मोदीनगर अग्निकांड: सीएम योगी के आदेश पर हुई जांच के बाद थानाध्यक्ष पर गिरी गाज

Highlights

- मोमबत्ती बनाने वाली अवैध फैक्ट्री में सात महिला समेत आठ लोगों के जिंदा जलने का मामला

- वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने तत्काल प्रभाव से थाना प्रभारी Modinagar देवपाल पुंडीर को निलंबित किया

- विभागीय जांच के बाद CM Yogi Adityanath को साैंपी जाएगी रिपोर्ट

By: lokesh verma

Published: 07 Jul 2020, 11:47 AM IST

गाजियाबाद. मोदीनगर अग्निकांड में चौकी इंचार्ज के निलंबन के बाद अब मोदीनगर के थानाध्यक्ष पर गाज गिरी है। एसपी ग्रामीण को विभागीय जांच में इंस्पेक्टर मोदीनगर का शिथिल पर्यवेक्षण प्रदर्शित होना पाया गया है और अवैध भंडारण एवं कैंडल फैक्ट्री के विरुद्ध सामयिक कार्रवाई नहीं करना पाया गया है। इस जांच के आधार पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने तत्काल प्रभाव से थाना प्रभारी मोदीनगर देवपाल पुंडीर को निलंबित कर दिया है। अब विभागीय जांच के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को रिपोर्ट साैंपी जाएगी।

यह भी पढ़ें- कोरोना से खौफजदा चार डाक्टरों और 40 नर्सों ने छोड़ी नौकरी, अपर मुख्य सचिव ने दिए FIR के निर्देश

बता दें कि मोदीनगर इलाके के गांव बखारवा में मोमबत्ती बनाने वाली अवैध फैक्ट्री में लगी आग के कारण सात महिला और एक किशोर की जान चली गई। इसके बाद स्थानीय लोगों का गुस्सा भी फूटा तो इसकी गूंज लखनऊ तक जा पहुंची। इस पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले का संज्ञान लेते हुए मृतक और घायलों के परिजनों को आर्थिक सहायता दिए जाने के आदेश दिए। साथ ही न्यायिक जांच के भी आदेश देते हुए खुद मुख्यमंत्री ने इस पूरे मामले की रिपोर्ट तलब की थी।

इसके बाद गाजियाबाद के एसएसपी कलानिधि नैथानी ने तत्काल प्रभाव से स्थानीय चौकी इंचार्ज रफीक अहमद को निलंबित कर दिया। वहीं अब जांच के बाद मोदीनगर के थानाध्यक्ष की भी इस मामले में लापरवाही मानते हुए थानाध्यक्ष देव पाल पुंडीर को निलंबित कर दिया गया है। अब जल्द ही मुख्यमंत्री को इस पूरे मामले की रिपोर्ट सौंपी जाएगी।

यह भी पढ़ें- ट्रक की टक्कर से बाइक सवार तीन युवकों की दर्दनाक मौत, तीनों के परिवारों पर टूटा दुखों का पहाड़

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned