script हरदा ब्लास्ट में मौतों का आंकड़ा छुपा रही सरकार! हादसे के बाद कई लोगों का अतापता नहीं | Harda Blast Harda factory blast How many died in Harda factory blast | Patrika News

हरदा ब्लास्ट में मौतों का आंकड़ा छुपा रही सरकार! हादसे के बाद कई लोगों का अतापता नहीं

locationहरदाPublished: Feb 12, 2024 03:40:06 pm

Submitted by:

deepak deewan

क्या राज्य सरकार हरदा में पटाखा कारखाने में हुए ब्लास्ट में मौतों का आंकड़ा छुपा रही है! यह सवाल इसलिए उठ रहा है क्योंकि हादसे के बाद कई लोग लापता हैं। ब्लास्ट में मारे गए लोगों और घायलों की शिनाख्त हो चुकी है जिनमें से एक भी लापता लोगों में शामिल नहीं है। प्रश्न ये है कि ऐसे में लापता हुए लोग आखिरकार गए कहां!

mazdoor.png
लापता हुए लोग आखिरकार गए कहां!

क्या राज्य सरकार हरदा में पटाखा कारखाने में हुए ब्लास्ट में मौतों का आंकड़ा छुपा रही है! यह सवाल इसलिए उठ रहा है क्योंकि हादसे के बाद कई लोग लापता हैं। ब्लास्ट में मारे गए लोगों और घायलों की शिनाख्त हो चुकी है जिनमें से एक भी लापता लोगों में शामिल नहीं है। प्रश्न ये है कि ऐसे में लापता हुए लोग आखिरकार गए कहां!

प्रशासन ने आधिकारिक रूप से इस हादसे में 13 लोगों के मारे जाने की बात कही है। कांग्रेस नेताओं का आरोप है हादसे में दर्जनों लोगों की मौत हुई लेकिन सरकार आंकड़ा छुपा रही है। कई आमजनों ने भी यही बात कही है कि हताहतों की संख्या 13 से कहीं अधिक है। अब लापता लोगों के परिजन भी आगे आ रहे हैं जिससे यह आशंका गहरा रही है।

यह भी पढ़ें— हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट पर 45 लाख वाहन मालिकों के लिए बड़ी खबर

खंडवा की आरती धुर्वे हादसे के बाद से ही अपने पति सुनील की तलाश करते हुए यहां से वहां भटक रही है। सुनील भी पटाखा कारखाने में ही काम करते थे। खरगौन निवासी कैलाश परमार, हरदा की जेबुन बी भी लापता लोगों में शामिल हैं। करीब आधा दर्जन लोगों के परिजन इस संबंध में पुलिस को शिकायत कर चुके हैं।

इस बीच यह बात भी सामने आई कि दो शव इतने झुलस गए थे कि उनकी अभी तक शिनाख्त नहीं हो सकी है। अब पुलिस लापता लोगों के परिजनों के खून के सेंपल लेकर डीएनए टेस्ट कर शवों की शिनाख्त करने की कोशिश कर रही है।

गौरतलब है कि हादसे के दूसरे दिन कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष जीतू पटवारी मौके पर पहुंचे थे। इसके बाद उन्होंने मीडिया से चर्चा करते हुए आरोप लगाया कि प्रशासन ने कई शव जेसीबी चलवाकर मलबे में दबा दिए हैं।

खाली प्लॉट पर गड्ढा खोदकर दबाया मलबा
बैरागढ़ में रहने वाले अरुण चौहान का घर ब्लास्ट में पूरा बर्बाद हो गया। हादसे के बाद शुक्रवार को जब घर पहुंचे तो पीछे वाले खाली प्लॉट पर गड्ढा दिखाई दिया। करीब 20 फीट गहरा यह गड्ढा जेसीबी से खोदा गया था और उसमें बारुद या कुछ और डालकर मिट्टी से दबाया जा रहा था। जब उसने वहां मौजूद लोगों से पूछा कि यह क्या कर रहे हो तो उन्होंने कहा कि यहां गड्ढा गलती से खोदा गया है।

अरुण के अनुसार खोदी हुई जगह पर बेहद तेज दुर्गंध आ रही थी। इसके बाद पुलिसकर्मी ने उन्हें घर के पास से हटा दिया और घर तक जाने वाले रास्ते को बंद कर दिया। उन्होंने बताया कि फैक्ट्री के पीछे करीब 35 घर हैं लेकिन किसी को भी अब घर तक नहीं जाने दिया जा रहा है। पटाखे के धमाके में उनकी मां क्षमाबाई भी गंभीर रूप से घायल हुईं।

ट्रेंडिंग वीडियो