशनल बैंक 2,047 28,700.74 करोड़ रुपए
एक्सिस बैंक 1,944 5,301.69 करोड़ रुपए
बैंक ऑफ इंडिया 1,872 12,358.2 करोड़ रुपए
सिंडिकेट बैंक 1,783 5,830.85 करोड़ रुपए
सेंट्रल बैंक 1,613 9,041.98 करोड़ रुपए
आईडीबीआई बैंक 1,264 5,978.96 करोड़ रुपए

आम जनता होती है प्रभावित

गौरतलब है कि बैंक धोखाधड़ी से देश की आम जनता सबसे ज्यादा प्रभावित होती है। देश के कम आय वाले लोगों पर इसका सीधा असर पड़ता है। न्यूज एजेंसी ने 3 जून को आरबीआई के आंकड़ों का हवाला देते हुए बताया कि अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों और चुनिंदा वित्तीय संस्थाओं में 71,542.93 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी के 6,801 मामलों की सूचना दी थी। इससे पहले 2008-09 में 1,860.09 करोड़ रुपए के कुल 4,372 मामले सामने आए थे।


ये भी पढ़ें: Bank of England के गवर्नर बन सकते हैं रघुराम राजन, रेस में इकलौते विदेशी


करोड़ों रुपए की हुई है धोखाधड़ी

इसके बाद 2009-10 में 1,998.94 करोड़ रुपए के 4,669 मामले दर्ज किए गए हैं। 2010-11 में 4,534 मामले और 2011-12 में 4,093 मामले दर्ज किए गए हैं, इनमें क्रमश: 3,815.76 करोड़ रुपए और 4,501.15 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी हुई। इसी प्रकार, वित्त वर्ष 2012-13 में 8,590.86 करोड़ रुपए के 4,235 मामले , 2013-14 में 10,170.81 करोड़ रुपए के 4,306 मामले और 2014-15 में 19,455.07 करोड़ रुपए के 4,639 धोखाधड़ी के मामले दर्ज किए गए। वित्त वर्ष 2015-16 और 2016-17 में क्रमश: 18,698.82 करोड़ रुपए और 23,933.85 करोड़ रुपए मूल्य के 4,693 और 5,076 मामले सामने आए हैं। वहीं, 2017-18 में 41,167.03 करोड़ रुपये के 5,916 धोखाधड़ी के मामले सामने आए हैं।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned