50 लाख रुपये में दिया गया था मुरादनगर श्मशान घाट के मरम्मत कार्य का टेंडर

  • निर्माण कार्य में घटिया सामग्री का इस्तेमाल किए जाने की आशंका
  • मरने वालों की संख्या का आकड़ा 23 पहुंचा क्षेत्र में मचा काेहराम

By: shivmani tyagi

Published: 03 Jan 2021, 08:31 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
गाजियाबाद . मुरादनगर के जिस श्मशान घाट का लिंटर गिरा है उसके मरम्मत कार्य के लिए 50 लाख रुपये का टेंडर दिया गया था। अक्टूबर माह में ही इस लिंटर का कार्य पूरा हुआ था और वर्तमान समय में भी यहां मरम्मत कार्य चल रहा है।

यह भी पढ़ें: मुरादनगर हादसा: 23 पहुंचा मृतकाें का आकड़ा पीएम माेदी ने भी जताया दुख

रविवार काे बरसात हाे रही थी और अंतिम संस्कार के लिए आए लाेग बरामदे के नीचे खड़े हाे गए थे। इसी दाैरान अचानक बरामदे का लिंटर ढह गया जिसके मलबे में करीब 40 लाेग दब गए। कड़ी मशक्कत के बाद इन सभी को मलबे से बाहर निकाला गया। रविवार शाम तक 23 लाेगाें की माैत हाे चुकी थी और 38 लाेगाें काे अस्पताल में भर्ती कराया जा चुका था। सीएम के आदेशाें के बाद दुर्घटना के कारणाें का पता लगाने में प्रशासनिक अमला जुट गया है। इस दुर्घटना के बाद कई नाम सामने आ सकते हैं जिन पर कार्रवाई लगभग तय है।

यह भी पढ़ें: मुरादनगर हादसा अपडेट : निकाले जा चुके 38 लाेग दुर्घटना की जांच शुरू, FIR की तैयारी

गाजियाबाद मुरादनगर पालिका के चेयरमैन विकास तेवतिया ने बताया कि मुरादनगर के बंबा रोड स्थित उखलारसी गांव के पास स्थित श्मशान घाट के जीर्णोद्धार के लिए नगर पालिका से करीब 50 लाख का टेंडर ठेकेदार अजय कुमार त्यागी के नाम पास हुआ था। उन्ही की देखरेख में इस श्मशान घाट की बाउंड्री वाल और बरामदे के अलावा अन्य निर्माण कार्य कराया जा रहा था।

यह भी पढ़ें: जिला कारागार की बैरक में मिला बंदी का शव, जेल प्रशासन में हड़कंप

रविवार काे हुए हाद्से में 40 लोग एक व्यक्ति का अंतिम संस्कार करने के लिए इस श्मशान घाट में आए थे। देर रात से ही लगातार बारिश हो रही थी। बारिश से बचने के लिए और मौन धारण करने के लिए लोग बरामदे के नीचे खड़े हो गए। अचानक ही इसी दौरान यह लेंटर भरभरा कर नीचे आ गिरा जिसके मलबे में लाेग दब गए।

यह भी पढ़ें: अंतिम संस्कार के बाद मौन धारण के कर रहे थे कि तभी हमेशा के लिए 'मौन' हो गईं 18 जिंदगियां

विकास तेवतिया ने कहा कि पालिका स्तर पर भी इसकी गहन जांच कराई जाएगी। उन्हाेंने यह भी कहा कि वह दाेषियाें के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हैं। प्राथमिक पड़ताल की रिपाेर्ट आनी हैं। फिलहाल आशंका जताई जा रही है कि जो निर्माण कार्य कराया जा रहा था उसमें घटिया सामग्री का इस्तेमाल हुआ है जिसके कारण यह बड़ा हादसा हुआ।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned