scriptArtifical Intelligence: वित्तीय बाजारों में शैडो एआई का उदय, निवेशकों की चिंता बढ़ी | Rise of shadow AI in financial markets, investors worried | Patrika News

Artifical Intelligence: वित्तीय बाजारों में शैडो एआई का उदय, निवेशकों की चिंता बढ़ी

locationजयपुरPublished: Mar 20, 2024 07:54:22 pm

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) आधुनिक वित्त की आधारशिला बन गई है, जो अद्वितीय अंतर्दृष्टि और दक्षता प्रदान करती है।

Artifical Intelligence: वित्तीय बाजारों में शैडो एआई का उदय, निवेशकों की चिंता बढ़ी

Artifical Intelligence: वित्तीय बाजारों में शैडो एआई का उदय, निवेशकों की चिंता बढ़ी

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) आधुनिक वित्त की आधारशिला बन गई है, जो अद्वितीय अंतर्दृष्टि और दक्षता प्रदान करती है। हालांकि, इसके लाभों के साथ-साथ, ‘शैडो एआई’ के उद्भव के बारे में चिंता बढ़ रही है, जो पारंपरिक निरीक्षण के बाहर काम करने वाले एआई सिस्टम को संदर्भित करता है। एआई का यह अनधिकृत या अनैतिक उपयोग वित्तीय बाजारों के लिए महत्वपूर्ण जोखिम पैदा करता है, जिसमें साइबर सुरक्षा खतरे, बाजार में हेरफेर और गोपनीयता उल्लंघन शामिल हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि शैडो एआई गुप्त रूप से काम करता है, मानवीय हस्तक्षेप के बिना स्वायत्त निर्णय लेता है। इसके उपयोग से बाजार में अस्थिरता आ सकती है और वित्तीय संस्थानों में विश्वास कम हो सकता है। बैंकिंग ग्राहकों के लिए, इसका मतलब संभावित गोपनीयता उल्लंघन और सुरक्षा जोखिम है, क्योंकि उनका डेटा बिना सहमति के एकत्र और विश्लेषण किया जाता है। यह वित्तीय प्रभावों के बारे में भी चिंता पैदा करता है, क्योंकि एआई-संचालित रणनीतियों से बाजार में व्यवधान पैदा हो सकता है जिससे निवेश प्रभावित हो सकता है।

यह भी पढ़ें

किसानों के लिए आय बढ़ाने का जरिया बनी ये खेती, परंपरागत तरीके छोड़कर अपना रहे ये तकनीक

पर्सनल फाइनेंस कर सकता है प्रभावित

इक्विटी बाजारों में शैडो एआई के निहितार्थ गहरे हैं। एआई-संचालित ट्रेडिंग एल्गोरिदम अस्थिरता को बढ़ा सकते हैं और बाजार में हेरफेर के लिए इसका फायदा उठाया जा सकता है। नियामकों को इन विकासों के साथ तालमेल बनाए रखने में चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, क्योंकि एआई का तेजी से विकास नियामक निरीक्षण से आगे निकल जाता है। पर्सनल फाइनेंस भी प्रभावित हो सकता है, एआई-संचालित उत्पाद संभावित रूप से पूर्वाग्रह प्रदर्शित करते है, जो वित्तीय सेवाओं तक पहुंच को प्रभावित करते है। गोपनीयता संबंधी चिंताएं भी है, क्योंकि शैडो एआई सिस्टम की ओर से एकत्र किए गए व्यक्तिगत वित्तीय डेटा का दुरुपयोग किया जा सकता है, जिससे व्यक्तियों की वित्तीय सुरक्षा से समझौता हो सकता है।

यह भी पढ़ें

लोकसभा चुनाव: राजस्थान में कांग्रेस उम्मीदवारों के नाम को लेकर आया ताजा अपडेट, जानें कब आ रही है लिस्ट!

म्यूचुअल फंड निवेशक भी जोखिमों से अछूते नहीं

टेलविंड फाइनेंशियल सर्विसेज के एमडी ऋषभ गोयल का कहना है कि म्यूचुअल फंड निवेशक इन जोखिमों से अछूते नहीं हैं। एआई एल्गोरिदम का उपयोग करने वाले फंड कुछ स्थितियों में बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं, लेकिन बाजार में उथल-पुथल के दौरान उन्हें महत्वपूर्ण नुकसान भी हो सकता है। पारदर्शिता के मुद्दे निवेशकों के लिए एआई-संचालित रणनीतियों से जुड़े जोखिमों को समझना मुश्किल बना देते हैं। गोयल का कहना है कि इन जोखिमों को कम करने के लिए, हितधारकों को सुरक्षा उपाय विकसित करने के लिए सहयोग करना चाहिए। इसमें एआई-संचालित उत्पादों के लिए पारदर्शिता आवश्यकताओं को लागू करना, साइबर सुरक्षा उपायों को बढ़ाना और निवेशकों के बीच वित्तीय साक्षरता को बढ़ावा देना शामिल है। वित्त में एआई को नियंत्रित करने वाले नियमों का अनुपालन सुनिश्चित करने में नियामक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

https://youtu.be/cw2dAZ06xKA
loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो