script Ghaziabad : बुजुर्ग से मारपीट मामले में FIR के बाद अब ट्विटर इंडिया के एमडी को भेजा लीगल नोटिस, 7 दिन के भीतर होना होगा थाने में हाजिर | ghaziabad police sent legal notice to md of twitter india | Patrika News

Ghaziabad : बुजुर्ग से मारपीट मामले में FIR के बाद अब ट्विटर इंडिया के एमडी को भेजा लीगल नोटिस, 7 दिन के भीतर होना होगा थाने में हाजिर

locationगाज़ियाबादPublished: Jun 18, 2021 11:53:36 am

Submitted by:

lokesh verma

गाजियाबाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने के बाद अब ट्विटर इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर को नोटिस भेजकर सात दिन के भीतर हाजिर होने के निर्देश दिए।

photo_2021-06-18_12-08-08.jpg
पत्रिका न्यूज नेटवर्क

गाजियाबाद. बुजुुर्ग से मारपीट और दाढ़ी काटने के मामले ट्विटर (Tweeter) पर शिकंजा कसना शुरू हो गया है। गाजियाबाद पुलिस (Ghaziabad Police) ने एफआईआर दर्ज करने के बाद अब ट्विटर इंडिया (Tweeter India) के मैनेजिंग डायरेक्टर को लीगल नोटिस ( Legal Notice) भेजकर सात दिन के भीतर हाजिर होने के निर्देश दिए हैं। नोटिस में कहा गया है कि कुछ लोगों ने सांप्रदायिक नफरत फैलाने के उद्देश्य से ट्वीट किए, लेकिन ट्विटर की ओर से मामले में कोई संज्ञान नहीं लिया गया। इसके साथ ही समाज में घृणा फैलाने वाले लेख को बढ़ावा देते हुए उसे वायरल होने दिया।
यह भी पढ़ें- गाजियाबाद : बुजुर्ग से पिटाई के मामले में Twitter समेत 9 पर FIR

उल्लेखनीय है कि गाजियाबाद पुलिस बुजुर्ग से मारपीट (Old Man Assault) और दाढ़ी काटने के मामले में लगातार कार्रवाई कर रही है। अब तक गाजियाबाद पुलिस इस मामले में 9 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। वहींं, ट्विटर के खिलाफ भी लगातार कार्रवाई कर रही है। एएनआई के अनुसार, गाजियाबाद पुलिस ने बुजुर्ग से मारपीट मामले में भड़काऊ वीडियो को लेकर ट्विटर इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर मनीष माहेश्वरी को लीगल नोटिस भेजा है। पुलिस ने नोटिस भेजकर सात दिन के भीतर माहेश्वरी को लोनी बॉर्डर थाने में आने के निर्देश दिए हैं, ताकि पुलिस उनके बयान दर्ज कर सके। बता दें कि मामले की जांच कर रहे अधिकारी ने यह लीगल नोटिस ट्विटर के मुंबई स्थित ऑफिस के पते पर भेजा है।
ये लिखा है नोटिस में

लोनी बॉर्डर थाने के जांच अधिकारी ने ट्विटर के एमडी मनीष माहेश्वरी सीआरपीसी की धारा 160 के तहत यह लीगल नोटिस भेजा है। नोटिस में पुलिस अधिकारी ने थाने में दर्ज एफआईआर का जिक्र करते हुए लिखा है कि कुछ लोगों द्वारा सांप्रदायिक नफरत फैलाने वाले ट्वीट किए, लेकिन ट्विटर ने इनका संज्ञान नहीं लिया। इतना ही नहीं ट्विटर ने सामाजिक सौहार्द को प्रभावित करने वाले ट्वीट को बढ़ावा भी दिया। साथ ही विवादित वीडियो को ट्विटर पर वायरल होने दिया गया।

ट्रेंडिंग वीडियो