क्या वाकई खाड़ी में सवा लाख सैनिकों को भेजेगा अमरीका? ईरान ने कहा- आओ इंतजार कर रहे हैं

क्या वाकई खाड़ी में सवा लाख सैनिकों को भेजेगा अमरीका? ईरान ने कहा- आओ इंतजार कर रहे हैं

Siddharth Priyadarshi | Publish: May, 15 2019 01:46:13 PM (IST) | Updated: May, 15 2019 02:19:59 PM (IST) गल्फ

  • ईरान के साथ तनाव के चलते अमरीका ने बनाया है युद्ध का खाका
  • न्यूयॉर्क टाइम्स का दावा, खाड़ी में एक लाख बीस हज़ार सैनिक भेजने की तैयारी
  • राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने तत्काल सैनिक भेजने की योजना को किया खारिज

बगदाद। अमरीका ने ईरान पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। अमरीका ने घोषणा की है वह खाड़ी में करीब एक लाख बीस हजार सैनिकों को तैनात करेगा। अमरीकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स ने बताया है कि अमरीका करीब एक लाख बीस हजार सैनिक मध्यपूर्व में भेजने की तैयारी में है। हालांकिअमरीकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने इस बात का खंडन किया है कि ऐसी कोई योजना है लेकिन ईरान ने कहा है कि वह अमरीकी सैनिकों का बेसब्री से इंतजार कर रहा है।

पाकिस्तान में आतंकियों के खिलाफ बड़ा अभियान, हाफिज सईद का करीबी रिश्तेदार गिरफ्तार

सवा लाख सैनिकों को भेजेगा अमरीका !

अमरीकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स ने अपनी खबर में दावा था कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान के खिलाफ कार्रवाई के लिए एक लाख से अधिक सैनिकों को भेजने को मंजूरी दे दी है। लेकिन अमरीकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने सैनिक भेजने से जुड़ी खबरों का खंडन किया है। वाइट हाउस में प्रेस ब्रीफिंग के दौरान जब ट्रंप से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ये झूठी खबर है। हमने ऐसी कोई योजना नहीं बनाई है। ट्रम्प ने यह भी कहा था कि अगर सैनिक भेजने की नौबत आई तो हम और ज़्यादा सैनिकों को वहां भेजेंगे।' आपको बता दें कि न्यूयॉर्क टाइम्स ने अपने खबर में कहा था कि अमरीका के डिफेंस सिकरेटरी पैट्रिक शैनाहन ने मध्यपूर्व में 120000 सैनिक भेजने का फैसला लिया था।

कहीं इराक न बन जाए ईरान, दूसरे गल्फ वॉर की ओर बढ़ा अमरीका!

इर्रान का पलटवार

अमरीकी अखबार की खबर फैलते ही इर्रान में इसकी तीखी प्रतिक्रिया हुई है। ईरानी रिवोल्यूशनरी गार्ड्स के प्रवक्ता ने कहा, " हम अमरीकी सेना का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।" प्रवक्ता ने गल्फ न्यूज चैनल से बातचीत में कहा कि अगर अमरीका ने खाड़ी में कदम रखने की जहमत उठाई तो उनके सेना को माकूल जवाब दिया जाएगा। बता दें कि हल्के दिनों में अमरीका और ईरान के बीच तनाव अपने चरम पर पहुंच चुका है। अमरीका पिछले साल ईरान सहित छह देशों के बीच हुई परमाणु संधि से बाहर हो गया था। अभी कुछ दिन पहले ईरान ने इस बात का एलान किया था कि वह परमाणु संधि की कुछ शर्तों से बाहर आ सकता है। उसके बाद अमरीका और ईरान के बीच तनाव और भी गहरा गया था। सोमवार को सऊदी अरब के दो तेल टैंकरों को निशाना बनाए जाने के बाद ईरान और अमरीका के बीच युद्द भड़कने की आशंका और भी बढ़ गई। दोनों देशों ने इस घटना के लिए एक दूसरे को जिम्मेदार बताया है।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned