Corruption in Firozabad गौशाला की अनुमति लेकर लेकर खोल लिया मुर्गी फार्म, पढ़िए पत्रिका की स्पेशल रिपोर्ट, देखें वीडियो

— ग्राम पंचायत रसूलाबाद क्षेत्र में गौवंश से परेशान किसानों को राहत देने के लिए ग्राम पंचायत द्वारा गांव छाहरी में खोली गई थी गौशाला।

By: arun rawat

Updated: 07 Jul 2019, 02:51 PM IST

फिरोजाबादभ्रष्टाचार जारी है। योगी सरकार की मंशा है कि गौवंश के लिए व्यवस्था की जाए जिससे उनके द्वारा किसी किसान की फसल को नुकसान न पहुंचे। इसके लिए सरकार के निर्देशानुसार ग्राम पंचायतों द्वारा जगह—जगह अस्थाई और स्थाई गौशाला खुलवाई गईं। अधिकारियों की लापरवाही और अनदेखी के चलते गौशाला दुर्दशा का शिकार हो रही हैं। कुछ ऐसा ही नजारा ग्राम पंचायत रसूलाबाद में देखने को मिला। जहां छाहरी गांव के समीप अस्थाई गौशाला खुलवाई गई थी। जिसमें अब गाय कम और मुर्गे अधिक नजर आते हैं।

यह भी पढ़ें—

फिरोजाबाद की इस ग्राम पंचायत में हुई बंपर वोटिंग, शाम पांच बजे तक हुई 66.59 प्रतिशत वोटिंग, देखें वीडियो

 

कैबिनेट मंत्री ने किया था शुभारंभ
करीब एक साल पूर्व तत्कालीन योगी सरकार के मंत्री व वर्तमान आगरा सांसद प्रो. एसपी सिंह बघेल ने इस गांव में गौशाला का शुभारंभ किया था। उस समय इस गौशाला में करीब दो दर्जन से अधिक गौवंश थे। इनके खान—पान की जिम्मेदारी ग्राम पंचायत को दी गई थी। उस दौरान तेज धूप और बारिश से गायों को बचाने के लिए टीन शेड भी लगवाए गए थे। जो तेज हवा के साथ उड़ गई। वर्तमान स्थिति यह है कि गौशाला में अब मात्र आधा दर्जन गाय ही शेष रह गई हैं जबकि बाकी का कुछ अता—पता नहीं है।

यह भी पढ़ें—

उप चुनाव को लेकर भाजपा ने शुरू किया ऐसा अभियान, जिसके बाद विरोधी खेमे में मच जाएगी खलबली, देखें वीडियो

 

cow

खुल गया मुर्गी फार्म
जहां गौशाला खोली गई थी, उसमें अब वहां रहने वाले प्रेमचन्द्र नामक युवक ने मुर्गी फार्म खोल दिया है। जिस गौशाला में कभी गौवंश की भरमार थी वहां अब मुर्गियों की भरमार है। गायों के लिए आने वाले दाने को मुर्गी चुनती हैं। यही नहीं मुर्गियों के लिए जाल भी लगा दिया गया है। जहां अब गायों से अधिक मुर्गियों की फिक्र होती है।

यह भी पढ़ें—

पत्नी और बच्चे के साथ ससुराल जा रहा था युवक, रास्ते में हुआ ऐसा कि पत्नी की हो गई मौत, बेटी और पिता गंभीर घायल, देखें वीडियो

 

गौशाला में हैं करीब तीन दर्जन से अधिक मुर्गी
गौशाला के अंदर करीब तीन दर्जन से अधिक मुर्गियां रह रही हैं। गांव से बाहर होने के कारण अधिकारी भी इस गौशाला पर कभी-कभी ही जाते हैं। ऐसे में गौशाला के नाम पर मुर्गी फार्म फल फूल रहा है। वहां रहने वाले चौकीदार ने अब पूरा परिवार वहीं बसा लिया है। जिनके द्वारा मुर्गियों की देखरेख तो की जाती है लेकिन गायों की नहीं।

यह भी पढ़ें—
वीडियो: भ्रष्टाचार की खुल रही कलई, जमीन में धंस रहीं सुहागनगरी की सड़कें

ऐसा है तो कराएंगे जांच
जब इस मामले में खंड विकास अधिकारी डॉ. नीरज गर्ग से बात की गई तो उन्होंने बताया कि मुझे इस मामले की जानकारी नहीं है। यदि ऐसा है तो मामला गंभीर है। गौशाला गौवंश के लिए खोली गई है। मुर्गी फार्म चलाने के लिए नहीं। मौके पर जाकर उसका निरीक्षण किया जाएगा और उसकी पूरे मामले की जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

Show More
arun rawat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned