डायबिटीज ने लिया खतरनाक रूप, अब इस उम्र के लोग भी हो रहे इसके शिकार, ये हैं लक्षण

ग्रेटर नोएडा के चिटहेरा गांव में डायबिटीज की वजह से चली गई 13 साल के किशोर की जान

By: sharad asthana

Published: 24 May 2018, 02:30 PM IST

ग्रेटर नोएडा। डायबिटीज साइलेंट किलर साबित हो रही है। अब यह कम उम्र के लोगों को भी अपना शिकार बना रही है। इसका एक उदाहरण ग्रेटर नोएडा में देखने को मिला। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ग्रेटर नोएडा के चिटहेरा गांव में डायबिटीज ने 13 साल के किशोर की जान ले ली। बताया जा रहा है कि उसकी बहन की भी इसी बीमारी की चपेट में आने से जान चली गई थी।उसकी भी 17 साल की उम्र में मौत हो गई थी।

यह भी पढ़ें: गर्मी: दुबई से ज्यादा रहा यूपी के इन शहरों का तापमान

13 साल के किशोर की हुई मौत

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ग्रेटर नोएडा के गांव चिटहेरा में रहने वाले 13 साल के छात्र की बुधवार शाम को दिल्ली के एक अस्पताल में मौत हो गई। उसकी मौत का कारण डायबिटीज बताई जा रही है। गांव में रहने वाले तेज प्रकाश सिंह के बेटे प्रवीन का दिल्ली के लोकनायक अस्पताल में इलाज चल रहा था। बताया जा रहा है कि प्रवीन 5वीं क्लास में पढ़ता था। परिजनों के अनुसार, उसे 6 साल की उम्र में डायबिटीज हुई थी। उसको टाइप-1 डायबिटीज बताई गई थी। उनकी बेटी की मौत तीन माह पहले हुई थी। वह भी डायबिटीज कह शिकार हुई थी। परिजनों के अनुसार, उनके परिवार में किसी को भी यह बीमारी नहीं है। तेज प्रकाश के पड़ोसी सुदीप ने बताया कि ये चार भाई-बहन थे। एक बहन की मौत भी डायबिटीज से हुई थी।

यह भी पढ़ें: 10 रुपये के स्टांप पर लिखा की नहीं लूंगा दहेज, लेकिन शादी के चार महीने बाद 40 लाख उड़ाए

बच्चों में इस वजह से भी हो सकती है डायबिटीज

इस बारेे में खतौली ब्लॉक के प्रभारी डॉ. अवनीश कुमार सिंह का कहना है कि बच्चों में डायबिटीज हो सकता है। इसकी कई वजह भी हो सकती है, जैसे स्टेयरायड या दवाइयों से भी ह बीमारी बच्चों को चपेट में ले सकती है। इसका एक कारण अानुवांशिक भी है। परिवार में अगर यह बीमारी किसी को हो तो बच्चों को होने की संभावना ज्यादा होती है। हां, बच्चे को डायबिटीज तो हो सकती है लेकिन इससे मौत होने की संभावना कम होती है। डॉ. अवनीश कुमार सिंह का कहना है कि डायबिटीज के कुछ लक्षण होते हैं। इनके दिखने के पर नजदीकी फिजीशियन से मिलकर सलाह लेनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: किशोरी रोजा रखना चाहती थी आैैर घर के लोग मना कर रहे थे, फिर उसने...

टाइप-1 डायबिटीज हो सकती है

वहीं, उत्तर प्रदेश डायबिटीज एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. सौरभ श्रीवास्तव का कहना है कि बच्चों या किशोरों में ज्यादातर टाइप-1 डायबिटीज होती है। उन्होंने कहा कि अगर इंसुलिन लेने के बाद खाना नहीं खाया तो शुगर लेवल कम हो जाता है, जो घातक साबित हो सकता है।

यह भी पढ़ें: अपराधियों का गढ़ बना गाजियाबाद, एक बार फिर व्यापारी की हत्या, आरोपी को पकड़ना पुलिस के लिए बनी चुनौती

लक्षण

- अगर किशोर या बच्चे का वजन उम्र के हिसाब से बहुत ज्यादा बढ़ गया हो

- बच्चा या किशोर उम्र के हिसाब से बहुत ज्यादा कमजोर होग या हो

- जहां पर वह टॉयलेट करता हो, वहां चीटियां आ जाती हों

- बहुत ज्यादा थकान लगती हो

- टॉयलेट बार-बार आना

यह भी पढ़ें: आज गंगा दशहरा के साथ बन रहे शुभ योग , पर इन राशि वालाें को मिलेगा लाभ

इतना होना चाहिए शुगर लेवल

- खाली पेट: 90-120 तक

- खाने के दो घंटे बाद: 140 तक

यह भी पढ़ें: यहां भजन संध्या आैर देवी-देवताआें के अपमान पर हिन्दू संगठनों में उबाल, कर डाला यह काम

बचाव

- कम फैट वाला आहार खाएं।

- सब्जियां, ताजे फल, साबुत अनाज और डेयरी उत्पादों का सेवन करें

- फाइबर का सेवन ज्यादा करें

- व्यायाम करें और धूम्रपान व शराब से दूर रहें

- पर्याप्त नींद लें

Show More
sharad asthana
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned